शनिवार, 28 मार्च 2009

अगूंठा कटवा दिया, चश्मों ने फतवा दिया

ग़ज़ल



राहगीरों को तुम्हारे रास्तों ने क्या दिया/
मंज़िलों को और गहरी गर्त में पहुंचा दिया//
***********************************
जिन मचानों पर सुरक्षित था अंधेरों का वजूद/
उन मचानों को ही तुमने मंज़िलें ठहरा दिया//
*************************************
एक झूठे सच की खातिर कितने सच झुठला दिए/
आपकी दानाईयों ने मेरा दिल दहला दिया//
*************************************
नन्हीं आशाओं के अंकुर धूप में कुम्हला गए/
रोशनी ने सूरजों को जाने क्या समझा दिया//
**************************************
डर है वो उठने से पहले उंगली भी ना मांग ले/
दक्षिणा में जिसने अगूंठा मेरा कटवा दिया//
***************************************
जब किसी ने ज़िन्दगी को देखा नंगी आंख से/
बस तभी चश्मों ने उसको कुछ न कुछ फतवा दिया//
**********************************************


-संजय ग्रोवर




(18 दिसंबर, 1994 को दैनिक जागरण में प्रकाशित)

18 टिप्‍पणियां:

  1. जब किसी ने ज़िन्दगी को देखा नंगी आंख से
    बस तभी चश्मों ने उसको कुछ न कुछ फतवा दिया

    ये शेर पसंद आया ...



    फॉण्ट कम करो इससे पढने में सुविधा रहेगी

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावपूर्ण सुन्दर ग़ज़ल ....प्रस्तुति हेतु आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  3. Wah...
    Wah...

    उठने से पहले उंगली भी ना मांग ले/
    दक्षिणा में जिसने अगूंठा मेरा कटवा दिया//

    उत्तर देंहटाएं
  4. jahan pe asar hona chaihiye tha wahi ja ke hua...

    जब किसी ने ज़िन्दगी को देखा नंगी आंख से/
    बस तभी चश्मों ने उसको कुछ न कुछ फतवा दिया//


    Danik Jagran ki tarah mere dil main bhi prakashit ho gayi ye ghazal...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही प्‍यारे शेर कहे हैं आपने, पर रंग रोगन थोडा कम होता, तो गजल का ज्‍यादा मजा आता।

    -----------
    तस्‍लीम
    साइंस ब्‍लॉगर्स असोसिएशन

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस रंग-रोगन के पीछे डा. अनुराग के कमेंट का हाथ है तसलीम जी। सुधारने के चक्कर में सब बिगड़ गया। ‘‘दर्द बढ़ता ही गया ज्यों-ज्यों दवा की...........’’

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  8. राहगीरों को तुम्हारे रास्तों ने क्या दिया/मंज़िलों को और गहरी गर्त में पहुंचा दिया....बहुत दिनों बाद साफ और सच अर्थ परक रचना पढने को मिली ...धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. जब किसी ने ज़िन्दगी को देखा नंगी आंख से
    बस तभी चश्मों ने उसको कुछ न कुछ फतवा दिया..

    बहुत अच्छा लिखा है आपने ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक झूठे सच की खातिर कितने सच झुठला दिए/
    ***********************************
    नन्हीं आशाओं के अंकुर धूप में कुम्हला गए/
    रोशनी ने सूरजों को जाने क्या समझा दिया//
    ***********************************
    Nice !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. मैं उधर देखती रही हरी कीर्तन करने क्यों नहीं आये इधर देखा तो आप सम्वाद घर सजाये बैठे हो वल्लाह क्या गज़ब ढाया है इस बार....

    नन्हीं आशाओं के अंकुर धूप में कुम्हला गए/
    रोशनी ने सूरजों को जाने क्या समझा दिया....

    ਬੱਲੇ-ਬੱਲੇ....!!

    जब किसी ने ज़िन्दगी को देखा नंगी आंख से/
    बस तभी चश्मों ने उसको कुछ न कुछ फतवा दिया

    ਅਛਾ.....?? ਅੱਜ ਪ੍ਤਾ ਲੱਗਾ ਤੁਸੀਂ ਚਸਮਾ ਕਿਓਂ ਪਾ ਕੇ ਰਖਦੇ ਹੋ.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. bhot bhot shukriya ji twada. jaldi hi aawange harikirtan ji de dere te pravachan karan. A viche viche gurmukhi kyon waad ditti e. mere layeN te kala akkhar bhains de barabar haiga

    उत्तर देंहटाएं
  13. नई वेबपत्रिका
    www.deshkaal.com
    पर पढ़ें संजय ग्रोवर का व्यंग्य
    लिंक है:-
    http://www.deshkaal.com/Details.aspx?nid=34200924557951
    या फिर संजय ग्रोवर या संवादघर को कापी करके गूगल सर्च में पेस्ट करके खोजिए और जानिए सब कुछ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. जब किसी ने ज़िन्दगी को देखा नंगी आंख से
    बस तभी चश्मों ने उसको कुछ न कुछ फतवा दिया...

    kya baat hia..bahut khoob...badhai ho aapko...

    उत्तर देंहटाएं
  15. Thanks for joining my blog. My new blog's link is
    http://parastish.blogspot.com/

    God bless
    RC

    उत्तर देंहटाएं
  16. एक झूठे सच की खातिर कितने सच झुठला दिए
    आपकी दानाईयों ने मेरा दिल दहला दिया...

    bahut khoob...

    उत्तर देंहटाएं
  17. डर है वो उठने से पहले उंगली भी ना मांग ले/
    दक्षिणा में जिसने अगूंठा मेरा कटवा दिया//

    -आजकल के गुरू हैं, जो माँग लें वो कम.

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....