बुधवार, 17 मार्च 2010

पुरस्कार का बहिष्कार और अखिल-भारतीय अरण्य-रोदन

गधा ऐसे सम्मेलन में कोई पहली बार नहीं आया था।
जब भी वह मानवता, ईमानदारी प्रेम वगैरह जैसी दकियानूसी, पुरातनपन्थी, आउट आॅफ डेट, आउट आॅफ फैशन हो चुकीं बातों का बोझा ढोते-ढोते थक जाता है, ऐसे ही किसी सम्मेलन की किसी कुर्सी पर बैठ कर थोड़ी देर सुस्ता लेता है।
‘शायद हर गधे की यही मजबूरी है’, ऐसा सोचकर वह अपने दिल को तसल्ली दे लेता है।
मंच पर सभी रंगों के कलम कुमार विराजमान थे - लाल, पीले, हरे, केसरिया ... ... ... और इनके अलावा जितने भी रंगों के कलम कुमार हो सकते हैं ... ... ... सभी।
गधे के आगे वाली पंक्तियों में जितने भी लोग बैठे थे, उन सबको वी.आई.पी. का दर्जा दिया गया था।
यह कोई नई बात न थी।
गधे के पीछे यानि सबसे पीछे की पंक्तियों में ढेर सारे आमलाल ढेर हुए पड़े थे।
(चूंकि गधा खुदमें और आम आदमी में कोई फर्क पाता होगा सो फिलहाल उसने आम आदमी का नाम सुविधा के लिए आमलाल रख छोड़ा था।)
गधा इस बात से भी हैरान न होता था। वह जानता था कि जो आमलाल लेखकों और वक्ताओं की सबसे अगली पंक्तियों में गाजे-बाजे, शहनाई या ढोल की आवाज़़ के साथ पेश किए जाते हैं वही आमलाल ऐसे लेखकों व वक्ताओं द्वारा आयोजित सम्मेलनों की पिछली पंक्तियों में ‘खाली जगह भरो‘ के अन्दाज़ में कुर्सियां भरने और तालियां पीटने के काम आ जाते हैं।
हमेशा की तरह आज भी एक विषय रखा गया था। आज का विषय था ‘प्रो0 हठधर्मी ने ‘चमचम’ पुरस्कार क्यों लौटाया‘।
एक बार तो इस वाक्य को पढ़कर गधा गलतफहमी में पड़ गया कि कहीं सभी कलम कुमारों को इस बात का अफसोस तो नहीं है कि प्रो0 हठधर्मी ने पुरस्कार क्यों लौटा दिया।
मगर फिर उसने सोचा कि बिना कुछ जाने-सुने कोई अन्दाजा लगा लेना ठीक नहीं होगा।
सभी कलम कुमारों ने बारी-बारी से अपने हिस्से के विचार रखे।
और गधे ने (चूंकि गधा था) नोट किया सभी कलम कुमार प्रो0 हठधर्मी के इस प्रस्ताव का जिक्र तो बड़े जोर-शोर से करते कि पुरस्कार उदीयमान साहित्यकारों को दिए जाएं और ऐसी कुछ धनराशि वयोवृद्ध व अस्वस्थ साहित्यकारों के लिए रखी जाए। मगर प्रो0 हठधर्मी के बयान के उस हिस्से का जिक्र आते-आते तकरीबन सभी की दशा हवा निकले गुब्बारे की मानिन्द हो जाती, जिसमें प्रो0 ने पुरस्कारों के औचित्य पर उंगली रखी थी कि आखिर पुरस्कार दिए भी क्यों जाते हैं।
खैर साहब, जहाँ तक तालियां बजने की बात है तो उस दिन भी खूब बजी। कलम कुमारों की एकता और परस्पर सहयोग का अनूठा उदाहरण देखने को मिला।
जब लाल कलम कुमार अपना वक्तव्य समाप्त करते तो पीले, हरे, नारंगी आदि सभी कलम कुमार तालियां बजाते। ऐसे ही जब हरे कलम कुमार अपना वक्तव्य खत्म करते तो बाकी सब रंग के बजाते और इतनी बजाते कि वहां बैठे आमलालों को लगने लगता कि अगर हमने तालियां न बर्जाइं तो इसे हमारे साहित्य विरोधी और कूड़मगज़ होने की निशानी मानी जाएगी।
इस बात पर किसी का भी ध्यान न था कि गधा तालियां बजा रहा है या नहीं।
गधों पर ध्यान देता भी कौन है। वैसे भी हर सभा में एक न एक गधा तो पहुंच ही जाता है।
फिर पुरस्कार वितरण समारोह हुआ। लाल रंग के कलम कुमार को पुरस्कृत किया गया। साथ ही यह भी घोषणा की गई कि अगली बार का पुरस्कार नारंगी कलम कुमार को दिया जाएगा।
अबकी बार तो गधा भी थोड़ा सा हैरान हुआ।
उसने अगली पंक्ति में सो रहे एक वी.आई.पी. जी को जगाकर इसका कारण पूछा। वी.आई.पी. जी ने बिना पीछे देखे बताया कि अब तो पीले, हरे, लाल आदि सभी कलम कुमारों को पुरस्कार मिल चुके हैं। अगले साल के लिए नारंगी जी ही बचे हैं। यही इस संस्था के पुरस्कार देने के नियम हैं।
बेचारा मूर्ख गधा। वह समझ बैठा था कि आज का पुरस्कार भी सर्वश्रेष्ठ वक्तव्य और सार्थक विचारों व प्रस्तावों के आधार पर दिया गया है। मगर थोड़ी देर माथापच्ची करने पर उसे ध्यान आया कि ऐसा कुछ हुआ ही कहाँ था।
गधे ने एक बार फिर गधापन दिखाया। उसने वी.आई.पी. जी से विनय की कि उसे मंच पर बोलने की अनुमति दी जाए।
तब पहली बार वी.आई.पी. जी ने मुड़कर देखा। जब उन्होंने गधे को देखा तो वे लगभग गुर्राते हुए स्वर में बोले,‘‘ऐ मूर्ख गधे, हम गधों को मंच पर बोलने की अनुमति नहीं देते।‘‘
‘‘और भी तो बोले हैं,‘‘ गधे ने कहा,‘‘और जब इतने खास लोगों के बाद एक आम गधे को मंच पर लाया जाएगा तो सोचिए आपका कितना नाम होगा। दलितो-शोषितों व आम लोगों ... ... मेरा मतलब है आम गधों के उद्धारक के रूप में आपका नाम व चित्र कल के अखबार में मुखपृष्ठ पर प्रकाशित होगा।‘‘
अपनी मशहूरी की सेहत की समृद्धि में सहायक हो सकने वाले इस मक्खन पर वी.आई.पी. जी का महत्वाकांक्षी पैर ‘स्लिप‘ हो गया। मन में फूट रहे लड्डूओं को दया और सहानुभूति के ढक्कन के नीचे छुपाते हुए उन्होंने कहा,‘‘चलिए, जहां इतने बोले, वहां एक और सही।‘‘
और साहबान, गधे ने मंच पर चढ़कर सिर्फ एक शेर कहाः-

सोचता तो होगा तन्हाई में मनसबदार भी,
जो खिलौना हो गया लड़ने की ठाने किस तरह।

और यकीन मानिए, यह मुझे भी नहीं पता कि दूसरे दिन के अखबारों में गधे का और उस शेर का जिक्र था या नहीं।

(मुल्ला नसरूद्दीन, शरद जोशी, कृश्न चंदर, श्रीलाल शुक्ल और गधे से क्षमा याचना सहित)

-संजय ग्रोवर

(लगभग 15 साल पुराना व्यंग्य)

20 टिप्‍पणियां:

  1. जी हाँ, आम आदमी का जिक्र तभी होता है अखबार में, जब वह एक्सीडेंट में, बीमारी से या भूख से मरता है. नहीं तो वो ऐसे सम्मेलनों में जाता है, ताली बजाता है और लौट आता है. बहुत अच्छा व्यंग्य किया है. भला पुरस्कार देने वाले और लौटाने वाले से गधे का क्या मतलब?

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा लगा आपका व्यंग्य और शैली। आनंदित कर देने वाली शैली है आपकी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रभु मैं आपसे बहुत प्रभावित हुआ और आपसा ही बनना चाहता हूँ। कृपया बताइए आप इस गधेपन के साथ ही पैदा हुए थे या आप इस अवस्था को बाद में प्राप्त हुए। आप पर यह गधापन लादा हुआ तो बिलकुल नहीं लगता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. 15 साल पुराना व्यंग लेकिन आज भी उतना ही ताज़ा...इसे कहते हैं कालजयी लेखन...वाह...कृशन चंदर की एक गधे की आत्म कथा और एक गधे की वापसी की याद ताज़ा कर दी...कभी इन किताबों को ना जाने कितनी बार पढ़ के हंसा करता था...आज कृशन चंदर को कोई शायद ही जानता हो...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाई अभी तो कई लोगों ने शलाखा को थप्पड़ लगाया है…लगे हाथ उनको भी बधाई दे डालिये। व्यंग्य चुटीला है अभी…नीरज भाई लोग जानते हैं अब भी कृशन चंदर को…मैने पुस्तक मेलों मे आज भी उनकी किताबें ख़ूब बिकती देखी हैं…पर उन पर बात नहीं होती…शायद डरते हैं लोग।

    उत्तर देंहटाएं
  6. @VICHAAR SHOONYA 'kisi ke jaisa' ban-ne ki koshish kareNge to kabhi maulik gadhe nahiN ban payeNge :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. अपने ताज़ा व्यंग्य को क्यों 15 साल पहले का बता रहे हो भाई। ऐसा कह कर क्या अपने आप को ज्योतिषी सिद्ध करके भविष्यवक्ता की दुकान खोलने का इरादा है? या वक़्त ही नहीं बदला शायद जो 15 साल पुराना भी अभी तक मौज़ूं है।
    बहरहाल बधाई इत्यादि।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अगर आपने सिर्फ़ गधे से क्षमायाचना कर ली होती तो काम नहीं चलता क्या?

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहद सटीक और प्रासंगिक।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत प्रभावशाली लेख है. कटाक्ष की धार पैनी, दिशा, दशा और लक्ष्य साफ़ है .
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. deepti gupta
    bazariye EMAIL likhti hain :

    संजय जी, आपका व्यंग बहुत रुचिकर बन पड़ा है. आपने क्या खूब भिगो कर प्यार से वार किए हैं. मुझे बहुत अच्छा लगा.इसके लिए आपको पुरस्कार मिलना चाहिए. आजकल साहित्य जगत में पुरस्कारों का जिस तरह आटम - बाटम हो रहा है - आपका व्यंग उसका सटीक चित्र खींचता है. और लिखिए ऐसा ही कुछ.

    दीप्ति

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति! बढ़िया व्यंग्य! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  13. मज़ा आ गया संजय जी..! ज़रा और लंबा होता तो भी...!

    उत्तर देंहटाएं
  14. @Uday Prakash
    निश्चय ही कुछ चीज़ें और जोड़ी जा सकती थी इसमें। पर थोड़ी हड़बड़ी में, थोड़े आलस्य में और कुछ असमंजस में, पुराने को ही उठाकर जैसे का तैसा डाल दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सटीक लिखा है , आपने पहले भी आदमी के उत्पाद होने की बात कही है , सब बिका है बाज़ारों में ,सागर साहब की कुछ पंक्तियाँ जोड़ना चाहूँगा

    ये जो दीवाने से दो चार नज़र आते हैं
    इन में कुछ साहिब-ए-असरार नज़र आते हैं

    कल जिसे छू नहीं सकती थी फ़रिश्तों की नज़र
    आज वो रौनक़-ए-बाज़ार नज़र आते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर संजय जी.कितना भी पुराना हो है तो सामयिक और जरूरी .
    लगे रहो................................... :)

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्द्वंद (1) अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंदाज़ (1) अंधविश्वास (1) अकेला (3) अनुसरण (1) अफ़वाह (1) अफवाहें (1) अर्थ (1) अलग (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आकाश (1) आज़ाद (1) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आभास (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (4) इतिहास (1) इमेज (1) ईक़िताब (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचा (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कन्फ्यूज़न (1) कमज़ोर (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (70) कशमकश (2) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) काव्य (3) क़िताब (1) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) ख़ाली (1) खीज (1) खेल (1) गज़ल (5) ग़जल (1) ग़ज़ल (29) ग़रीबी (1) गाना (5) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (5) गुंडे (1) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चांद (2) चालू (1) चिंतन (3) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छुपाना (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) छोटापन (1) छोटी बहर (1) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) ज़हर (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) झूठ (1) झूठे (1) टॉफ़ी (1) ठग (1) डर (4) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तमाशा़ (1) तर्क (2) तवारीख़ (1) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तुक (1) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिखाना (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दिशाहीनता (1) दुनिया (2) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) द्वंद (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) धोखेबाज़ (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़रिया (1) नज़्म (5) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (4) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (2) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (3) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) पड़़ोसी (1) पद्य (4) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (8) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पुराना (1) पैंतरेबाज़ी (1) पोल (1) प्रकाशक (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फंदा (1) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बच्चा (1) बजरंगी (1) बड़ा (3) बड़े (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बयान (1) बहस (15) बहुरुपिए (1) बात (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (2) बेईमानी (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भाषणबाज़ (1) भीड़ (4) भ्रष्ट समाज (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मज़ाक़ (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) मशीन (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) महापुरुष (1) मां (1) मातम (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मायना (1) मासूमियत (1) मिल-जुलके (1) मीडिया का माफ़िया (1) मुर्दा (1) मुसीबत (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (2) राजनीति (5) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (8) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लेखक (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (84) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) व्याख्यान (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (57) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संपादक (1) संस्थान (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (2) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साजिश (1) साभार (3) साहस (1) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (6) साहित्य में आतंकवाद (18) सीज़ोफ़्रीनिया (1) सोच (1) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) स्वतंत्र (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (4) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) हिम्मत (1) हुक्मरान (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) alone (1) altercation (1) ancestors (1) animal (1) atheism (1) audience (1) author (1) awards (1) big (2) Blackmail (1) book (1) chameleon (1) character (1) child (1) comedy (1) communism (1) conflict (2) confusion (1) conspiracy (1) contemplation (1) corpse (1) Corrupt Society (1) courage (2) cow (1) cricket (1) crowd (2) cunning (1) dead body (1) devotee (1) different (1) dishonest (1) dishonesty (1) Doha (1) drama (1) dreams (1) ebook (1) Editor (1) elderly (1) employment (1) experiment (1) Facebook (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (19) god (1) gods of atheists (1) goons (1) great (1) greatness (1) harmony (1) hidden world (1) highh (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (2) hollow (1) human-being (1) humanity (1) humor (1) Humour (3) hypocrisy (4) hypocritical (2) in the name of freedom of expression (1) inner conflict (1) innocence (1) innovation (1) institutions (1) IPL (1) jokes (1) lie (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (2) lonely (1) love (1) lyrics (3) machine (1) master (1) meaning (1) mob (3) moon (2) movements (1) music (2) name (2) neighbors (1) new (1) old (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppotunism (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) perspective (1) plagiarism (1) poem (9) poetry (29) poison (1) Politics (1) poverty (1) pressure (1) prestige (1) publisher (1) puppets (1) quarrel (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) rumors (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (25) schizophrenia (1) secret (1) secrets (1) sectarianism (1) senseless (1) shayari (6) short story (5) shortage (1) sky (1) slavery (1) song (7) speeches (1) sponsored (1) spoon (1) statements (1) stature (1) style (1) The father (1) The gurus of world (1) thinking (1) thugs (1) tradition (1) trap (1) trash (1) travel (1) truth (1) ultra-calculative (1) unemployed (1) values (1) verse (7) vicious (1) virtual (1) weak (1) weeds (1) woman (1) world (2) world cup (1) world to show (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....