गुरुवार, 9 सितंबर 2010

तुम्हारे हंसने पे आता है हंसना

ग़ज़ल


ज़ुबां तक बात गर आई नहीं है
कहूं क्या ! उसमें सच्चाई नहीं है


तुम्हारे हंसने पे आता है हंसना
ज़रा भी इसमें गहराई नहीं है


अदाकारी करे जो प्यार में भी
वो चालाकी है अंगड़ाई नहीं है


जो मेरी अक्ल को पत्थर बना दे
कि तुमने वो अदा पाई नहीं है


हैं मेरे पास सब नक्शों के नक्शे
तुम्हे आवाज़ तक आई नहीं है
तेरी आवारगी में भी गणित है
अक़ल ये हमको आज आई नहीं है


तू हिंदू हो या मुस्लिम, मैं ये जानूं
तुझे इंसानियत आई नहीं है


शुकर है कुछ तजुरबे काम आए
वगरना कौन हरजाई नहीं है


-संजय ग्रोवर

31 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छा लिखा है आपने। वैसे मेरा एक विचार था कि तुकबंदी में सभी लाइनों में 'नहीं है' शब्द आये हैं। इसे "है नहीं" कर देने से और अच्छा रहता। वैसे ये सिर्फ मेरा विचार है, कोई जरूरी नहीं कि ये सही ही हो।

    उत्तर देंहटाएं
  2. तेरी आवारगी में भी गणित है
    अक़ल ये हमको आज आई नहीं है
    aapne sundar likha hai . badhayi

    उत्तर देंहटाएं
  3. संजय साब , कई वक्त के बाद मुक्कमल हसीन गज़ल पढ़ी है.सभी शेर कमाल के हैं और मस्त कर रहे हैं.कई बार पढ़ चुका और दिल नहीं भरा है .ये दो शेर एक दम नए और पुरअसर ,डुबो गए साहब
    अदाकारी करे जो प्यार में भी
    वो चालाकी है अंगड़ाई नहीं है
    शुकर है कुछ तजुरबे काम आए
    वगरना कौन हरजाई नहीं है
    कुछ ख्याल सा आ रहा है , अर्ज कर रहा हूँ
    जरा हंस-मुस्करा कर बोले साहब
    फँस गए हम बेचारे भोले साहब
    दुनिया का मुझे तजुर्बा नहीं है
    तजुर्बे ने मुझे बता दिया है

    उत्तर देंहटाएं
  4. तू हिंदू हो या मुस्लिम, मैं ये जानूं
    तुझे इंसानियत आई नहीं है bahut khub ..behtreen likha hai aapne

    उत्तर देंहटाएं
  5. तुम्हारे हंसने पे आता है हंसना
    ज़रा भी इसमें गहराई नहीं है
    ...........
    लाजवाब !!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ख़ूब!
    अँगड़ाई की अदाकारी हमें ख़ूब जमी। ग़ज़ल पूरी अच्छी है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. गुड्डोदादी (चिकागो अमेरिका से )10 सितंबर 2010 को 2:31 am

    बहुत खूबसूरत शब्द

    नदीम अख्तर जी ने सही लिखा

    उत्तर देंहटाएं
  8. umda ,bandhi hui mukammal ghazal.
    Manana hi padega aapki bhavpravanta aur samvedanaparak drishti ko.
    Badhai ,ek khoobsoorat rachna ke liye.
    sasneh,
    dr.bhoopendra
    jeevansandarbh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. तू हिंदू हो या मुस्लिम, मैं ये जानूं
    तुझे इंसानियत आई नहीं है
    बहुत अच्छा। हम सब बन जाते हैं, इंसान ही नहीं बनते।

    अंक-8: स्वरोदय विज्ञान का, “मनोज” पर, परशुराम राय की प्रस्तुति पढिए!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच कहूँ तो आपकी ग़ज़लें पढने के बाद आपके कलम को चूमने को दिल करता है ...लेकिन लेकिन....एक दिक्कत है ....क्या है की मुझे पता लगा है की ये बैगेर keypaed के संभव नहीं है.. सो मजबूर हूँ सर...बाकी आपकी ग़ज़ल हर आवक सी कर जाती है...एक गहरा सन्नाटा छोड़ते हुए ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. अदाकारी करे जो प्यार में भी
    वो चालाकी है अंगड़ाई नहीं है

    -वाह! क्या बात है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. bahut achche sabdon ka uchit sthan per uchit prayog kiya hai badhai sweekaren.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. कई बार मेल से आपका लिंक मिला.. कभी इस बहाने, कभी उस बहाने छूत गया यहाँ आना.. आज सोचा क्लिक करता हूँ और क्लिक करते ही घंटी बजी दिलो दिमाग़ में.. सारे सारे शेर बेहतर, किसे कोट करूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. संजय, ये खूब रही:-

    शुकर है कुछ तजुरबे काम आए
    वगरना कौन हरजाई नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
  15. हर शेर शानदार...
    सुन्दर ग़ज़ल !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. your ghazal is good.congrats.
    please join my blog dil ki baat
    for ghazals please click here http://ntushar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....