गुरुवार, 25 दिसंबर 2008

‘व्यंग्य-कक्ष’ में *****लोग क्या कहेंगे*****

सरल कुमार पूर्वाग्रहों से रहित एक सरल स्वभाव का आदमी था। जैसे कि दूसरे रंगों के पहनता था वैसे ही एक दिन उसने नारंगी कपड़े पहन लिए। लोग बोले कि वह फलां दल में शामिल हो गया है। सरल कुमार ने हैरान और परेशान होकर हरे रंग के कपड़े पहन लिए तो लोग कहने लगे कि देखो, पट्ठा अब ढिकां दल में शामिल हो गया है, दल बदलू कहीं का। सरल कुमार ने बाल छोटे करवा लिए। लोग बोले कि बीमार लग रहे हो। सरल कुमार ने लम्बे बाल कर लिए। लोग बोले क्या लड़कियों जैसा हुलिया बना रखा है। ज्यादा हीरो बनता है। सरल कुमार ने पहले जैसे कर लिए, न बड़े न छोटे। लोग बोले कि साला वोई का वोई रहा। इस की जिंदगी में कभी कोई चेन्ज नहीं आ सकता। सरल कुमार धीमे-धीमे सीधी चाल चला। लोग बोले जनानिया है। सरल कुमार तन के चला। लोग कहने लगे कि साले की अकड़ तो देखो। ऐसी काया और कैसी चाल। एक दिन ठोंक दो ससुर को तब मानेगा।
सरल कुमार ने विनम्रता से बात की। लोग बोले कि घुग्घू है पट्ठा। बिलकुल भौंदू। कुछ नहीं कर पाएगा ज़िन्दगी भर। सरल कुमार ने दबंग आवाज में, स्पष्ट शब्दों में, ईमानदारी और गंभीरता से अपनी बात को कहा। लोग कहने लगे कि कितना क्रैक आदमी है। सनकी पागल। अपना-पराया नहीं देखता। किसी का लिहाज नहीं करता। साला ईमानदारी के गटर में सड़-सड़ के मरेगा। सरल कुमार ने गुस्सा खा कर एक दिन लोगों को खरी-खरी सुना दी। लोग बोले कि देखो कितना दुष्ट है। एकदम लुच्चा और गुण्डा। साफ मुंह पर कह देता है।
सरल कुमार दिन-रात काम में जुट गया। लोग बोले कि पैसे के पीछे पागल है। सरल कुमार ने थोड़ा वक्त मौज-मस्ती के लिए निकालना शुरू कर दिया। लोग बोले कि निकम्मा है, अय्याश है, हरामखाऊ है। सरल कुमार ने एक जगह नौकरी कर ली। लोग बोले कि बेचारा, इतना बोझ तो नहीं था घर वालों पर कि नौकरी को मजबूर कर दिया। सरल कुमार लड़कियों को नहीं देखता था। लोग कहते थे कि झेंपू है, दम निकलता है, पसीने छूटते है। सरल कुमार कन्याओं को घूरने लगा। लोग बोले कि लुच्चा और लफंगा है कमीना। एक नम्बर का शोहदा। सरल कुमार ने कहा शादी नहीं करूंगा। लोगों में से एक बोला कि नामर्द होगा साला। दूसरा बोला ज्यादा ब्रहम्चारी बनता है।
तीसरा बोला समाज-सेवा का भूत चढ़ा है जनाब को। चैथा बोला आज़ाद पंछी है भई। पांचवां बोला कि ऐसे ही काम चला लेता होगा इधर-उधर से। छठा बोला कि नाकाम इश्क का मारा लगता है। सरल कुमार ने घोषणा की कि शादी करूंगा। लोग बोले कि हम तो पहले ही कहते थे। शुरू-शुरू में तो सब नखरे दिखाते हैं। बिना शादी के कुछ करना कोई इस के बस की बात थी?
सरल कुमार अकेला जा रहा था। लोगों ने कहा कि कोई नहीं पूछता साले को। सरल कुमार मित्र-मंडली के साथ घूम रहा था। लोग बोले कि इसका बस यही काम है। हर समय आवारा लोगों के साथ घूमना, मटरगश्ती करना। सरल कुमार ने अपने हक़ के लिए आवाज उठाई। लोग बोले कि बड़ा नेता बनता है। सरल कुमार चुपचाप रहने लगा। लोग बोले नपुंसक कहीं का।
सरल कुमार ने अपना सिर धुन लिया, माथा पीट लिया, करम ठोंक लिए। लोग बोले कि हम तुम्हारे साथ हैं, चिन्ता मत करो। सब ठीक हो जाएगा। सरल कुमार हंस पड़ा। लोग कहने लगे कि कैसा बेशर्म है, दांत फाड़े जा रहा है।
आखिर सरल कुमार करे तो करे क्या कि लोग उससे कुछ न कहें? अगर आप के पास कोई सुझाव हो तो मुझे भेज दें, मैं सरल कुमार तक पहुंचा दूंगा।
इस दौरान यह शेर पढ़िए:
कुछ लोग थे कि वक्त के सांचे में ढल गए!
कुछ लोग हैं कि वक्त के सांचे बदल गए!!
-संजय ग्रोवर
(24 मई, 1996 को पंजाब केसरी में प्रकाशित)

शनिवार, 20 दिसंबर 2008

क्या कुछ और भी है कि जिसकी पर्दादारी है..........

अभी रात की तो बात है कि एन.डी.टी.वी.इण्डिया पर हेमंत करकरे का इण्टरव्यू देखकर हटा हूँ। सुबह हर चैनल पर हाहाकार मचा है। पता चलता है कि जो उच्चाधिकारी पहले-पहल शिकार हो गए उनमें हेमंत करकरे भी थे। आपको याद हो तो ए.टी.एस. की जांच में जो राज़ खुले उनमें एक यह भी था कि ले.कर्नल प्रसाद पुरोहित को आर. डी. एक्स. की सप्लाई कश्मीर के किसी गिलानी से मिल रही थी।
आगे चलें। यानि कि थोड़ा पीछे जाएं।
जिस दिन तहलका नानावती आयोग की रपट के बाद अपने स्टिंग आॅपरेशन को लेकर एक प्रेस-कान्फ्रेंस कर रहा होता है उसी दिन दिल्ली के एक बाज़ार में दो आतंकवादी मोटर-बाइक पर आकर बम फेंक देते हैं। तहलका की प्रेस-काॅन्फ्रेंस उस में धुल जाती है।
थोड़ा और पीछे जाएं।
एक दिन देव-मूर्तियां दूध पीने लगती हैं। दूसरे दिन समुद्र का पानी मीठा हो जाता है। तीसरे दिन मरियम की आँखों से आँसू बहने लगते हैं।
थोड़ा विश्लेषण करें।
एक कहता है कि बाबरी मस्जिद गिरी इसलिए 93 के दंगे हुए। दूसरा कहता है कि गोधरा हुआ इसलिए गुजरात हुआ।
एक कट्टरपंथ से ही दूसरा कट्टरपंथ जस्टीफाई होता है।
एक के रहने से ही दूसरे की ‘दुकान’ चलती है।
एक कट्टरपंथ नहीं होगा तो दूसरा क्या कहकर अपना औचित्य सिद्ध करेगा ?
अगर पाकिस्तान और मुसलमान ख़त्म हो जाएं तो बहुत सारे कट्टर हिंदुओं के तो ‘रोज़गार’ ही छिन जाएंगे। यही हाल हिन्दुस्तान के साथ होने पर पाकिस्तानी कठमुल्लों का होगा।
विभिन्न धर्मों के राजनेताओं के गठजोड़ तो ‘देव’ और ‘फ़िज़ा’ जैसी नई-पुरानी फ़िल्मों में दिखाए जा चुके हैं।
पर कट्टरमुल्लाओं का क्या ?
कट्टरपंथी और कठमुल्ला को जोड़कर यह (कट्टरमुल्ला) शब्द बनाया है। जिससे कि मुझे कोई धर्मविशेष का पक्षधर न समझ ले।
तो क्या एक संभावना यह भी हो सकती है कि कट्टरमुल्लाओं का कोई अंतर्राष्ट्रीय गठजोड़ हो जो कभी-कभी एक-दूसरे से हाथ मिलाकर भी काम कर लेता हो!
क्या कट्टरपंथी ऐसे ही सारी दुनिया को तबाह करते जाएंगे।
अगर हमें सचमुच देश की और मानवता की चिंता है तो हमें इन सवालों से भी दो-चार होना चाहिए।
अगर हमें सिर्फ नारेबाज़ी, अफ़वाहबाज़ी, तोड़-फोड़ और षड्यंत्रबाज़ी ही करनी है तो बात और है।
-संजय ग्रोवर

रविवार, 14 दिसंबर 2008

‘व्यंग्य-कक्ष’ में ‘‘ईश्वर किसे पुकारे’’

ईश्वर किसे पुकारे
फिलहाल मैं इस बहस में नहीं पड़ूँगा कि ईश्वर है या नहीं! क्योंकि ईश्वर के अस्तित्व को नकार दूँगा तो यह व्यंग्य कैसे लिखँूगा? नहीं लिखूँगा तो छपने को क्या भेजूंगा? नहीं भेजूंगा तो पारिश्रमिक कैसे पाऊँगा? नहीं पाऊँगा तो खाऊँगा क्या? तो फिलहाल मान ही लेता हूँ कि ईश्वर है। मित्र नास्तिकराम का तो दावा ही यह है कि ईश्वर का आविष्कार ही उसके नाम पर खाने-कमाने के लिए हुआ है। बहरहाल, अपनी-अपनी समझ है। मुझे क्या! मैं भी तो, स्वार्थवश ही सही, मान ही चुका हँू कि ईश्वर है!‘‘देखिए तो ज़रा, कैसे-कैसे अंधविश्वास आदमी ने जोड़े हैं धर्म और ईश्वर के साथ,’’ नास्तिकराम आहत स्वर में कहता है, ‘‘मगर आर्थिक पक्ष का वहाँ भी पूरा-पूरा ध्यान रखा है। जैसे शनिवार को यह नहीं लाना, मंगल को वह नहीं खाना, बुध को ऐसे नहीं करना, शुक्र को वैसे नहीं करना, सोम को यहाँ नहीं जाना, बृहस्पति को वहाँ से नहीं आना, फलां दिन शेव नहीं करनी, ढिकां दिन प्याज नहीं खाना वगैरहा-वगैरहा। मगर सप्ताह में एक भी दिन बल्कि महीने में एक भी दिन बल्कि साल में एक भी दिन ऐसा नहीं रखा जिसमें रिश्वत लेना निषिद्ध हो, बेईमानी करना मना हो, तिकड़मबाजी़ पर रोक हो, पाखण्ड पर टोक हो, छेड़खानी की मनाही हो, बलात्कार में बुराई हो। तो ऐसे में बेचारे ईश्वर की क्या औक़ात जो एकाध दिन अपने मन की कर ले।’’‘‘यार नास्तिकराम, तुम ईश्वर को नहीं मानते फिर भी तुम्हे उसकी इतनी चिन्ता है!?’’मेरा चैंकना स्वाभाविक था।‘‘ये ही कब मानते हैं,’’नास्तिकराम का आक्र्रोश और बढ़ गया, ‘‘मानने वाले क्या ऐसे होते हैं! क्या बना रखा है इन्होने अपने प्रिय ईश्वर का हाल! बेचारा दिन-रात मंदिर के कोने में पड़ा रहता है। जिसके मन में आता है उसके मुँह में एकाध पेड़ा, चैथाई बरफी, केले का टुकड़ा, पानी मिला दूध ठँूस जाता है। बिना उससे पूछे कि भगवन् आपको भूख भी है या नहीं! सारा दिन एक जगह पड़े-पड़े मीठा खाते रहना, फिर चलना-फिरना तो दूर, हिलने-डुलने तक की मोहलत नहीं! कैसे पचाता होगा ईश्वर इतना मीठा, वो भी बिना हिले-डुले! कोई भक्त यह सोचने का कष्ट नहीं करता कि बिना हिले एक ही जगह बैठे-बैठे खाते-पीते रहने से हमारे प्रिय ईश्वर का पेट खराब हो गया तो! बदहज़मी हो गयी तो! कैसे स्वार्थी भक्त हैं! अपने काम से काम! जब कोई मनोकामना पूरी हुई, चढ़ा दिया सौ-पचास का प्रसाद! मानों ईश्वर न हुआ बिजली-दतर का बाबू हो गया कि जनाब आपने तो हमारा बीस साल से पैंंिडग पचास हजार का बिल पाँच हज़ार में ही निपटवा दिया! इसलिए बचत के पैंतालीस में से यह तुच्छ भेंट आपके लिए।’’ नास्तिकराम बुदबुदाया, ‘‘जैसेकि नहीं दी तो ईश्वर नरक रुपी जेल में ठँूस कर थर्ड डिग्री मार्का यातनाएं देगा, क्या ये तथाकथित भक्त ईश्वर को एक भ्रष्ट पुलिस वाले जैसा समझते हैं कि भैय्या जी-भर कर पाप करो, दिन-भर, बस सुबह-शाम भगवान रुपी कोतवाल को नियम से सिर नवाते रहो, चढ़ावा चढ़ाते रहो तो सात खून माफ। कोई डर नहीं। फिर कैसी चिन्ता।’’मैं सहम गया था। बोला, ‘‘वो सब तो ठीक है नास्तिकराम, मगर तुम्हारी ऐसी बातों से भक्तों की भावनाओं को ठेस भी पहँुच सकती है!’’‘‘क्यों! भावनाएं क्या सिर्फ आस्तिकों की होती हैं! हमारी नहीं!? हम संख्या में कम हैं इसलिए!? दिन-रात जागरण-कीर्तन के लाउड-स्पीकर क्या हमसे पूछकर हमारे कानों पर फोड़े जाते हैं? पार्कों और सड़कों पर कथित धार्मिक मजमे क्या हमसे पूछ कर लगाए जाते हैं? आए दिन कथित धार्मिक प्रवचनों, सीरियलों, फिल्मों और गानों में हमें गालियां दी जाती हैं जिनके पीछे कोई ठोस तर्क, तथ्य या आधार नहीं होता। हमनें तो कभी नहीं किए धरने, तोड़-फोड़, हत्याएं या प्रदर्शन!! हमारी भावनाएं नहीं हैं क्या? हमें ठेस नहीं पहुँचती क्या? पर शायद हम बौद्धिक और मानसिक रुप से उनसे कहीं ज्यादा परिपक्व हैं इसीलिए प्रतिक्रिया में बेहूदी हरकतें नहीं करते।’’मैं सिर झुकाए सुनता रहा।नास्तिकराम बोलता रहा, ‘‘कभी-कभी ईश्वर भी सोचता होगा कि मुझसे अच्छे तो चपरासी और होमगार्ड हैं जिन्हें रिश्वत में कम-अज़-कम सौ-दो-सौ रुपए तो मिलते हैं। मुझे तो भक्तगण मुट्ठी-भर-प्रसाद में टरका जाते हैं।उसमें से भी बूंद-भर ही हिस्से में आ पाता है बाक़ी फिर से बाज़ार में बिकने पहुँच जाता है। मेरे ही बनाए संसार में मेरे ही बनाए आदमी द्वारा कैसी दुर्दशा की जा रही है मेरी! आदमी होता तो मदद के लिए ईश्वर को पुकारता। ईश्वर हूँ तो किसे पुकारुँ? इस चालाक आदमी को पुकारा तो ज़रुर आसमान से गिरा कर खजूर में अटका देगा!’’बड़े बेमन से नास्तिकराम प्रवचन के अंत तक पहुँचा, ‘‘तो जिस दुनिया में भगवान की क़ीमत और हालत ऐसी हो जाए उसमें भगवान का होना-न-होना बराबर हुआ कि नहीं?!’’बहरहाल, नास्तिकराम कुछ भी कहे मैं तो चाहता हूँ कि भगवान का नाम इस दुनिया में हमेशा चलता रहे ताकि लोग उसके साथ व्यंग्यपूर्ण हरकतें करते रहें और मैं उन हरकतों पर व्यंग्य लिख कर नाम और (कभी-कभार) पैसा कमाता रहूँ।
-संजय ग्रोवर
व्यंग्य-संग्रह ‘‘मरा हुआ लेखक सवा लाख का’’ से साभार

रविवार, 30 नवंबर 2008

जब किसी से कोई गिला रखना.......सामने अपने आईना रखना....






मित्रों, उम्मेद सिंह जी नाराज़ हैं कि जिन गांधीजी ने पाकिस्तान बनने दिया(हालांकि मैंने तो यह सुना है कि गांधी जी ने कहा था कि पाकिस्तान मेरी लाश पर बनेगा) उनका ज़िक्र मैंने ऐसे वक़्त पर क्योंकर किया। या शायद ज़िक्र ही क्यों किया। बहुत से मित्रों को गांधीजी से तरह-तरह की नाराज़गियां हैं। मैं उनकी नाराज़गियों का सम्मान करता हूँ। मगर सवालचंद के मन को कई तरह के सवाल मथ रहे हैं। मैं उनका भी सम्मान करता हूँ। पहला सवाल आता है कि जिन लोगों का ‘‘मुस्लिम-प्रेम’’( और अब ‘‘क्रिश्चियन प्रेम’’ भी ) सारा देश देखता आ रहा है, वे लोग, अगर पाकिस्तान न बनता तो, मुस्लिमों को कहाँ रखते और किस हाल में रखते। कोई मानवतावादी पाकिस्तान बनने पर आपत्ति करे या दुखी हो तो समझ में भी आता है। मगर हर दूसरे धर्म को बल्कि अपने ही धर्म के लोगों को अछूत बताकर उनसे वहशियाना व्यवहार करने वाले, अपने ही देश के लोगों को बिहारी कहकर भगाने वाले लोगों का ऐसा दुख, स्वांग ही ज़्यादा लगता है। वे कौन लोग थे जो मुसलमानों के साथ बैठकर शायरी भी करते थे, उनसे उर्दू भी सीखते थे और अपने घरों में उनके खाने के बर्तन अलग भी रखते थे। जो दोस्तों के साथ ऐसी छुआछूत बरतते हो वो दुश्मनों के साथ क्या करते हांेगे। हाँ, यह बात ज़रुर सोचने की है कि वे सिर्फ़ हिन्दू ही थे या हिन्दूओं में से भी कोई वर्ग-विशेष था!

दूसरा सवाल आता है कि श्री गोडसेजी ने गाँधीजी को ही गोली क्यों मारी ? क्या गांधीजी का किया उससे भी बुरा था जो अंग्रेज कर रहे थे !? आदरणीय श्री गोडसेजी ने किसी अंग्रेज को गोली क्यों नहीं मारी? सालों-साल वे देश के आज़ाद होने का इंतज़ार करते रहे।क्या गोडसेजी को पहले से पता था कि एक दिन गांधी जी पाकिस्तान ‘बनाएंगे’ और तभी मैं उनको गोली मारुंगा। एक दिन जब देश आज़ाद हो गया तो वे गए और एक निहत्थे बूढे़ को जिसके आस-पास कोई सिक्योरिटी-फ़ोर्स भी नहीं हुआ करती थी, झोले में से पिस्तौल निकालकर गोली मार दी। क्या इसी प्रकार की बहादुरी की हमें आदत पड़ चुकी है ! अभी-अभी हमने देखा कि अपने ही देश के, निहत्थे, कमज़ोर और ग़रीब बिहारियों को आए दिन पीटने वाले नए और पुराने शिवसैनिक, विदेशी आतंकियों के मृत्यु-तांडव के वक्त, बजाय कुछ करने के, किस तरह मुम्बई की सड़कों से अन्तध्र्यान हो गए। आखिरकार तो, हमेशा की ही तरह हमारे जांबाज़ सिपाहियों ने ही देश को बचाया।

अपनी प्रतिक्रिया में आपने गांधीजी के संदर्भ में धर्मनिरपेक्ष शब्द का इस्तेमाल जिस तरह से किया है वह एक बहुत बड़ी राहत की बात है। अन्यथा कट्टरपंथी तो धर्मनिरपेक्ष, नास्तिक और मानवाधिकार जैसे शब्दों का इस्तेमाल लगभग गाली की तरह करते हैं। सवालचंद पूछता है कि जब लौह-पुरुष श्री आडवाणीजी ने श्री जिन्ना को ‘‘धर्मनिरपेक्ष’’ कहा तो उनके यहां इतना वबाल क्यों मच गया ! उन्होने श्री जिन्ना की तारीफ़ की थी या बुराई ?
मित्रों, सवाल बहुत से हैं। सवालचंद धीरे-धीरे उन्हें आपके सामने रखेगा। फ़िलहाल वक़्त एक होकर कुछ करने का है। लेकिन डर और आक्रोश हमारे विवेक को इतना भी न हर लें कि हम फ़िर वही सब उपचार करने लगें जिनसे बीमारी पैदा हुई थी। याकि बीमारी को ही स्वास्थ्य न समझने लगें।

अंत में 30-11-2008 के रा. सहारा में विभांशु दिव्याल के काॅलम ‘समाज’ से आखिर के दो पैरा आपके साथ बांटना चाहूंगा (ऊपर दाएं कोने में देखें)
अपनी एक ग़ज़ल भी तो याद आती है:-

किस आसमां में उड़ता और किस ज़मीं पे सोता/
उम्मीद नहीं होती तो मैं भी नहीं होता //

कुदरत ने जानी होती गर आदमी की फितरत/
आकाश जहाँ पर है पाताल वहीं होता //

इस मुल्क में अमन की कुछ ऐसी कहानी है/
अन्जाम तो है जिसमें उन्वान नहीं होता//

गर हमने ठीक तरह कुछ काम किए होते /
तो काम उनका इतना आसान नहीं होता//

गर मैं भी उनकी तरह चेहरे बदल के हंसता/
तो मुझपे बेरुखी का इल्ज़ाम नहीं होता//

हिन्दू हैं मुसलमां हैं सिख और फिरंग सब हैं/
बस आज की दुनिया में इन्सान नहीं होता//
-संजय ग्रोवर






शुक्रवार, 28 नवंबर 2008

आज बस मौन !

देखो कहीं बरबाद न होवे ये बगीचाअपने हृदय के ख़ून से बापू ने है सींचा
रक्खा है ये चराग़ शहीदों ने बाल केइस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के
ऐटम बमों के ज़ोर पे ऐंठी है ये दुनियाबारुद के इक ढेर पे बैठी है ये दुनिया
तुम हर क़दम उठाना ज़रा देखभाल केइस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के

सोमवार, 24 नवंबर 2008

एक दुनिया नेट के अंदर




मित्रों,देख रहा हूँ कि एक दुनिया है जो नेट के अंदर है और वहाँ ब्लाॅग की अद्भुत विधा विकसित हो चुकी है( हांलांकि आजकल इसके अंत की घोषणाओं की शुरुआत हो चुकी है ) जहाँ हमारे ढंग से या मिलते-जुलते ढंग से सोचने वाले कई एक लोग मौजूद हैं। अगर हम नेट से बाहर की दुनिया देखें जहाँ ‘साहित्यिकों’ में भी उदारतापूर्ण ढंग से सोचने वाले ढूंढने पड़ते हों ( इसकी एक वजह हमारी अपनी कई तरह की सीमाएं भी होती हैं,तकनीकी समेत), वहाँ ब्लाॅग एक बहुत बड़ी राहत है, रोशनी है, सहारा है। यहाँ अनुराग अन्वेषी के ब्लाॅग पर ‘ईश्वर पर एक जिरह’ संभव है। यहाँ आकांक्षा की कविता पर सीधे-सीधे, ‘अनएडीटेड’ कमेंट संभव है। इसके अलावा, हिन्दी ब्लाॅग की दुनिया में हमारे मित्रों ने तकनीक से संबंधित बहुत ही महत्वपूर्ण व श्रमसाध्य काम तो किए ही हैं, उन्हें निस्वार्थ भाव से दूसरों के साथ साझा भी कर रहे हैं। जिन मित्रों से सहयोग, सलाहें, समाधान, सुझाव, प्रेम, प्रेरणा, प्रोत्साहन और अपने चिट्ठों पर आने के आमंत्रण मिल रहे हैं उनमें अनुराग अन्वेषी जी सहित श्यामल सुमन, कविता वाचक्न्वी, सारथी, प्रदीप मानोरिया, संगीता पुरी, शास्त्री, भूतनाथ, अमित सागर, अभिषेक, रचना गौड़ ‘भारती’ और नारद मुनि शामिल हैं। मैं सभी चिट्ठों पर जाने की कोशिश कर रहा हूँ। मित्रों, 15-11-2008 के आस-पास यह चिट्ठा और इसके लिए उखाड़-पछाड़/तांक-झांक शुरु की थी। तब से लेकर अब तक जानकारियों में कुछ इज़ाफ़ा तो हुआ है। जिसके चलते चिट्ठे की पहली पोस्ट के उस हिस्से को हटाकर जो कि रोमनी हिन्दी में लिखा गया था, इन्हीं पंक्तियों को लगा रहा हूँ। हाँ, कैलियोस्कैनी में लिखा गया हिस्सा यथावत रहेगा, ताकि सनद रहे।अगली पोस्ट में आकांक्षा और अन्वेषी जी की ‘ईश्वर पर एक जिरह’ को आगे बढ़ाने की कोशिश करुंगा।

सोमवार, 17 नवंबर 2008

*साभार* में पढें-‘‘दिल्ली के बिहारी’’

दिल्ली के बिहारी
कई दिल्ली वालों की सबसे बड़ी महानता यह है कि वे दिल्ली में पैदा हो गए। हांलांकि इसमें उनका अपना किया-धरा कुछ नहीं है। माँ-बाप ने दिल्ली में पैदा कर दिया तो दिल्ली में पैदा हो गए और दिल्ली का होने पर गर्व करने लगे। माँ-बाप अगर होनोलुलु, झुमरीतलैय्या या टिम्बकटू में पैदा कर देते तो वे वहाँ पैदा हो जाते और वहाँ के होने पर गर्व करने लगते। इसमें उनकी ग़लती भी क्या है! सभी तो यही करते हैं।
कई बार माँग उठ चुकी है कि दिल्ली में बाहर के लोगों का आना रोका जाए। क्योंकि ये दिल्ली में गन्दगी फैलाते हैं। इनमें ज्यादातर लोग बिहार व उत्तर प्रदेश के हैं। बिहारी लोगों व बिहारी शब्द से कई दिल्ली वालों को एक खास क़िस्म की एलर्ज़ी है। इतनी कि वे बिहारी शब्द का इस्तेमाल गाली के तौर पर ही ज्यादा करते हैं। दिल्ली के लोग दिल्ली की सभ्यता-संस्कृति को लेकर अत्यंत भावुक व संवेदनशील हो जाते हैं। एक बार मैंने देखा कि एक पीली टीशर्ट धारी दिल्ली वाला एक आदमी को इसलिए बिहारी कह कर चिढ़ा रहा था कि उसने गुलाबी टीशर्ट पहन रखी थी।
बहरहाल एक दिन अपनी खोपड़ी के पृष्ठ भाग पर थप्पड़ मारते हुए मैं ये सोचने बैठा कि दिल्ली में कौन दिल्ली का है और कौन नहीं! जैसे-जैसे सोचता गया वैसे-वैसे उलझन बढ़ती गई। कोई यू.पी. से आकर यहाँ जम गया तो कोई बिहार से आकर बस गया। कोई जम्मू-कश्मीर से पधारा है तो कोई आँध्र प्रदेश से आया है। यहाँ तक कि आज जो लोग दिल्ली में बाहर से आने वालों को रोकने की माँग कर रहे हैं उनमें से भी बहुत से खुद दिल्ली में बाहर से आए हैं यानि कि शरणार्थी हैं। मैं सोचता हँू कि अगर विभाजन के तुरंत बाद इस सोच पर अमल किया गया होता तो ये सब चक्कर ही न पड़ता। बहरहाल, अभी भी कुछ नहीं बिगड़ा है।
ये खुशी की बात है कि दिल्ली के लोग सफाई-पसंद होते जा रहे हैं। वैसे भी दिल्ली के कई लोग बड़े जुझारु प्रवृत्ति के हैं। एक-दो रुपए के लिए ग़रीब रिक्शाचालक से लड़ते या पचास पैसे के लिए बस-कण्डक्टर से झगड़ते उन्हें देखा जा सकता है। यह बात अलग है कि बढ़ते भ्रष्टाचार, व्याभिचार, हत्या, लूट-खसोट, जैसी बड़ी बुराईयों के खिलाफ लड़ने के लिए उनके पास वक्त की कमी रहती है। उस वक्त वे अकसर ‘बिज़ी’ होते हैं।
कई दिल्लीवालानुसार बहुत से बिहारियों की बहुत बड़ी कमी यह है कि वे गंदे रहते हैं। हांलांकि वे अकसर पंजाबियों, दिल्ली वालों व अन्य प्रदेशों के व्यवसायियों व उद्योगपतियों के यहाँ काम करते हैं। तो क्या हुआ? अगर वे चाहें तो गंदगी कम कर सकते हैं। वे चाहें तो कल-कारखानों से निकलने वाले कूड़े-कचरे को खा-पीकर खत्म कर सकते हैं। (विष पीकर नीलकण्ठ बन सकते हैं। हांलांकि उनकी पूजा तब भी कोई शायद ही करे।) या छुट्टी के दिनों में घर जाते समय साथ ले जा सकते हैं। वैसे पहले प्रस्ताव में ज्यादा दम है क्योंकि कूड़े-कचरे को खाने से कई बिहारियों के भी कई दिल्ली वालों जैसी तोंदें निकल आएंगी। और वे एक स्तर पर उनकी बराबरी कर सकेंगे। हो सकता है तब दिल्ली वाले उन्हें थोड़ा-बहुत पसंद करने लगें।
यह कुछ इस तरह होगा जैसे लालू किसी दिन अच्छी-खासी अंग्रेजी सीख कर, सूट-टाई पहन कर ‘हाऊ-डू-यू-डू’ करते हुए दिल्ली आ धमकें। निश्चय ही दिल्लीवासी तब उनका स्वागत करेंगे। सिर्फ यही तो कमी है लालू में। बाक़ी घोटालों-घपलों, तानाशाही, वंशवाद आदि गुणों में तो वे भी काँग्रेस व बीजेपी के नेताओं की तरह राष्ट्रीय स्तर के नेता हैं। मात्र अंग्रेजी कम जानने की वजह से एक भव्य व्यक्तित्व को मिट्टी में मिला देना उचित नहीं। फिर दिल्ली वाले तो अंग्रेजी के मुरीद हैं। स्व. कृश्न चंदर ने अपने उपन्यास ‘एक गधे की आत्म-कथा’ में एक जगह उपन्यास के नायक गधे के मुँह से कहलवाया है कि दिल्ली के दतरों में अंग्रेजी बोलने पर काम आसानी से हो जाता है फिर भले ही बोलने वाला गधा ही क्योें न हो। वैसे दिल्ली में ऐसे ‘परम्पराप्रिय’ लोग भी काफी मात्रा में हैं जो ‘ब्लड’ को ‘बल्ड’, ‘पार्क’ को ‘पारक’ व ‘स्मार्ट’ को ‘समारट’ कहते हैं।
दिल्ली में बहुत से लोगों ने कुत्ते भी पाले हुए हैं। जिन्हें वे सुबह-शाम पार्कों में सूसू-पाॅट्टी इत्यादि कराने ले जाते हैं। कई दिल्ली वालों की बिहारियों से नाराज़गी की वजह यह भी हो सकती है कि हर जगह बिहारी ही गंदगी कर देंगे तो उनके कुत्ते क्या करेंगे। इस मामलें में मेरी पूरी सहानुभूति दिल्ली के कुत्तों के साथ है। बिहारियों व उत्तर प्रदेशियों को दिल्ली तुरंत खाली कर देनी चाहिए ताकि वहाँ पालतू कुत्ते पूरी शानो-शौकत से हग-मूत सकें, ‘एन्जाॅय’ कर सकें। कई दिल्ली वालों को जितनी एलर्जी बिहारियों व उत्तर प्रदेशियों से है उतनी तो उन्हें चोरों, डाकुओं, ठगों, स्मगलरों, माफियाओं, नेताओं, काॅलगर्लों आदि से भी नहीं है। बिहारियों को अगर दिल्ली में रहना ही है तो उन्हें अपना संकोची व मेहनती स्वभाव छोड़ कर बेशर्मी की हद तक बोल्ड और हैवानियत की हद तक असंवेदनशील बनना पड़ेगा। किसी भी जगह की संस्कृति में घुले-मिले बिना आप वहाँ के निवासियों के दिलों में जगह नहीं बना सकते।
इस तरह हम देखते हैं कि दिल्ली में बीस-तीस या चालीस साल पहले विभिन्न स्थानों से आए दिल्ली के बिहारी या बाहरी फिलहाल दिल्ली में आ रहे ताज़ा बिहारियों व बाहरीयों पर भारी पड़ रहे हैं।
-संजय ग्रोवर

शनिवार, 15 नवंबर 2008

अपने दिल की बात




मित्रों,देख रहा हूँ कि एक दुनिया है जो नेट के अंदर है और वहाँ ब्लाॅग की अद्भुत विधा विकसित हो चुकी है( हांलांकि आजकल इसके अंत की घोषणाओं की शुरुआत हो चुकी है ) जहाँ हमारे ढंग से या मिलते-जुलते ढंग से सोचने वाले कई एक लोग मौजूद हैं। अगर हम नेट से बाहर की दुनिया देखें जहाँ ‘साहित्यिकों’ में भी उदारतापूर्ण ढंग से सोचने वाले ढूंढने पड़ते हों ( इसकी एक वजह हमारी अपनी कई तरह की सीमाएं भी होती हैं,तकनीकी समेत), वहाँ ब्लाॅग एक बहुत बड़ी राहत है, रोशनी है, सहारा है। यहाँ अनुराग अन्वेषी के ब्लाॅग पर ‘ईश्वर पर एक जिरह’ संभव है। यहाँ आकांक्षा की कविता पर सीधे-सीधे, ‘अनएडीटेड’ कमेंट संभव है। इसके अलावा, हिन्दी ब्लाॅग की दुनिया में हमारे मित्रों ने तकनीक से संबंधित बहुत ही महत्वपूर्ण व श्रमसाध्य काम तो किए ही हैं, उन्हें निस्वार्थ भाव से दूसरों के साथ साझा भी कर रहे हैं। जिन मित्रों से सहयोग, सलाहें, समाधान, सुझाव, प्रेम, प्रेरणा, प्रोत्साहन और अपने चिट्ठों पर आने के आमंत्रण मिल रहे हैं उनमें अनुराग अन्वेषी जी सहित श्यामल सुमन, कविता वाचक्न्वी, सारथी, प्रदीप मानोरिया, संगीता पुरी, शास्त्री, भूतनाथ, अमित सागर, अभिषेक, रचना गौड़ ‘भारती’ और नारद मुनि शामिल हैं। मैं सभी चिट्ठों पर जाने की कोशिश कर रहा हूँ। मित्रों, 15-11-2008 के आस-पास यह चिट्ठा और इसके लिए उखाड़-पछाड़/तांक-झांक शुरु की थी। तब से लेकर अब तक जानकारियों में कुछ इज़ाफ़ा तो हुआ है। जिसके चलते चिट्ठे की पहली पोस्ट के उस हिस्से को हटाकर जो कि रोमनी हिन्दी में लिखा गया था, इन्हीं पंक्तियों को लगा रहा हूँ। हाँ, कैलियोस्कैनी में लिखा गया हिस्सा यथावत रहेगा, ताकि सनद रहे।अगली पोस्ट में आकांक्षा और अन्वेषी जी की ‘ईश्वर पर एक जिरह’ को आगे बढ़ाने की कोशिश करुंगा।






पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंदाज़ (1) अंधविश्वास (1) अकेला (1) अनुसरण (1) अफ़वाह (1) अफवाहें (1) अलग (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आकाश (1) आज़ाद (1) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आभास (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (2) इतिहास (1) इमेज (1) ईक़िताब (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचा (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कमज़ोर (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (60) कशमकश (1) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) क़िताब (1) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) ख़ाली (1) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (27) ग़रीबी (1) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चांद (1) चालू (1) चिंतन (3) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) छोटापन (1) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) झूठे (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) द्वंद (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) धोखेबाज़ (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (5) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (3) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (2) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (3) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) पड़़ोसी (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) पोल (1) प्रकाशक (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (3) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (2) बेईमानी (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (2) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मज़ाक़ (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) महापुरुष (1) मां (1) मातम (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मीडिया का माफ़िया (1) मुसीबत (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लेखक (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (83) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (48) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संपादक (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (6) साहित्य में आतंकवाद (18) सीज़ोफ़्रीनिया (1) सोच (1) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) स्वतंत्र (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (4) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) author (1) awards (1) big (2) Blackmail (1) book (1) chameleon (1) character (1) comedy (1) communism (1) conflict (2) contemplation (1) cow (1) cricket (1) crowd (1) cunning (1) devotee (1) different (1) dishonest (1) dishonesty (1) Doha (1) dreams (1) ebook (1) Editor (1) employment (1) experiment (1) Facebook (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (14) god (1) gods of atheists (1) great (1) greatness (1) highh (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) hollow (1) humanity (1) humor (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) in the name of freedom of expression (1) innovation (1) IPL (1) jokes (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (2) lyrics (3) mob (2) moon (1) movements (1) music (2) name (2) neighbors (1) new (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppotunism (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (2) poetry (20) poverty (1) pressure (1) prestige (1) publisher (1) puppets (1) quarrel (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) rumors (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (24) schizophrenia (1) secret (1) senseless (1) shayari (1) short story (4) shortage (1) sky (1) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) style (1) The father (1) The gurus of world (1) thinking (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) unemployed (1) values (1) verse (3) vicious (1) virtual (1) weak (1) weeds (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....