रविवार, 1 मार्च 2009

व्यंग्य-कक्ष में*****ऐतिहासिक भावनाएं*****

पिछले कुछ महीनों से इतिहास ने मेरे दैनिक जीवन में खलबली मचा दी है। मन का चैन और आँखों की नींद उड़ गयी है। जब भी कुछ खाता हूँ, पीता हूँ या करता हूँ तो मन में आशंकाएं घिरने लगती हैं कि हज़ार साल बाद या पाँच सौ साल बाद या पचास साल बाद इसे लेकर क्या सोचा जाएगा ? क्या इससे लोगों की भावनाएं तो नहीं आहत हो जाएंगी ? क्या इससे कोई अपने आपको उपेक्षित, अपमानित, उपहासित, हास्यास्पद हुआ तो नहीं महसूस करेगा ? लगने लगा है कि अब सब कुछ इसे लेकर तय करना पड़ेगा कि पचास/पाँच सौ/पाँच हज़ार सालों बाद उसके कैसे और कितने अर्थ व निष्कर्ष निकाले जाएंगे!

मान लीजिए सौ साल बाद आदमी कम्प्यूटर की फ्लौपियां, सीडियां आदि खाना शुरु कर दे तो उस फ्लौपी-खाऊ समुदाय की भावनाएं इस तथ्य को जानकर कितनी आहत होंगीं कि सौ साल पहले हमारे लोग रोटी जैसी कोई पिलपिली, खुरदुरी और नरम चीज़ खाकर गुज़ारा करते थे। उनमें से कई लोगों को यह भी लगेगा कि यह एक ऐतिहासिक झूठ है। ऐसा सम्भव ही नहीं कि सीडी-खाऊ और सेलफोन-पीऊ हमारी महान जाति ने कभी रोटी-सब्ज़ी-दाल जैसी निकृष्ट व अर्द्धविकसित डिशें खाईं होें। इसलिए इन दुष्ट तथ्यों को इतिहास से निकाला जाए और हमारी नरमो-नाजु़क भावनाओं को आहत होने से बचाया जाए।

सौ/पचास/पाँच सौ साल बाद जब आदमी आदमी को खाने लगेगा (हो सकता है मैं ग़लत होऊँ और दस साल बाद ही ऐसा हो जाए। हो सकता है आज भी ऐसा हो रहा हो। ) तो यह जान कर उसके जज़्बात को कितनी ठेस पहुँचेगी कि कुछ साल पहले हमारे पुरखे पशुओं के माँस जैसी गलीज़ चीजें़ खाया करते थे। एकाध अपवाद ने कभी-कभार एकाध औरत को तंदूर में भूना ज़रुर पर खाने का पराक्रम नहीं दिखा पाया। अन्यथा मानव-भक्षण से ज़्यादा ‘ग्रेसफुल’ कार्य और क्या हो सकता था। अगर पशु को खाने से इंसान पशुवत हो जाता था तो मानव को खाने से ज़्यादा मानवीय क्यों नहीं हो जाएगा भला!

कई बार अपने देसी पाखाने में उंकडँ़ू बैठा मैं यह सोच-सोच कर काँप उठता हूँ कि जब सुलभ शौचालयों समेत हमारे सारे पाखाने विदेशी ढंग की सीटों से सुसज्जित हो उठेंगे तो मेरी भावी पीढ़ियों को यह जान कर कितना दुख होगा कि उनके पितर पाखाने में भद्दे स्टाइल में बैठ कर शौच-क्रिया का संचालन किया करते थे। पाठकगण, आप बात को हल्के ढंग से न लें। बहरहाल, मैं तो समझ गया हँू कि आज की हल्की-सी भी हरकत का सरोकार कल की भारी-भरकम भावुकताओं से है। आज कुछ भी करने से पहले यह नहीं देखना होगा कि आज स्थितियां क्या हैं, ज़रुरतें क्या हैं, उपलब्धताएं क्या हैं। बल्कि यह देखना होगा कि कल इसके क्या ऐतिहासिक अर्थ निकाले जाएंगे! सदियों बाद लोगों की भावनाओं पर इसका क्या असर पड़ेगा!

आगे की तो मैं पहले भी सोचता था पर अब कुछ ज़्यादा ही सोचने लगा हँू। मसलन जब गाता हँू तो दस साल आगे की सोचता हँू। जब जागता हँू तो पचास साल आगे की सोचता हँू। जब सोता हँू तो हज़ार साल आगे की सोचता हूँ।

जब बेईमानी करता हूँ तो कुछ नहीं सोचता!

पर सोचता हूँ कि कभी इन बातों पर भी हमारी आने वाली पीढ़ियों की भावनाएं आहत हुआ करेंगी जब उन्हें पता लगेगा कि हम बात-बात में झूठ बोलते थे, तिकड़म भिड़ाते थे, भ्रष्टाचार में सिर से पाँव तक लिप्त थे, चारा और ताबूत तक में कमीशन खा जाते थे, औरतों को नंगा घुमाते थे, आदमी तक से पशुवत् व्यवहार करते थे, किडनियां निकाल कर बेच देते थे, एक-दूसरे का खून पीने पर उतारु रहते थे!?
फिलहाल भावनाओं की वो किस्म ज़्यादा प्रचलन में है जो बात-बात पर आहत हो जाती है। भावनाओं पर इतना और ऐसा ही ज़ोर रहा तो डर है कि जल्दी ही भावनाएं भी ऐतिहासिक न हो जाएं!

-संजय ग्रोवर


(‘समयांतर’ में प्रकाशित)

4 टिप्‍पणियां:

  1. priy grover ji maine aapki etihaasik bhawnaaye padi ,aapki aasankaaye nirmool nahi hai mujhe to unme abhi se saarthktaa najar aa rahi hai aapki gahri soch ko meraa baar baar dhanywaad

    उत्तर देंहटाएं
  2. पशु को खाने से इंसान पशुवत हो जाता था तो मानव को खाने से ज़्यादा मानवीय क्यों नहीं हो जाएगा भला

    वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं
  3. ग्रोवर जी,
    इतना न सोचे आप,क्योकिं--आने वाली पीढीयों को सच के बारे मे कुछ पता ही नही चलेगा,तब तक तो यह शब्द शब्दकोश से भी हट जायेगा। वे पैदाइशी तिकड्मीं होंगे(मुहुर्त देख कर ही प्रसव होने लगे है)।भ्रष्टाचार के घर मे रहते हुए खुद ही कमीशन तो क्या,चारा और ताबूत ही खा जायेंगे। औरत और आदमी मे फ़र्क रहेगा क्या?,और किडनी क खरीदार बचेगा क्या? पानी के अभाव के बारे मे तो आप जानते ही होंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ग्रोवरजी
    मजेदार व्यंग्य।
    कम से कम फ्लोपी के मामले में सौ साल बहुत ज्यादा होंगे, फ्लोपी तो अभी से एन्टिक चीज बन गई है, मेरे साइबर कॉफे में कोई फ्लोपी लेकर प्रिंट करवाने आता है तो उसे मेरे साथ अन्य ग्राहक भी देखकर अचरज करते हैं कि यह सौ साल पुरानी चीज कहां से ले आया।
    :)

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....