सोमवार, 17 नवंबर 2008

*साभार* में पढें-‘‘दिल्ली के बिहारी’’

दिल्ली के बिहारी
कई दिल्ली वालों की सबसे बड़ी महानता यह है कि वे दिल्ली में पैदा हो गए। हांलांकि इसमें उनका अपना किया-धरा कुछ नहीं है। माँ-बाप ने दिल्ली में पैदा कर दिया तो दिल्ली में पैदा हो गए और दिल्ली का होने पर गर्व करने लगे। माँ-बाप अगर होनोलुलु, झुमरीतलैय्या या टिम्बकटू में पैदा कर देते तो वे वहाँ पैदा हो जाते और वहाँ के होने पर गर्व करने लगते। इसमें उनकी ग़लती भी क्या है! सभी तो यही करते हैं।
कई बार माँग उठ चुकी है कि दिल्ली में बाहर के लोगों का आना रोका जाए। क्योंकि ये दिल्ली में गन्दगी फैलाते हैं। इनमें ज्यादातर लोग बिहार व उत्तर प्रदेश के हैं। बिहारी लोगों व बिहारी शब्द से कई दिल्ली वालों को एक खास क़िस्म की एलर्ज़ी है। इतनी कि वे बिहारी शब्द का इस्तेमाल गाली के तौर पर ही ज्यादा करते हैं। दिल्ली के लोग दिल्ली की सभ्यता-संस्कृति को लेकर अत्यंत भावुक व संवेदनशील हो जाते हैं। एक बार मैंने देखा कि एक पीली टीशर्ट धारी दिल्ली वाला एक आदमी को इसलिए बिहारी कह कर चिढ़ा रहा था कि उसने गुलाबी टीशर्ट पहन रखी थी।
बहरहाल एक दिन अपनी खोपड़ी के पृष्ठ भाग पर थप्पड़ मारते हुए मैं ये सोचने बैठा कि दिल्ली में कौन दिल्ली का है और कौन नहीं! जैसे-जैसे सोचता गया वैसे-वैसे उलझन बढ़ती गई। कोई यू.पी. से आकर यहाँ जम गया तो कोई बिहार से आकर बस गया। कोई जम्मू-कश्मीर से पधारा है तो कोई आँध्र प्रदेश से आया है। यहाँ तक कि आज जो लोग दिल्ली में बाहर से आने वालों को रोकने की माँग कर रहे हैं उनमें से भी बहुत से खुद दिल्ली में बाहर से आए हैं यानि कि शरणार्थी हैं। मैं सोचता हँू कि अगर विभाजन के तुरंत बाद इस सोच पर अमल किया गया होता तो ये सब चक्कर ही न पड़ता। बहरहाल, अभी भी कुछ नहीं बिगड़ा है।
ये खुशी की बात है कि दिल्ली के लोग सफाई-पसंद होते जा रहे हैं। वैसे भी दिल्ली के कई लोग बड़े जुझारु प्रवृत्ति के हैं। एक-दो रुपए के लिए ग़रीब रिक्शाचालक से लड़ते या पचास पैसे के लिए बस-कण्डक्टर से झगड़ते उन्हें देखा जा सकता है। यह बात अलग है कि बढ़ते भ्रष्टाचार, व्याभिचार, हत्या, लूट-खसोट, जैसी बड़ी बुराईयों के खिलाफ लड़ने के लिए उनके पास वक्त की कमी रहती है। उस वक्त वे अकसर ‘बिज़ी’ होते हैं।
कई दिल्लीवालानुसार बहुत से बिहारियों की बहुत बड़ी कमी यह है कि वे गंदे रहते हैं। हांलांकि वे अकसर पंजाबियों, दिल्ली वालों व अन्य प्रदेशों के व्यवसायियों व उद्योगपतियों के यहाँ काम करते हैं। तो क्या हुआ? अगर वे चाहें तो गंदगी कम कर सकते हैं। वे चाहें तो कल-कारखानों से निकलने वाले कूड़े-कचरे को खा-पीकर खत्म कर सकते हैं। (विष पीकर नीलकण्ठ बन सकते हैं। हांलांकि उनकी पूजा तब भी कोई शायद ही करे।) या छुट्टी के दिनों में घर जाते समय साथ ले जा सकते हैं। वैसे पहले प्रस्ताव में ज्यादा दम है क्योंकि कूड़े-कचरे को खाने से कई बिहारियों के भी कई दिल्ली वालों जैसी तोंदें निकल आएंगी। और वे एक स्तर पर उनकी बराबरी कर सकेंगे। हो सकता है तब दिल्ली वाले उन्हें थोड़ा-बहुत पसंद करने लगें।
यह कुछ इस तरह होगा जैसे लालू किसी दिन अच्छी-खासी अंग्रेजी सीख कर, सूट-टाई पहन कर ‘हाऊ-डू-यू-डू’ करते हुए दिल्ली आ धमकें। निश्चय ही दिल्लीवासी तब उनका स्वागत करेंगे। सिर्फ यही तो कमी है लालू में। बाक़ी घोटालों-घपलों, तानाशाही, वंशवाद आदि गुणों में तो वे भी काँग्रेस व बीजेपी के नेताओं की तरह राष्ट्रीय स्तर के नेता हैं। मात्र अंग्रेजी कम जानने की वजह से एक भव्य व्यक्तित्व को मिट्टी में मिला देना उचित नहीं। फिर दिल्ली वाले तो अंग्रेजी के मुरीद हैं। स्व. कृश्न चंदर ने अपने उपन्यास ‘एक गधे की आत्म-कथा’ में एक जगह उपन्यास के नायक गधे के मुँह से कहलवाया है कि दिल्ली के दतरों में अंग्रेजी बोलने पर काम आसानी से हो जाता है फिर भले ही बोलने वाला गधा ही क्योें न हो। वैसे दिल्ली में ऐसे ‘परम्पराप्रिय’ लोग भी काफी मात्रा में हैं जो ‘ब्लड’ को ‘बल्ड’, ‘पार्क’ को ‘पारक’ व ‘स्मार्ट’ को ‘समारट’ कहते हैं।
दिल्ली में बहुत से लोगों ने कुत्ते भी पाले हुए हैं। जिन्हें वे सुबह-शाम पार्कों में सूसू-पाॅट्टी इत्यादि कराने ले जाते हैं। कई दिल्ली वालों की बिहारियों से नाराज़गी की वजह यह भी हो सकती है कि हर जगह बिहारी ही गंदगी कर देंगे तो उनके कुत्ते क्या करेंगे। इस मामलें में मेरी पूरी सहानुभूति दिल्ली के कुत्तों के साथ है। बिहारियों व उत्तर प्रदेशियों को दिल्ली तुरंत खाली कर देनी चाहिए ताकि वहाँ पालतू कुत्ते पूरी शानो-शौकत से हग-मूत सकें, ‘एन्जाॅय’ कर सकें। कई दिल्ली वालों को जितनी एलर्जी बिहारियों व उत्तर प्रदेशियों से है उतनी तो उन्हें चोरों, डाकुओं, ठगों, स्मगलरों, माफियाओं, नेताओं, काॅलगर्लों आदि से भी नहीं है। बिहारियों को अगर दिल्ली में रहना ही है तो उन्हें अपना संकोची व मेहनती स्वभाव छोड़ कर बेशर्मी की हद तक बोल्ड और हैवानियत की हद तक असंवेदनशील बनना पड़ेगा। किसी भी जगह की संस्कृति में घुले-मिले बिना आप वहाँ के निवासियों के दिलों में जगह नहीं बना सकते।
इस तरह हम देखते हैं कि दिल्ली में बीस-तीस या चालीस साल पहले विभिन्न स्थानों से आए दिल्ली के बिहारी या बाहरी फिलहाल दिल्ली में आ रहे ताज़ा बिहारियों व बाहरीयों पर भारी पड़ रहे हैं।
-संजय ग्रोवर

16 टिप्‍पणियां:

  1. ठीक कहा आपने। दिल्ली ही क्यों महाराष्ट्र, आसाम और अन्य जगहों में भी तो यही हो रहा है। जबकि सच यह है कि किसी भी राज्य, जिला, गाँव, सम्प्रदाय के सभी लोग बुरे नहीं होते हैं। कहते हैं कि-

    नफरत के दायरों से निकलकर तो देखिये।
    सचमुच खुदा की बस्ती में कोई बुरा नहीं।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिन्दुस्तान हिन्दुस्तानियों का है, किसी व्यक्ति विशेष का नहीं है!!

    -- शास्त्री

    -- हर वैचारिक क्राति की नीव है लेखन, विचारों का आदानप्रदान, एवं सोचने के लिये प्रोत्साहन. हिन्दीजगत में एक सकारात्मक वैचारिक क्राति की जरूरत है.

    महज 10 साल में हिन्दी चिट्ठे यह कार्य कर सकते हैं. अत: नियमित रूप से लिखते रहें, एवं टिपिया कर साथियों को प्रोत्साहित करते रहें. (सारथी: http://www.Sarathi.info)

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक अनुरोध -- कृपया वर्ड-वेरिफिकेशन का झंझट हटा दें. इससे आप जितना सोचते हैं उतना फायदा नहीं होता है, बल्कि समर्पित पाठकों/टिप्पणीकारों को अनावश्यक परेशानी होती है. हिन्दी के वरिष्ठ चिट्ठाकारों में कोई भी वर्ड वेरिफिकेशन का प्रयोग नहीं करता है, जो इस बात का सूचक है कि यह एक जरूरी बात नहीं है.

    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिये निम्न कार्य करें: ब्लागस्पाट के अंदर जाकर --

    Dahboard --> Setting --> Comments -->Show word verification for comments?

    Select "No" and save!!

    बस हो गया काम !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. bhaayi aapkaa gussa bahut acchha laga...agar saare bihaariyon ko vakayi gussa aa jaye..khaas-kar bihaari netaaon ko to bihaar ko vaapas udyog-sthaan banaakar dilli yaa mumbai-vaasiyon ko aayinaa dikhaa den...magar pataa nahin ye kab ho paayegaa...

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है। आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी बडी प्रतिष्‍ठा प्राप्‍त करेंगे। हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ब्लॉग जगत मना आपका हार्दिक स्वागत है ... समय निकल कर मेरे ब्लॉग पर दस्तक दें

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाजिब है प्रतिक्रया आपकी. स्वागत.

    उत्तर देंहटाएं
  8. चिट्ठा जगत में आपका स्वागत है ।
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है ।
    लिखते रहिए लिखने वाले की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल,शेर के लिए मेरे ब्लोग पर स्वागत है
    मेरे द्वारा संपादित पत्रिका भी देखें
    www.zindagilive08.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. hindustani ko kahi bhee jane or jeene ka adhikar hai. narayan narayan

    उत्तर देंहटाएं
  10. मुझे तो भारतीय होने पर गर्व है भाई। अब इंग्लेण्ड में पैदा होता तो ब्रिटिश कहलाने में गर्व करता ना।

    उत्तर देंहटाएं
  11. एकदम सटीक लेख. मैं भी दिल्ली में पिछले पाँच साल से रह रही हूँ और ये सारा तमाशा देख रही हूँ...बहुत ही व्यंग्यात्मक तरीके से आपने लिखा है कि यहाँ के लोग बिहारियों से जितनी नफ़रत करते हैं, उतनी चोर, डाकुओं, लुटेरों से भी नहीं...बहुत अच्छा लेख है...और हाँ, ये तो बताइये कि आप इतने दिनों से ब्लॉगर पर हैं, तो कुछ लोग आज आपका स्वागत क्यों कर रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  12. कई बार तो हमने देखा है कई बिहारी लोग भी जरा बोलने का लहजा सुधार लेने के बाद ...किसी बिहारी का मजाक उड़ाने का अधिकार पा जाते हैं...वैसे जो लीग खुद शरणार्थी होते हैं...उन्हें दूसरे शरणार्थी से पारम्परिक जलन होती है...सो इसलिए लोग दूसरे का विरोध करने उतार आए हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  13. Very good. However, this is not against the migration but the culture. First of all it is a fact that every one migrates as our culture has become so. The migration for hunger and earning. People from all states migrate to other parts of India and it is a democratic right.

    But, yes but why the North Indians are singled out and blamed? No one talks about the people from other parts of the country. There is a cause and everyone knows this. Chidambaram was right when he expressed his concern about the rising crime graph of New Delhi. First in Punjab, then in Maharastra, Chhatishgarh, Assam and who knows the future. Only to respect the democratic right, we cannot crush the truth.

    Up and Bihar should do something to create jobs in their own state to accommodate their burgeoning population. BIMARU state as stated in our economic articles.

    People of North India are hard working, pain staking but something is there that hides their plus points.

    Thanks

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....