रविवार, 14 दिसंबर 2008

‘व्यंग्य-कक्ष’ में ‘‘ईश्वर किसे पुकारे’’

ईश्वर किसे पुकारे
फिलहाल मैं इस बहस में नहीं पड़ूँगा कि ईश्वर है या नहीं! क्योंकि ईश्वर के अस्तित्व को नकार दूँगा तो यह व्यंग्य कैसे लिखँूगा? नहीं लिखूँगा तो छपने को क्या भेजूंगा? नहीं भेजूंगा तो पारिश्रमिक कैसे पाऊँगा? नहीं पाऊँगा तो खाऊँगा क्या? तो फिलहाल मान ही लेता हूँ कि ईश्वर है। मित्र नास्तिकराम का तो दावा ही यह है कि ईश्वर का आविष्कार ही उसके नाम पर खाने-कमाने के लिए हुआ है। बहरहाल, अपनी-अपनी समझ है। मुझे क्या! मैं भी तो, स्वार्थवश ही सही, मान ही चुका हँू कि ईश्वर है!‘‘देखिए तो ज़रा, कैसे-कैसे अंधविश्वास आदमी ने जोड़े हैं धर्म और ईश्वर के साथ,’’ नास्तिकराम आहत स्वर में कहता है, ‘‘मगर आर्थिक पक्ष का वहाँ भी पूरा-पूरा ध्यान रखा है। जैसे शनिवार को यह नहीं लाना, मंगल को वह नहीं खाना, बुध को ऐसे नहीं करना, शुक्र को वैसे नहीं करना, सोम को यहाँ नहीं जाना, बृहस्पति को वहाँ से नहीं आना, फलां दिन शेव नहीं करनी, ढिकां दिन प्याज नहीं खाना वगैरहा-वगैरहा। मगर सप्ताह में एक भी दिन बल्कि महीने में एक भी दिन बल्कि साल में एक भी दिन ऐसा नहीं रखा जिसमें रिश्वत लेना निषिद्ध हो, बेईमानी करना मना हो, तिकड़मबाजी़ पर रोक हो, पाखण्ड पर टोक हो, छेड़खानी की मनाही हो, बलात्कार में बुराई हो। तो ऐसे में बेचारे ईश्वर की क्या औक़ात जो एकाध दिन अपने मन की कर ले।’’‘‘यार नास्तिकराम, तुम ईश्वर को नहीं मानते फिर भी तुम्हे उसकी इतनी चिन्ता है!?’’मेरा चैंकना स्वाभाविक था।‘‘ये ही कब मानते हैं,’’नास्तिकराम का आक्र्रोश और बढ़ गया, ‘‘मानने वाले क्या ऐसे होते हैं! क्या बना रखा है इन्होने अपने प्रिय ईश्वर का हाल! बेचारा दिन-रात मंदिर के कोने में पड़ा रहता है। जिसके मन में आता है उसके मुँह में एकाध पेड़ा, चैथाई बरफी, केले का टुकड़ा, पानी मिला दूध ठँूस जाता है। बिना उससे पूछे कि भगवन् आपको भूख भी है या नहीं! सारा दिन एक जगह पड़े-पड़े मीठा खाते रहना, फिर चलना-फिरना तो दूर, हिलने-डुलने तक की मोहलत नहीं! कैसे पचाता होगा ईश्वर इतना मीठा, वो भी बिना हिले-डुले! कोई भक्त यह सोचने का कष्ट नहीं करता कि बिना हिले एक ही जगह बैठे-बैठे खाते-पीते रहने से हमारे प्रिय ईश्वर का पेट खराब हो गया तो! बदहज़मी हो गयी तो! कैसे स्वार्थी भक्त हैं! अपने काम से काम! जब कोई मनोकामना पूरी हुई, चढ़ा दिया सौ-पचास का प्रसाद! मानों ईश्वर न हुआ बिजली-दतर का बाबू हो गया कि जनाब आपने तो हमारा बीस साल से पैंंिडग पचास हजार का बिल पाँच हज़ार में ही निपटवा दिया! इसलिए बचत के पैंतालीस में से यह तुच्छ भेंट आपके लिए।’’ नास्तिकराम बुदबुदाया, ‘‘जैसेकि नहीं दी तो ईश्वर नरक रुपी जेल में ठँूस कर थर्ड डिग्री मार्का यातनाएं देगा, क्या ये तथाकथित भक्त ईश्वर को एक भ्रष्ट पुलिस वाले जैसा समझते हैं कि भैय्या जी-भर कर पाप करो, दिन-भर, बस सुबह-शाम भगवान रुपी कोतवाल को नियम से सिर नवाते रहो, चढ़ावा चढ़ाते रहो तो सात खून माफ। कोई डर नहीं। फिर कैसी चिन्ता।’’मैं सहम गया था। बोला, ‘‘वो सब तो ठीक है नास्तिकराम, मगर तुम्हारी ऐसी बातों से भक्तों की भावनाओं को ठेस भी पहँुच सकती है!’’‘‘क्यों! भावनाएं क्या सिर्फ आस्तिकों की होती हैं! हमारी नहीं!? हम संख्या में कम हैं इसलिए!? दिन-रात जागरण-कीर्तन के लाउड-स्पीकर क्या हमसे पूछकर हमारे कानों पर फोड़े जाते हैं? पार्कों और सड़कों पर कथित धार्मिक मजमे क्या हमसे पूछ कर लगाए जाते हैं? आए दिन कथित धार्मिक प्रवचनों, सीरियलों, फिल्मों और गानों में हमें गालियां दी जाती हैं जिनके पीछे कोई ठोस तर्क, तथ्य या आधार नहीं होता। हमनें तो कभी नहीं किए धरने, तोड़-फोड़, हत्याएं या प्रदर्शन!! हमारी भावनाएं नहीं हैं क्या? हमें ठेस नहीं पहुँचती क्या? पर शायद हम बौद्धिक और मानसिक रुप से उनसे कहीं ज्यादा परिपक्व हैं इसीलिए प्रतिक्रिया में बेहूदी हरकतें नहीं करते।’’मैं सिर झुकाए सुनता रहा।नास्तिकराम बोलता रहा, ‘‘कभी-कभी ईश्वर भी सोचता होगा कि मुझसे अच्छे तो चपरासी और होमगार्ड हैं जिन्हें रिश्वत में कम-अज़-कम सौ-दो-सौ रुपए तो मिलते हैं। मुझे तो भक्तगण मुट्ठी-भर-प्रसाद में टरका जाते हैं।उसमें से भी बूंद-भर ही हिस्से में आ पाता है बाक़ी फिर से बाज़ार में बिकने पहुँच जाता है। मेरे ही बनाए संसार में मेरे ही बनाए आदमी द्वारा कैसी दुर्दशा की जा रही है मेरी! आदमी होता तो मदद के लिए ईश्वर को पुकारता। ईश्वर हूँ तो किसे पुकारुँ? इस चालाक आदमी को पुकारा तो ज़रुर आसमान से गिरा कर खजूर में अटका देगा!’’बड़े बेमन से नास्तिकराम प्रवचन के अंत तक पहुँचा, ‘‘तो जिस दुनिया में भगवान की क़ीमत और हालत ऐसी हो जाए उसमें भगवान का होना-न-होना बराबर हुआ कि नहीं?!’’बहरहाल, नास्तिकराम कुछ भी कहे मैं तो चाहता हूँ कि भगवान का नाम इस दुनिया में हमेशा चलता रहे ताकि लोग उसके साथ व्यंग्यपूर्ण हरकतें करते रहें और मैं उन हरकतों पर व्यंग्य लिख कर नाम और (कभी-कभार) पैसा कमाता रहूँ।
-संजय ग्रोवर
व्यंग्य-संग्रह ‘‘मरा हुआ लेखक सवा लाख का’’ से साभार

4 टिप्‍पणियां:

  1. bahot hi badhiya byanga kasa hai aapne bahot khub.. aapko dhero badhai sahab....

    arsh

    उत्तर देंहटाएं
  2. Arsh,Manish Kumar aur Mehek shuru se hi mera hausla badhate rahe haiN.MaiN inke sahyog ko salaam karta huN.Lage hath ek sh'er bhi pel deta huN :-
    ye mere khwab ki dunia nahiN sahi lekin/
    ab aa gaya huN to do din quayaam karta chaluN//
    (shayar ka naam yaad nahiN par gaya ise Jagjit Singh ne hai)

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप तो यहाँ क्या क्या गुल खिला रहे हैं . और हमें पता ही नहीं . छि: छि: हम भी ना कितने ...होशियार हैं .
    आप पर नज़र रखनी पडेगी आगे से क्या पता क्या काण्ड हो जाय आपके हाथों . काले चश्मे वालों का कोई भरोसा थोडे ही है :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर शब्द प्रवाह अंत तक पाठक को बंधने के लिए विवश कर देने वाला
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....