सोमवार, 30 अगस्त 2010

झूठ पहनकर...

ग़ज़लें


1.

झूठ पहनकर कितने अच्छे लगते हो
कपड़ों के अंदर से नंगे दिखते हो

गलियाना बाज़ार को भी अब पेशा है
बाद में गलियाते हो, पहले बिकते हो

झूठ, ढिठाई, तानाशाही, गाली, गुंडे-
इतनी बैसाखीं, पर बहस से डरते हो !

लगता है फिर आज किसी ने धोया है
टंगे-टंगे से, निचुड़े-निचुड़े लगते हो

अपने-आप से हार चुके हो, इसी लिए
बेध्यानी में ध्यान की बातें करते हो

झूठी जीत से झूठी ख़ुशियां पाते हो
औरों को कम, ख़ुदको ज़्यादा ठगते हो

अभी तुम्हारा कर्ज़ लदा है  सीने पर
अदा करुंगा, बचकर कहाँ निकलते हो

2.

तलघर में आयोजित सूरज
फिर निकला प्रायोजित सूरज

किरनें-विरनें गयी कहाँ पर !
हुआ कहाँ विनियोजित सूरज ?

ख़ुदकी गर्मी से जलता है
कैसे हो अनुशासित सूरज

चाँद-वाँद सब जल जाएंगे
हुआ अगर अनियंत्रित सूरज

आसमान के पाँव पकड़ कर
हो जाता अनुमोदित सूरज

पीछे साजिश का अंधियारा
आगे पूर्व-नियोजित सूरज


-संजय ग्रोवर

34 टिप्‍पणियां:

  1. तलघर में आयोजित सूरज
    फ़िर निकला प्रायोजित सूरज

    ग़ज़ल तो अच्छी है और काफिया और शानदार

    उत्तर देंहटाएं
  2. पीछे साजिश का अंधियारा
    आगे पूर्व-नियोजित सूरज

    -बहुत ऊँची बात कही है संजय भाई, वाह!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. @ लगता है फ़िर आज किसी ने धोया है
    टंगे-टंगे से, निचुड़े-निचुड़े लगते हो

    शानदार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. चाँद-वाँद सब जल जाएंगे
    हुआ अगर अनियंत्रित सूरज

    दोनों गज़ल शानदार कही हैं ...मन के भाव स्पष्ट दिख रहे हैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. दोनो ग़ज़लें...एक अनोखी ताज़गी का अहसास तारी कर गयीं....

    उत्तर देंहटाएं
  6. झूठी जीत से झूठी ख़ुशियां पाते हो
    औरों को कम, ख़ुदको ज़्यादा ठगते हो...kyaa kahne

    उत्तर देंहटाएं
  7. पीछे साजिश का अंधियारा
    आगे पूर्व-नियोजित सूरज..aur ye bhi khoob hai

    उत्तर देंहटाएं
  8. फ़िर निकला प्रायोजित सूरज...बहुत सुन्दर संजय भाई.आपके लिखने में भी रवानी है और ख़याल में भी ..दुआएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. शब्द, जिनमें वक्त की सच्चाइयां हैं,
    शब्द, जिनमें सत्य की परछाइयां हैं।
    रहजनों के नगर में, भेड़ियों की भीड़ में,
    शब्द, जिनमें व्यक्ति की तनहाइयां हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. दोनों ही ग़ज़लों ने मुतास्सिर किया .खाकसार को खास पसंद आये है
    झूठ, ढिठाई, तानाशाही, गाली, गुंडे-
    इतनी बैसाखीं, पर बहस से डरते हो !

    लगता है फिर आज किसी ने धोया है
    टंगे-टंगे से, निचुड़े-निचुड़े लगते हो
    झूठी जीत से झूठी ख़ुशियां पाते हो
    औरों को कम, ख़ुदको ज़्यादा ठगते हो
    तलघर में आयोजित सूरज
    फिर निकला प्रायोजित सूरज
    पीछे साजिश का अंधियारा
    आगे पूर्व-नियोजित सूरज
    ख़ुदकी गर्मी से जलता है
    कैसे हो अनुशासित सूरज
    जेसा मैंने अर्ज किया सभी शेर ही अच्छे है.जहाँ तक खास पसंद का मामला है मेरी सोच मूड और पर्टिकुलर मानसिक स्थिति अनुसार बदलती रहते है. वह साब खूब लिखा
    झूठ, ढिठाई, तानाशाही, गाली, गुंडे-
    इतनी बैसाखीं, पर बहस से डरते हो !

    उत्तर देंहटाएं
  11. लगता है फिर आज किसी ने धोया है
    टंगे-टंगे से, निचुड़े-निचुड़े लगते हो

    ha ha hah....

    waise bahut pyari baat kahi aapne
    jordaar likhte ho aap......badhai.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. मुझे कविता की सीमित समझ है इसीलिए कविता के विषय में कोई राय नहीं.

    पर आपके पोल सर्वेक्षण ने ध्यान खींचा. कुतर्क को तर्कशास्त्र की भाषा में लोजिकल फैलेसी कहा जाता है. तर्कशास्त्र दर्शनशास्त्र का अंग है. और आजकल दर्शनशास्त्र शायद ही कोई विधिवत रूप से पढता है. इसीलिए लोग न तो तर्क ठीक से करते हैं, न सही ढंग से सोच पाते हैं, क्योंकि उन्हें तर्क और कुतर्क के बीच अंतर ही नहीं पता. हिंदी ब्लॉगजगत में एक सबसे मुर्खतापूर्ण बात यह कही जाती है की कुतर्क की कोई परिभाषा नहीं दी जा सकती, जबकि इसे पश्चिम में प्लेटो (३०० ईसा पूर्व) और पूर्व में महर्षि गौतम (६०० ईसा पूर्व) द्वारा विवेचित और परिभाषित कर दिया गया था.

    फैलेसी :

    http://www.google.co.in/search?hl=en&safe=off&q=logical+fallacies&aq=f&aqi=g10&aql=&oq=&gs_rfai=

    उत्तर देंहटाएं
  13. पीछे साजिश का अंधियारा
    आगे पूर्व-नियोजित सूरज
    लाज़वाब प्रस्तुति हर शब्द गहरा और दिल में उतरता हुआ

    उत्तर देंहटाएं
  14. पीछे साजिश का अंधियारा
    आगे पूर्व-नियोजित सूरज


    लाज़वाब प्रस्तुति हर शब्द गहरा और दिल में उतरता हुआ

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत बहुत खूबसूरत और बींधती ग़ज़लें हैं।
    चाँद-वाँद को चांद-वांद कर दें।

    उत्तर देंहटाएं
  16. @दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi
    चांद-वांद karne ki bahut koshish ki par zara-sa chhedte hi sari post gadbad ho jati hai. Fir koshish karke dekhuNga.

    @ab inconvenienti
    जानकारी देने के लिये आपका आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी दोनों रचनाएं बेहतर लगीं........
    ऊपर वाली तो गजब ही थी।
    लगता है फिर आज किसी ने धोया है
    टंगे-टंगे से, निचुड़े-निचुड़े लगते हो

    उत्तर देंहटाएं
  18. यूँ तो दोनों ही रचनाएं लाजवाब हैं...पर प्रायोजित सूरज में जो बात कही है आपने....बेहतरीन !!!!
    सभी के सभी शेर बहुत उम्दा हैं.....मन को छूते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  19. sanjay ji bahut hi sarthk lagi aapki dono rachnaye...aaj ke sandarbh me ekdam sateek


    -asha dhaundiyal

    (VIA EMAIL)

    उत्तर देंहटाएं
  20. शानदार ही नहीं जानदार भी है...

    उत्तर देंहटाएं
  21. इस प्रायोजित सूरज के क्या कहने .... कल भी बादलों की कनात से बाहर निकल ही आया था ...बड़ा बेशरम है ....

    उत्तर देंहटाएं
  22. apki kvitaye jindgi ki schaio ke bhut kreeb hai prne ke bad bhut der tk dimag sochta hai ki kuch to hai jo ander tk hila ke chla gya aur woh hai shbd jo her sans jaise dhrkti lgti hai.kuch likho on bujurgo ki aap beeti jinke buche nokriyo ke bhane onko chor ke khai dur ghr bsa lete hai aur maa bap pote potiyo ki photo vidieo dekh ke khush hote hai apne aansu chapate hai

    उत्तर देंहटाएं
  23. ख़ुदकी गर्मी से जलता है
    कैसे हो अनुशासित सूरज
    .........
    वजनी !

    उत्तर देंहटाएं
  24. रेनु जी, असली सूरज हो तो आपके मुंह में घीशक्कर ! पर अगर सूरज भी नकली हो और बादल और कनात भी तो थोड़ी चिंता की बात है। बेमकसद की बेशरमी अपने-आपमें कोई क़ाबिले-ज़िक्र उपलब्धि नहीं, यह शायद आप भी मानेंगीं। :)

    उत्तर देंहटाएं
  25. http://atheism.about.com/od/logicalflawsinreasoning/a/sophistry.htm

    उत्तर देंहटाएं
  26. KinhiN kaarnoN se post me sudhaar sambhav nahiN ho pa rahaa. Pahli ghazal ke aakhiri sher ko kripya yuN padheN :

    अभी तुम्हारा कर्ज़ लदा है सीने पर
    अदा करुंगा, बचकर कहाँ निकलते हो

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....