शनिवार, 4 सितंबर 2010

साहित्य-थिएटर

गिद्ध ने गुहार लगाई,
‘वे मुझे नोंच-नोंचकर खा रहे हैं’
बंदर ने बताया,
‘नकल करना बहुत बुरी बात है’
साँप ने सरगोशी की,
‘लगता है मेरी आस्तीन में कोई छुपा है’
शेर ने शिकायत की,
‘आखि़र कब तक मेरा हक़ मुझे नहीं मिलेगा’
गीदड़ ने ‘गायडेंस’ दी,
‘जो डर गया समझो मर गया’
लोमड़ी लाल-पीली होने लगी,
‘हद दर्जे के लालची हो’
कछुआ कुनमुनाया,
‘अब और आलस्य ठीक नहीं’
खरगोश खाट के नीचे से बोला,
‘हिम्मत है तो आजा सामने’
घुसपैठिया घुन्नाया,
‘मैं अपने घर पर किसी को ग़ैर-क़ानूनी कब्ज़ा
हरग़िज़ नहीं करने दूंगा’

साहित्य ने सबको सुना, समोया, देखा, झेला,
कहा

यहाँ तक कि बका

और हंसते-हंसते उसकी आँख से
आंसू निकल पड़े

अपने-अपने सुरक्षित स्वर्गों में बैठे
साहित्य के देवताओं ने घोषणा की,
‘ये तो ख़ुशी के आंसू हैं’

-संजय ग्रोवर


रचना तिथि: 30-07-1994


(तकरीबन सोलह साल पहले लिखी इस कविता को बचकाना मानकर एक तरफ़ फ़ेंक रखा था। आज सोचा दोस्तों के सामने रखने में हर्ज़ भी क्या है !)

37 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर और विचार युक्त रचना के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी कविता बहुत अच्छी लगी.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह रचना व्यंग्य नहीं, व्यंग्य की पीड़ा है। पीड़ा मन में ज़ल्दी धंसती है।

    फ़ुरसत में .. कुल्हड़ की चाय, “मनोज” पर, ... आमंत्रित हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह जनाब, इक प्रकार से आपने अपने स्टाइल से पंचतन्त्र की सी कथा में कविता वोह भी नेगेटव को पोसिटिव बनाते हुवे लिखी है .बात नए अंदाज़ में कही गयी इस लिए रोचक लगी.
    गिद्ध ने गुहार लगाई,
    ‘वे मुझे नोंच-नोंचकर खा रहे हैं’-- साब ,अपरोक्ष रूप में ओक्सितोक्सिन के ज़हर से मेरे प्रदेश के तो सारे गिद्ध मारे जा चुके हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  5. व्यंग्य लिखता हूँ इसलिए व्यंग्य दिखता है .
    एकदम चोखी कविता
    एक अच्छे ब्लॉग से जुड़ा हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  6. ....और यही सब कुछ साहित्य के भीतर भी ज्यों का त्यों हुआ...!

    उत्तर देंहटाएं
  7. लाजवाब व्यंग. बचपन का पढ़ा कुछ याद आ गया.
    "बहरा बोला साफ़ सुनाई दे रहा
    डाकू दल दल का शोर
    डाकू दल दल का शोर!!!
    कसम अंधे ने खाई
    वो देखो बारह डाकू
    पड़ रहे दिखाई
    लूला बोला
    दो दो हाथ दिखाएँ
    लंगड़ा बोला भाग चलो
    वरना मर जाये .."

    उत्तर देंहटाएं
  8. ....बहुत सार्थक प्रस्तुति
    शिक्षक दिवस की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  9. sanjay ji
    bahut majedaar blo hai. jhoot pahan kar achhe lagte ho kya khoob hai. badhai.

    sharad joshi a par neye dhang se likah hai.

    -mmsaral

    (VIA EMAIL)

    उत्तर देंहटाएं
  10. ये साहित्य भी अच्छी दशा को प्राप्त हुआ है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahoot hi sunder vyang hai sahotya ki gotbandi par...

    very nice------------

    उत्तर देंहटाएं
  12. bahoot hi sunder vyang hai sahotya ki gotbandi par...

    very nice------------

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahoot hi sunder vyang hai sahotya ki gotbandi par...

    very nice------------

    उत्तर देंहटाएं
  14. bahoot hi sunder vyang hai sahotya ki gotbandi par...

    very nice------------

    उत्तर देंहटाएं
  15. संजय ग्रोवर जी

    कमाल की रचना लिखी है …
    बधाई शब्द पर्याप्त नहीं है इस बार …

    अपने-अपने सुरक्षित स्वर्गों में बैठे
    साहित्य के देवताओं ने घोषणा की,
    ‘ये तो ख़ुशी के आंसू हैं’


    वाकई क्या लिखा है …

    ऊऽऽऽय्य्य्याऽऽह !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  16. bahut hi badhiya...ye to wine ki us botal ki tarah hai jo barso pahale aapne fek diya par wakt ke sath iska swad badhata gaya...

    उत्तर देंहटाएं
  17. अपने-अपने सुरक्षित स्वर्गों में बैठे
    साहित्य के देवताओं ने घोषणा की,
    ‘ये तो ख़ुशी के आंसू हैं’

    उत्तर देंहटाएं
  18. Sanjay jee, badi shandaar aapki advisory hai........jo bade pyare pyare advise de rahi hai...

    bahut khhubsurat..:)

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत अच्छी....लाजवाब....मज़ा आया

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी हर प्रस्तुति की तरह अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  21. bahut achha tanz kiya hai aapne aaj ki vyavstha par

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत अच्छी , प्रभावशाली अभिव्यक्ति .विसंगतियों को जोड़ कर जो सर्जन किया वह अभिनव तथा प्रशंशनीय है.
    radheshyam saoo

    उत्तर देंहटाएं
  23. करारा व्यंग्य है ! बधाई !


    -Rekha Maitra


    (VIA EMAIL)

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....