रविवार, 19 सितंबर 2010

अफ़वाहें अमर हैं~~~( पूरी कविता )

‘जो यथार्थ को व्यक्त करता है
वह अफ़वाहों में मार दिया जाता है !’
(उदय प्रकाश)



अफ़वाहें अमर हैं (पूरी कविता)

(08-09-2010)


गुट-विरोधी गुंडों का गुट
उनकी लटें सुलझाकर
चोटी गूंथ रहा है

साहित्यिक सरगनाओं की
गणित-निपुण आवारगी
उनकी रक्षा में तैनात है

उन्हें किसका डर है

वे कलात्मक हैं, अमूर्त्त हैं,
हुनर हैं

अफवाहें अमर हैं

धक्के खाती
घर को लुटाती
सच्चाई तस्लीम न होने पाई
अफ़वाहों के भारी विरोध के चलते

अब
मौज-मजे की बारी है
अफ़वाहों का पहला नंबर है

अफवाहें अमर हैं

.........................


आएंगे बुद्ध, कबीर, जीसस
कभी-कभी बरसेंगे बादल की मानिंद
कोई ओशो कोई तसलीमा
दस-पाँच को जगाएंगे
बीस-तीस को हर्षाएंगे

क्या कर पाएंगे

अहा इस आसमान की पसराहट तो देखो
सोया है चिंतनरत
सालों से शाश्वत

पता नहीं क्या करता है क्या नहीं करता
कुछ करता भी है कि नहीं करता
मगर इस शून्य की चौधराहट तो देखो

अफ़वाहें भी ऐसे ही पुरअसर हैं
नहीं हैं फिर भी हर जगह हैं

ससुरी चौबीस घण्टे की ख़बर हैं

भाई मेरे, मान भी लो

अफ़वाहे अमर हैं


बाबूजी, ज़रा इस प्रांगण में आओ
कुर्सी-मेज़ों-काउंटरों से सजे
रणस्थल में पधारो

कुछ भी नहीं हो रहा
पर सब कुछ युद्ध-स्तर पर हो रहा है
होगें तुम्हारे पास आर.टी.आई. के झुनझुने
पर यहां
‘अभी आएगी’, ‘आने ही वाली है’
जैसे
रेल की सीटी के स्वर हैं

अफ़वाहे अमर हैं

अफ़वाहें कभी मरतीं नहीं
हां मर चुका होता है
उन्हें फैलाने वाला
फैलाने से पहले ही

अपनी-अपनी नियति है
अपना-अपना असर है

अफवाहें अमर हैं
08-09-2010


-संजय ग्रोवर


अधूरी कविता का लिंक

( यूं तो कविता पूरी हुई पर नहीं कहता कि इसमें सुधार और विस्तार की गुंजाइश नहीं है। )

27 टिप्‍पणियां:

  1. अफ़वाहें कभी मरतीं नहीं
    हां मर चुका होता है
    उन्हें फैलाने वाला
    फैलाने से पहले ही

    अपनी-अपनी नियति है
    अपना-अपना असर है
    लाजवाब और सत्य, सूक्षमावलोकन

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या सच में ...
    अफ़वाहे अमर हैं...मुझे नहीं लगता सर कभी ना कभी तो अफवाहों के बादलों का धुन्ध जिन्दगी के आसमाँ से हट ही जाता है..भले ही वों कितना भी गहरा और मोटा हो.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. अफवाहें अमर हैं..... बेहतरीन!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुख्‍य द्वार से बैठक तक हो आया. अच्‍छा सज रहा है आपका संवादघर.

    उत्तर देंहटाएं
  5. संजय साब, कविता पूर्णता के शबाब की ओर जाते में मेरी तुच्छ सोच अनुसार थोडा राह भटक गयी लगती है
    आएंगे बुद्ध, कबीर, जीसस
    कभी-कभी बरसेंगे बादल की मानिंद
    कोई ओशो कोई तसलीमा
    दस-पाँच को जगाएंगे
    बीस-तीस को हर्षाएंगे
    महात्मा बुद्ध, कबीर, जीसस ओर किसी हद तक ओशो तो कभी कभी नहीं सदा ही अमृत वर्षा कर रहे हैं.(कोई) तसलीमा का इन के साथ कोई मेल नहीं लगा .यदि आपने ओशो को कंट्रोवरसि के आधार पर तसलीमा जी के साथ रखा है तो यह भी सूरज ओर जुगनू के साथ जेसा है. कहाँ ओशो तर्क के अकाट्य चिंतक ओर कहाँ ओसत दर्जा ये लेखिका महोदया (उपन्यास लज्जा जो तसलीमा जी की सबसे चर्चित पुस्तक है, मुझे लेखन के आधार पर ओसत ही लगी .अधिकांश विद्वान टीकाकारों का भी यही मानना है.)बहरहाल मेरी छोटी बुद्धि से गलती हुवी तो माफ़ी चाहता हूँ .मेरा अनाम सा नाम वेसे ही मुझे रुसवा करता रहा है .इकबाल साब का शेर कोट करना चाहता हूँ
    वाइज़ ए तंगनज़र ने मुझे काफ़िर जाना /ओर काफ़िर यह समझता है मुसलमा हूँ मैं. अत किसी पूर्वाग्रह से ग्रसित ना मानते हुवे यदि कोई भूल मेरी समझ की रही है तो उसी रूप में लें .

    उत्तर देंहटाएं
  6. गज़ब का प्रवाह, बिम्ब, अभिव्यक्ति!!!

    बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!

    काव्य के हेतु (कारण अथवा साधन), परशुराम राय, द्वारा “मनोज” पर, पढिए!

    उत्तर देंहटाएं
  7. @shaffkat
    शफ़ाकत साहब, ओशो और तसलीमा में क़ाबिले-ज़िक्र समानता यह है कि न तो ओशो ने कभी कहा कि मैं हिंदू हूं और मुझे इसपर गर्व है। और न ही कभी तसलीमा ने कहा कि मैं मुस्लिम हूं और इसपर गर्वान्वित हूं। मेरी समझ में निष्पक्ष और निडर चिंतन की यह पहली सीढ़ी है। तसलीमा तो बहुत बाद में चर्चित हुईं, ओशो का प्रशंसक मैं पहले से था। पर यह भी सच है कि तमाम विद्रोही चिंतन के साथ ही धार्मिकता, अध्यात्मिकता और ध्यान जैसे शब्द ओशो के काम और नाम के साथ जुड़े थे। और ऐसे शब्द जुड़े हों तो समाज में स्वीकृति मिलने में थोड़ी आसानी तो हो ही जाती है। ओशो के आस-पास बड़े-बड़े आश्रम और संपन्न सन्यासियों की भीड़ रही। तसलीमा एक महिला हैं और उनके साथ ऐसा कुछ नहीं जुड़ा है।
    जहां तक साहित्यिक स्तर की बात है तो मैं विचारकों को इस तराज़ू पर तौलना सही नहीं समझता। इस तरह नापेंगे तो बुद्ध, कबीर से लेकर ओशो तक सभी को खारिज़ करना पड़ेगा। ओशो ने तो अपने हाथ से कुछ लिखा ही नहीं, सिर्फ प्रवचन दिए। ज़िंदगी भर वे श को स कहते रहे। तो इतनी सी बात पर हम उनके सारे चिंतन को बेकार ठहरा दें क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह कविता आपको भी अमर कर जायेगी

    उत्तर देंहटाएं
  9. अफ़वाह फैला कर इराक को तबाह कर डाला गया। अफ़वाहों का कारखाना हिंदी के ब्राह्मणवादी साहित्यकारों-मठाधीशों और उनके चेलों का भी चलता है। अपनी बेटी, दामाद, चेले-चपा्टी, जात-बिरादर की काबिलियत की अफ़वाह, और दूसरे के बारे में बर्बरता और शैतानियत के दरजे की घटिया अफवाह।
    बहुत अच्छी और मारक कविता!
    आपके बारे में भी जरूर अफ़वाहें होंगी। पता करिये, माथा घूम जायेगा।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. @neeraj pasvan
    नीरज जी, पहले तो आपका और उन सभी मित्रों का बहुत-बहुत आभार जिन्होंने ग़ज़लों की चोरी के मामले में अपनी टिप्पणियों से मेरा हौसला बढ़ाया। बाक़ी, नीरज जी यह तो आप भी जानते होंगे कि हम जैसे लोगों को तो अफ़वाहों के बीच रहने की आदत या तो पड़ ही जाती है या डालनी पड़ती है। ऐसे में आप जैसे मित्रों के दो समझदारी भरे शब्द ही काम कर जाते हैं। बहुत आभार। आभार शब्द काफ़ी तो नहीं फिर भी...

    उत्तर देंहटाएं
  11. नर हो न निराश करो मन को .. अफवाहों के अँधेरे इन्ही ( गौतम , कबीर ...) दीयों की टिमटिमाहट से मिट जायेंगे ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही शानदार रचना ! विशेष रूप से आसमान और शून्य के बिम्ब बहुत प्रभावी बन पड़े हैं ! मेरी बधाई एवं अभिनन्दन स्वीकार करें !

    उत्तर देंहटाएं
  13. i couldnt understand this lne ...
    अफ़वाहें कभी मरतीं नहीं
    हां मर चुका होता है
    उन्हें फैलाने वाला
    फैलाने से पहले ही

    उत्तर देंहटाएं
  14. अपनी-अपनी नियति है
    अपना-अपना असर है

    अफवाहें अमर हैं

    -एकदम सच बयानी-


    हवा चले बिन अफवाहों के, मुमकिन ऐसा कहाँ रहा
    बिना मरे जिन्दा रह पाते, अब दिन ऐसा कहाँ रहा.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बयारें थीं उसे आन्धी बता दी

    हवाओं ने हवाओं को हवा दी

    गई जड़ से न बीमारी तुम्हारी
    दवाओं ने अभी बेशक दबा दी

    उत्तर देंहटाएं
  16. aap bayaan karte rahe, hum bhi hu ha karte rahe ,kuch dil ne mani -kuch dimag ne nakaari, u hi jane anjaane afvaho ko hum bhi hawaa dete gaye,,,,, kamna billore mumbai.

    उत्तर देंहटाएं
  17. आप लोगों ने माहौल शायराना बना दिया तो दो-तीन शेर मुझे भी अपने याद आ गए। एक चचा ग़ालिब का भी।

    पागलों की इस कदर कुछ बदगु़मानी बढ़ गयी
    उनके हिस्से की दवा भी हमको खानी पड़ गयी

    चारागरी पे अपनी उसको यकीं नहीं था
    वो ज़हर लेके आया, मेरी दवा के साथ

    मौसम ने रंग बदला तो ये भी मैंने देखा
    बस आंधियां ही आयीं, ताज़ी हवा के साथ
    -ख़ाकसार

    मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौरे-जाम
    साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में
    -ग़ालिब

    उत्तर देंहटाएं
  18. sanjay ji,
    afwaahein na hon to aman chain na aa jaye, fir jivan mein umang kaha se aaye...afwaahein jangal ke aag ki tarah failti hain aur dhu dhu kar hamare waqt ko jalati hai...par maza bhi aata hai na, tabhi to afwaahein garm hoti hamesha. thandhi nahi hoti...
    badhiya likha hai, badhai sweekaaren.

    उत्तर देंहटाएं
  19. एक सुधार कर दूं। कविता पूरी होने की तारीख 17-09-2010 है। मैंने ग़लती से 08-09-2010 लिख दी है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. पता नहीं क्या करता है क्या नहीं करता
    कुछ करता भी है कि नहीं करता
    मगर इस शून्य की चौधराहट तो देखो

    अफ़वाहें कभी मरतीं नहीं
    हां मर चुका होता है
    उन्हें फैलाने वाला
    फैलाने से पहले ही

    afvah vishay par bahut gahari soch ke sath sundar muktchhand rachana . bahut badhai sanjayji.

    उत्तर देंहटाएं
  21. सचमुच अफवाहें शक्तिशाली और अमर ही हुआ करती हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  22. afwayen amar hain........:)
    kuchh bhi kar sakti hai..........aur kahin bhi!!
    badi pyari bimb ko chuna hai aapne, ek dum upyukt!!

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....