सोमवार, 9 मार्च 2009

‘‘होली विशेषांक’’

दोस्तो, होली-विशेषांक के लिए काफी तैयारी करनी पड़ी। दिल में धुकुर-धुकुर मची थी कि सही वक्त पर निकाल पाएंगे या नहीं ! पर अंतत: हम इसमें कामयाब हुए। लीजिए, अब यह आपके हाथों में है। पढ़िए, मज़ा लीजिए और टीपें छोड़िए कि कैसा लगा -
















अनावश्यक निर्देश:-
अगर फांट की दिक्कत हो रही हो तो कीबोर्ड उठाकर सिर में मारिए।


@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@


@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@


अनावश्यक निर्देश:-
अगर अभी भी पढ़ने को कुछ मिला हो तो सी।पी.यू. खोलकर उसमें घुस जाईए।


@@@@@@@@@@@@###################################


###########$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$


$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$&&&&&&&&&&&&&&


&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&


&&&&**************************************


**************))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))


)))))))(((((((((((((((((((((((((((((((((((((((((((((((++++++++++++


+++++++++++++++++++++++++++++++++++++++|


||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||^^^^^^^^^^^^^^^


^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^???????


???????????????????????????????????????????????>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>


>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>><<<<<<<<<<<<<<<<<<


<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<


अंतिम निर्देश:-अगर अभी भी कुछ नहीं मिलता तो समझ लीजिए आपको बु/फु/कुद्धू (तरंग में सही शब्द भूल गया हूं) बनाया गया है।


BURA NA MAANO HOLI HAI!

25 टिप्‍पणियां:

  1. हम भी बु/फु/कुद्धू (तरंग में सही शब्द भूल गया हूं) बन कर खूब आनंदित हुए.
    होली की ढेरों रंग बिरंगी शुभकामनाएं.
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. निर्देशों का पालन किया और अब कैफे आना पड़ा टिप्पणी करने...:)

    होली की बहुत बधाई एवं मुबारक़बाद !!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. उड़न तश्तरी जी, अब पंछी बनो, उड़ते फिरो मस्त गगन मेंऽऽऽऽऽऽ
    आपने कैफे आने की ज़हमत उठाई, बहुत-बहुत आभार, होली बहुत-बहुत मुबारक !

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये तरीका अच्छा रहा । काफी मेहनत की है आपने दिखाई दे गयी । मस्त माहौल में मनाइये । होली की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. होली के भांग मे ये गुण है भइया की लोग बहुत कुछ भूल जाते है , आपने तो सिर्फ़ फॉण्ट भूले है ..होली की अबीर आपके गालों पे .........मेरी तरफ़ से लगा लीजिएगा ...शुभकामनाए

    उत्तर देंहटाएं
  6. गिनीज बुक मे दिये या नही?????? सबसे छोटे ,बिना पन्नों के " ःऒळॊईशःऎशःआण्ख " के बारे में?????????
    आपको भी "ःऒळी - ंऊभाआख "।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बाहर निकल कर क्या करना है सिद्धार्थ जी ! बाकी सबको भी वहीं बुला लीजिए। नीशु और सूरज खन्ना जी, आप भी थोड़ा-थोड़ा गुलाल मल लीजिए मेरी तरफ से। लेकिन नाक-कान-आंख वगैरह सभी छेद बंद करके, हां। अर्चना जी गिनीज़ बुक क्यों, हम अपनी देसी बुक बनाने वाले हैं। वैसे पता नहीं आपने क्या पूछा है और मैं पता नहीं क्या जवाब दे रहा हूं ! ####@@@&&&~~~~~!?

    उत्तर देंहटाएं
  8. Rang nahi tha Gulshan ji to socha khoon se hi khel lun pr yahan aa ke to eke do do ke char dikhte hain ...kya karun....? Aapne kahin blog me bhang ki goli vaigairah to nahi dal rakhi....?????

    उत्तर देंहटाएं
  9. सही और सार्थक चर्चा की है आपने ....काफी मेहनत की है आपने दिखाई दे गयी । होली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. तुसी कुज वी कहो हिकारत फकीर जी, तुआडे आण नाल समां बण जांदा ए। एस करके तुआडी झल्लियां वी मैंन्नू चंगियां लगदीयां ने।

    Ravindra ji kya kareN, bachpan se hi mehnati aadmi haiN. HOLI MUBARAK.

    उत्तर देंहटाएं
  11. होली की मुबारकबाद,पिछले कई दिनों से हम एक श्रंखला चला रहे हैं "रंग बरसे आप झूमे " आज उसके समापन अवसर पर हम आपको होली मनाने अपने ब्लॉग पर आमंत्रित करते हैं .अपनी अपनी डगर । उम्मीद है आप आकर रंगों का एहसास करेंगे और अपने विचारों से हमें अवगत कराएंगे .sarparast.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  12. नया अनुभव सी पी यू के अंदर जाकर... होली की ढेरो शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ग्रोवर जी , मैने तो सीपीयू मे जाकर लिखा था ।
    पढने के लिये आपके निर्देशों का पालन किजीये ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. ठीक है अर्चना जी, संशोधित निर्देशों के अनुसार मैंने अपना सिर, आंखों समेत, मानीटर में घुसेड़ दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. तैयारी के साथ की गयी इस पोस्ट के लिये धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. bahut hi badhiya..
    holi ka asali aanand aaya gaya ..
    होली की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  17. लयो जी गुलशन जी असीं फेर आ गए समां बन्णन...! दस्सो कि कि ते कित्थे कित्थे बनिये ...??? होर दस्सो होली खेली ? रंग लगाया ?
    चलो तुहानू होली दियां बहोत बहोत शुभकामनावां...!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. हिमांशुजी, राजीव तनेजा जी, साहित्यिका जी, हरिकीर्तन जी, आप सबको होली की बीलेटेड बधाईयां। हमने तो जितनी होली खेलनी थी ब्लाॅग पर ही खेल ली। अब वजह मत पूछना दोस्तो । ‘नाम आएगा तुम्हारा ये कहानी फिर सही.....’’ .जैसी कोई बात हो न हो, पर दर्दनाक ज़रुर है जी....
    मयूर जी, आपके ब्लाॅग पर जाकर नवाबों पर टीपे छोड़ दी हैं......

    उत्तर देंहटाएं
  19. hi..it is nice to go through your blog... by the way which typing tool are you using...?
    recently..i was searching for the same and found.."quillpad". do you use the same...?

    www.quillpad.in

    keep writing...

    jai Ho..

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूब! आजकल ऐसी प्राचीन लिपि लिखने और पढ़ने वाले बचे ही कितने लोग हैं मुझे और आप को मिला कर बस चंद लोग हैं. मजा आ गया!
    होली मुबारक हो आप को.

    उत्तर देंहटाएं
  21. होली विशेषांक पसन्द आया
    पर कौनसी लिपि है भाई?

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....