रविवार, 26 सितंबर 2010

मालिक ने हर इंसान को इंसान बनाया

आईए.......2
पिछला भाग पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

दलों, वादों, धाराओं आदि द्वारा बड़े किए गए, खड़े किए गए और पाले-पोसे गए बुद्विजीवियों की मजबूरी समझी जा सकती है। हाई कमांड के होते उन्हें ज़िंदगी-भर कार्य-कर्त्ता ही रहना होता है, वे कभी (अगर उनके अपने कुछ विचार हों भी) विचारकर्त्ता नहीं बन सकते। दल, वाद या धारा से कार्यकर्त्ता का रिश्ता कुछ-कुछ ऐसा होता है जैसा एक रुढ़ सोच के तहत चलने वाले परिवार में एक धाकड़-मर्द पति से एक पर्दानशीं पत्नी का होता है। पर्दे के भीतर से ‘हां’ मे सिर हिलाने की आज़ादी भर होती है।
विचित्र विडम्बना है कि दल, मठ, गुट आदि-आदि की सरपरस्ती या छत्रछाया में कोई यह तक मशहूर करने में सफ़ल हो जा सकता है कि तसलीमा नसरीन तो वास्तव में स्त्री-विरोधी हैं। सारा संघर्ष तो दरअसल हमने किया था 2010 में जबकि यह चालाक तसलीमा 2005 में ही क्रेडिट ले उड़ी। अब मौज-मजे की बारी आयी है तो तसलीमा का कहीं पता नहीं चल रहा और मजबूरी में हमें मज़े करने पड़ रहे हैं। इतनी धोखेबाज़ हैं तसलीमा।
कॉलोनी के बेईमान दुकानदार के लिए सुविधा हमेशा इसी में होती है कि उसके प्रतिद्वंदी दुकानदार भी बेईमान हों। ईमानदार प्रतिद्वंदी उसके लिए सबसे बड़ा सिरदर्द होता है। उसके लिए रास्ता अकसर यही होता है कि या तो वो ईमानदार दुकानदार भी बेईमान बन जाए या फ़िर ‘सीधी तरह से न माने तो’, उसे किसी भी तरह बेईमान ‘घोषित’ और ‘सिद्व’ कर दिया जाए। फ़िर भी न माने तो और भी रास्ते हैं। (अपने समय की कई प्रखर प्रतिभाओं को ‘पागल’ सिद्ध कर दिए जाने को हमने सिर्फ़ सुना ही नही देखा भी है)
ठीक इसी तरह एक कट्टरपंथ का अस्तित्व भी दूसरे कट्टरपंथ के रहते ही संभव होता है। यह देखना दिलचस्प भी होता है और दुखद भी कि एक सांप्रदायिकता दूसरी सांप्रदायिकता (अगर प्रतिद्वंदी सांप्रदायिकता भी धर्मनिरपेक्षता का पोज़ बनाकर आ जाए तो और भी आसानी से) को तो स्वीकार करने पर तैयार हो जाती है मगर ‘इंसानियत’ शब्द का ज़िक्र भी आने से वह या तो हंसी उड़ाना शुरु कर देती है या इंसानियत की बात करने वाले को सांप्रदायिक सिद्ध करने पर तुल जाती है।
सुबह एफ एम पर मुझे अपना प्रिय गीत सुनने को मिला:

तू हिंदू बनेगा न मुसलमान बनेगा
इंसान की औलाद है, इंसान बनेगा

मगर मैं सोचता रहा कि हिंदी फ़िल्मी गीत जिनमें से हम पता नहीं कैसी-कैसी मिसालें ढूंढने में कामयाब हो रहते हैं, उस खज़ाने में उपरोक्त अर्थ वाले और कितने गीत हैं ?

मालिक ने हर इंसान को इंसान बनाया
हमने उसे हिंदू या मुसलमान बनाया

मुझे नहीं पता कि साहिर नास्तिक थे या आस्तिक और ‘मालिक’ का ‘अस्तित्व’ इस गीत में उन्हांेने अपनी मर्ज़ी से स्वीकार किया है या किसी मजबूरी में यह शब्द इस्तेमाल किया है मगर अपने अनुभव से इतना ज़रुर कह सकता हूं कि नास्तिक तो मुझे आज तक ऐसा कोई नहीं मिला जिसे यह गीत बुरा लगता हो।
मगर क्या आप इससे मिलते-जुलते अर्थ के भी पाँच और हिंदी फ़िल्मी गीत बता सकते हैं !?

इंसानियत जो सारे मसलों का हल बन सकती है उस पर बात करने में इतनी हिचकिचाहट क्यों !?

(जारी)

13 टिप्‍पणियां:

  1. nit naye college khul rahe hai ...lakin ek bhi aisa college nahi khulta jaha insaniyat ka paath paraya jata hoo.....

    इंसानियत जो सारे मसलों का हल बन सकती है उस पर बात करने में इतनी हिचकिचाहट क्यों !?

    bahut khoob .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. ''मालिक ने हर इंसान को इंसान बनाया
    हमने उसे हिंदू या मुसलमान बनाया''

    मुझे लगता है कि साहिर के इस गीत में मालिक का आशय ईश्वर नहीं होना चाहिए। क्योंकि प्रत्येक ईश्वर किसी धर्म विशेष से सम्बंधित होता है। ईश्वर कभी धर्म निरपेक्ष नहीं होता। और प्रत्येक ईश्वरीय सत्ता यह कहती है कि तुम्हारा जन्म इस धर्म में हुआ, यह तुमपर बहुत बड़ा उपकार है। तो इस तरह तो ईश्वर स्वयं साम्प्रदायिकता का जनक सिद्ध हो जाता है। :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. पता नहीं यह गाना आपकी सुचि में फिट बैठेगा या नहीं पर लिख रहा हूँ।
    यह गाना फिल्म पहले आप 1944 का है और स्व, रफी साहब का पहला गाना भी है|
    हिन्दुस्तां के हम हैं, हिन्दुस्तां हमारा
    हिन्दू मुस्लिम दोनों की आँखों का तारा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Aap sabka bahut-bahut shukriya. darte-darte hi sahi, par isi khulepan ki ummid thi aap sab se. Bahut Aabhar.
    @सागर नाहर
    Sagar bhai, yah gana mulatah desh-prem ka gana hai jabki "hindu banega.." Isaaniyat se prem par zor deta hai. Amitabh ki ek film deshpremi ka ek geet 'Aapas me prem karo deshpremiyo..' in donoN gaanoN ke nazdeek hai. Iske liye aapka bahut dhanyawad ki is gaane se pahla parichaya aapki badaulat ho raha hai, youtube par dhuNdhkar pura sunuNga.
    @ज़ाकिर अली ‘रजनीश’
    Zaakir bhai Ishwar dharm-nirpeksha ho bhi kaise sakta hai. Har dharm ne to apna-apna alag-alag Ishwar gadh liya hai. Aapki baat vichaarniye hai.
    @अर्चना गंगवार
    Aapke sujhaav par shiksha- mantralaya ko vichar karna chaahiye. Aur yah baat maiN kori ya filmi bhaavukta ke vashibhut hokar nahiN kah rahaa.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ना मैं भगवान् हूँ, ना मैं शैतान हूँ
    दुनिया जो चाहे समझे, मैं तो इंसान हूँ
    फिल्म= मदर इंडिया
    इंसान का इंसान से हो भाईचारा
    यही पैगाम हमारा
    फिल्म= पैगाम

    abhi to ye 2 hi zehn mei aaye haiN

    उत्तर देंहटाएं
  6. हाँ ! एक और याद आया ...
    "प्यार बांटते चलो, प्यार बांटते चलो
    क्या हिन्दू , क्या मुसलमाँ ,
    हम सब हैं भाई-भाई..."
    गायक= किशोर कुमार
    फिल्म= याद नहीं आ रही
    और...
    साहिर साहब का ही लिखे एक गीत का अंतरा
    "जज़्बात भी हिन्दू होते हैं !
    चाहत भी मुसलमाँ होती है !!
    दुनिया का इशारा था , लेकिन ,
    समझा ना बेचारा दिल ही तो है..."
    गायक= मुकेश
    फिल्म= दिल ही तो है

    उत्तर देंहटाएं
  7. ना मैं भगवान् हूँ, ना मैं शैतान हूँ
    दुनिया जो चाहे समझे, मैं तो इंसान हूँ

    इंसान का इंसान से हो भाईचारा
    यही पैगाम हमारा

    haN in donoN geetoN ko hum milte-julte arthoN ke kah sakte haiN. DonoN hi mujhe priye haiN.

    उत्तर देंहटाएं
  8. Arkjesh Kumar said :

    बहुत सुंदर गीत है। ऐसे गीत विरले हैं ।
    जैसे एक और गीत है - नन्‍हें मुन्‍ने बच्‍चे तेरी मुट्ठी में क्‍या है । मुट्ठी में है तकदीर हमारी, हमने किस्‍मत को वश में किया है।

    यह प्रश्‍न कि क्‍या हिंदू और मुसलमान बनने से इंसान क्‍या इंसान नहीं रह ज...ाता ?

    मुझे लगता है कि अपने आप को हिंदू मुसलमान आदि अ‍ादि महसूस करने वाले इंसानों की इंसानियत दूसरे धर्म के लोगों के प्रति कमजोर और कंडीशन्‍ड हो जाती है। हमें आपके अल्‍लाह तभी तक प्‍यारे हैं जब तक कि आप हमारे बजरंगबली को गरिया न दें । ऐसी स्थिति उत्‍पन्‍न होने पर अच्‍छे खासे नास्तिक का भी ईमान डिग जाता है कि बहुत हो गया अब मैं तुझे बताता हूं कि तेरे फलां की औकात क्‍या है ।

    धर्म को लेकर लोगों को इंसायित से हैवानियत तक पहुंचाना बहुत आसान है। इसी का फायदा हर धर्म के सियासतदां उठा रहे हैं। लोगों को ऐसे पाठ पढाए जाते हैं बचपन से, कि अमुक चीजों के पीछे लोग लडने मरने से इंकार नहीं कर सकते।

    यही है वजह कि हिंदू मुसलमान की औलाद इंसान नहीं बन पाता हिंदू मुसलमान बन जाता है। हमारा समाज इंसान नहीं हिंदू मुसलमान वगैरह बनाता है।
    इंसान वह है जो ऊपरी प्रतीकों के बाद भी दिल में इंसानियत का जज्‍बा रखता है और कट्टरता को अपने जेहन में कभी पनपने नहीं देता।

    इसीलिए यह गाना बहुत ही प्रासंगिक है।

    FB par

    उत्तर देंहटाएं
  9. गीत शायद किस्मत चित्र का है
    १९३९ लीला चिटनिस ओर अशोक कुमार
    दूर हटो ऐ दुनिया वालो हिन्दुस्थान हमारा है
    यहाँ हमारे मस्जिद मंदिर ओर सिखों का गुरुदुआरा है
    तब हम एक थे
    आज भी होना चाहये ऐसा

    उत्तर देंहटाएं
  10. ना कोई हिंदू पैदा हुआ ना मुसलमान
    पैदा होता है इंसान
    पैदा होते ही एक नाम निकलता
    ऊपर वाले का
    हिंदू में ओउम्,मुस्लिम आमीन ,सीख धर्म में एकम ओंकार,अंगरेजी में निकलता है ऐ मन
    तो हममे नफरत क्यों बरपी

    उत्तर देंहटाएं
  11. सबसे बड़ा धर्म इन्सानियत का धर्म है
    निर्धन की सेवा ,रोगियों को बिना मूल्य के ओषधी बाटना आदि आदि
    जिससे मन को शांति मिलती है
    धन ,मकान आदि सभी यहीं छूट जायेंगे
    नग्न पैदा हुए हैं कफ़न पहले जलेगा बाद में मिटटी का शारीर
    पुरानी चलचित्र का शीशमहल का याद आया
    जाएगा जब यहाँ से कुछ भी ना साथ होगा
    केवल दो गज कफ़न का टुकड़ा तेरा लिबास होगा
    देखा जाए तो जानवर भी नग्न है हम तो हर समय कफ़न ओढ़े रखते है परिधान का

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....