मंगलवार, 2 मार्च 2010

धत्त तसलीमा !

तसलीमा जो हैं सो बचपन से ही अत्यंत षड्यंत्रकारी प्रवृत्ति की रहीं। उन्होंने ख़ुद ही अपने चाचा-मामा को उकसाया कि वे उनसे दुराचार करें या इसकी कोशिश करें ताकि बड़ी होकर वे इस पर लिख कर पैसा कमा सकें।

वे इतनी बेवकूफ़ रहीं कि क्रांति और बदलाव की कुसंगत में पड़ गयीं। उस मूर्ख औरत को यह नहीं न मालूम था कि यहां क्रांतिकारियों और परिवर्तनकारियों को भी पहले कलाकार, शिल्पकार और साहित्यकार होना पड़ता है, भले बाद में उस सीखी हुई भाषा से भ्रांति और भटकाव फैलाओ। नहीं तो आठ लेखों और साठ जुगाड़ों वाला कोई भी महात्मा उन्हें दोयम दर्जे का लेखक सिद्ध करने का आरक्षण पा जाता है। यहां अच्छे-अच्छे ‘रिबेल्स’ को पहले क्यू में खड़े होकर अपने वाक्यों की मात्राएं गिनवानी होती हैं। चाहे तो कोई प्रूफ़ रीडर भी अच्छी-ख़ासी क्रांति को एक टिक लगाकर कर रिजेक्ट कर सकता है। और मैं आपको बताऊं कि तसलीमा कोई धक्के-वक्के नहीं खा रही। आपने वो गाना सुना है न ‘अराउंड द वल्र्ड इन एट डालर्स......’। हां हां बस वैसे ही घूमने निकलीं हैं तसलीमा। मुकदमे खा रही है, फ़तवे जमा कर रही है। शौक़ीन औरत ! धत्त ! क्या कहा संघर्ष ? अरे, संघर्ष तो हम करते हैं। आप क्या समझते हैं जुगाड़ से विदेश यात्राएं हथियाना मामूली काम है !? और, फिर वहां जाना, जाकर रहना, रहकर दोस्तों-रिश्तेदारों से मिलना-जुलना, उनके साथ घूमना-फिरना, पर्यटन-स्थल देखना, शापिंग करना फिर यहां आकर पास्ता और नाश्ता के स्वाद और सुगंध को शब्दों में अभिव्यक्त करना। रिश्तेदारों के घरों में जा-जाकर वहां से लाए तोहफे बांटना...। तसलीमा करके दिखाएं न यह सब।

करतीं क्या है वो। लिखती हैं जी। लिखती भी ऐसा जो साफ-साफ एक बार में समझ में आ जाए। ऐसे तो कोई भी लिख लेगा। अरे, ऐसा लिखो जिसके चार मतलब हों और चार बार में समझ में आए। और जो समझ में आएं वो अगला पैरा पढ़ते ही फ़िर सफ़ा हो जाएं। समझ ही न आए कि हम -तिया हैं कि लेखक बदमाश है। पाठक को सिर न धुनना पड़े तो कला काहे की। अरे, सीधी बात, फ़ायदे हम चारों मतलबों से उठा सकें। नुकसान की बारी आए तो चारों से मुकरा जा सके। तसलीमा में है इत्ती कला ?

इतनी बड़ी हो गयीं अभी तक धर्मनिरपेक्षता का मतलब ही नहीं समझतीं। सरलीकरण करतीं हैं। कहतीं हैं सब धर्मों से समान दूरी। बताईए ! आप जिस घेरे में पैदा हुए उसमें और दूसरों में समान दूरी कैसे हो जाएगी ? अपने घेरे को एक हाथ तो ऊँचा रखना पड़ेगा न ! समान दूरी से देखने के लिए तो अपना घेरा छोड़ कर बाहर निकलना पड़ेगा ! ना बाबा ! हमें तसलीमा नहीं बनना। हमें परिवार भी चाहिए, प्रतिष्ठा भी चाहिए, सुरक्षा भी चाहिए, समाज भी चाहिए और क्रांति भी चाहिए। इसमें क्रांति की क्वालिटी हल्की रहेगी पर चलेगा। तसलीमा तो सरलीकरण करतीं हैं। रामू चाचा मुझे कैंची से डराते थे और मुन्नू मामा रस्सी से। आप सिर्फ़ डराने को देखेंगे ? कैंची और रस्सी में फ़र्क़ ही नहीं करेंगे ?

मैं आपको दूसरे तरह की दूसरी चीज़ें भी समझाता हूं। मान लीजिए मैंने 10 साल और 20 लाख रुपए लगा कर विभिन्न धर्मों और समाजों का अध्ययन किया। इधर बाहर आकर मुझे पता लगा कि इन 10 सालों में समाज, धर्मों और समुदाओं से छुटकारा पाने के कगार पर आ खड़ा हुआ है। अब बताईए आप ? मेरी मेहनत का क्या होगा ? मेरे तो 10 साल गए पानी में ! मेरे पैसे कौन वापिस करेगा ? 10-20 साल और विषमता रहती तो कम-अज़-कम मेरी तो भरपाई हो जाती। एइ, उछलिए मत, अभी 100 साल ऐसा कुछ नहीं हो रहा। एक मामूली मिसाल दी मैंने।

बात कहने का ढंग होता है, सलीका होता है। कभी बाद में अपनी गाली को शिष्टता और दूसरे की सभ्यता को धृष्टता सिद्ध करना पड़ जाए तो ? सब पहले से सोच कर चलना पड़ता है। तसलीमा नहीं करती तो ना करे बाक़ी तो सब धर्म के करते हैं ना ! अपने धर्म पर उंगली उट्ठी नहीं कि कह दिया कि ई तो दूसरे धर्म के आक्रमणकारियों ने कर दिया वरना अपना जो है एकदम पाक-साफ़ था। औरतों की हालत और हमारे धरम में ख़राब ! अरे ऊ तो पितृसत्ता ने कर दी वरना अपुन का तो बिलकुल शुद्ध-बुद्ध था। मर्दों पर अत्याचार ! मातृसत्ता जिम्मेदार। धरम नाहीं। धरम और अपना धरम तो बस्स मीठा-मीठा गप्प। अरे जब कोई हमसे पूछता ही नाही तो हम काहे बताएं ? कोई पूछे तो कि धर्मो-मजहब के बनाने वाले को नाहीं पता था कि कोई पितृसत्ता भी हुआ करे है दुनिया में ? हमारे अलावा भी धरम हुआ करेंगे दुनिया में ? तो ईका ख़ातिर पहले ही इंतेजाम काहे नाही किया क़िताबन में ? इत्ते ही दूरदर्सी रहे का ?

देखिए मेरी भाषा क्या से क्या हो गयी तसलीमा पर लिखते-लिखते। तसलीमा पर इतना लिख दिया, बहुत है। अब आप इसे टिप्पणी समझो, व्यंग्य समझो, पत्र समझो, संपादकीय समझो, बुढ़भस समझो। समझो, समझो, मत समझो। आपका सिरदर्द है। एकदम फालतू टापिक है।

आईए थोड़ी कला पर बात करें।

धत्त तसलीमा !

 
-संजय ग्रोवर

41 टिप्‍पणियां:

  1. क्या घुमा के मारा है भीङू.....वाह

    उत्तर देंहटाएं
  2. बाप रे !!! क्या व्यंग्य है?? और कुछ तो कहा जा ही नहीं रहा है. आपने सब कह दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद तीखा कटाक्ष,एक पैना व्यंग्य.

    उत्तर देंहटाएं
  4. गज़ब का व्यंग...आपकी लेखनी को सलाम...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाई वाह क्या बात है , क्या मारा है आपने भीगा के , मजा आ गया ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. भैया, आप अपने अगल-बगल देख लेना कोई मुस्लिम बस्ती ना हो, सीधे पत्थर फेंकते है, यह भी नहीं देखते कि किसको लगा !:)

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut khoob...taslima ki galti ye hai ki pehle to wo aurat hain uper se naastik

    उत्तर देंहटाएं
  8. करतीं क्या है वो। लिखती हैं जी। लिखती भी ऐसा जो साफ-साफ एक बार में समझ में आ जाए। ऐसे तो कोई भी लिख लेगा। अरे, ऐसा लिखो जिसके चार मतलब हों और चार बार में समझ में आए। और जो समझ में आएं वो अगला पैरा पढ़ते ही फ़िर सफ़ा हो जाएं। समझ ही न आए कि हम -तिया हैं कि लेखक बदमाश है। पाठक को सिर न धुनना पड़े तो कला काहे की।

    कमाल का व्यंग ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. पहले तो इस तस्‍लीमा को भारत से भगाना चाहिए। वह हमारे देश की नहीं है, भारत को कई लोगों ने धर्मशाला समझ लिया है। यहां आए एक दिन के लिए और ठहर गए पीढ़ी दर पीढ़ी। तस्‍लीमा में इतना साहस होना चाहिए कि वह अपने देश बांग्‍लादेश में रहने की हिम्‍मत रखें। अब लिखा और भारत में भड़का दिया लोगों को। निकालो इसे, यह भारतीय नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. संजय जी एक बात पूछना चाहुंगा कि आपकी उम्र जब दस वर्ष की रही होगी तब आपने सोचा था कि आप ब्लाग लिखा करेंगे। अगर जवाब आपका हां मे है तो मै ये कहुंगा कि शायद तब ब्लाग का जन्म ही नहीं हुआ होगा, दूसरा अगर जवाब न हो तो किसी औरत के बारे ये कहना कि उसने अपने मामा-चाचा को उकसाया जैसे शब्दों को लिखना आपकी निम्न मानसिकता का परिचायक सा लगता है। हो सकता है कि तसलीमा को तब से जानते हो जब से वो बांग्लादेश में ककहरा सीख रही थी लेकिन फिर भी आपने अपनी लेखनी से कटाक्ष कम तुच्छ मानसिक स्थिति का परिचय दिया है। और आपके टिप्पणीकार भी लगता है विचारक न होकर टिप्पणीकार ही है

    उत्तर देंहटाएं
  11. जो बात सीधे नहीं कह सकते उसे व्यंग में लपेट कहा जा सकता है.
    क्या लपेटा है...वाह

    उत्तर देंहटाएं
  12. अच्छा लिखा संजय जी ...पर कोई समझेगा दूसरों की पीड़ा इसमें सदेह है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपका व्यंग्य वाकई मारक है
    सहमत पूरी तरह सहमत भाई!

    उत्तर देंहटाएं
  14. शशांक जी यह व्यंग्य है। जब कोई पुराना दोस्त हमें कई साल बाद मिलता है जो पहले बहुत पतला था अब बहुत मोटा हो गया है तो कटाक्ष मे हम कहते कि ‘क्या बात है यार दिन पे दिन सूखते जा रहे हो !?’ तब हमारा असली मतलब होता है कि क्या खाते हो जो इतना मुटियाते जा रहे हो। इसी तरह से पढ़ेंगे तो आपको इस व्यंग्य का असली अर्थ समझ में आएगा। अभी आप बिलकुल उल्टा अर्थ निकाल रहे हैं। अगर आप व्यंग्य विधा को जानने के बावजूद ऐसा कह रहे हैं तो आपकी बात को भड़काने की संज्ञा दी जा सकती है। ऐसा ही कई साल पहले राजेंद्र यादव के व्यंग्य भाषा में लिखे गए संपादकीय ‘होना/सोना एक ख़ूबसूरत दुश्मन के साथ’ के साथ किया गया था। पर मुझे लगता है कि आपकी नीयत वैसी नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. kya shal men lapet kar juta mara hai.
    ek hi jute se chara ko mara.
    ye mara....vo mara...
    mara aisa ki mar khakar bhi hansana padata hai...
    bhai kamal kara diya....

    उत्तर देंहटाएं
  16. जोर से मारा आवाज भी नहीं हुई

    उत्तर देंहटाएं
  17. मारक खूबसूरत व्यंग !
    कहने को कुछ नहीं छोड़ते आप ! सब कह देते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. कमाल......कमाल .......कमाल !!!!!!
    कलम स्याही नहीं व्यंग के तेजाब से भरी की दिमाग झकझोर दे .
    और भैय्या यहीं एक टिप्पनक को क्या समझा रहे हो ? पहले उन्हें व्यंग का ककहरा सीख कर आने को कहते .

    उत्तर देंहटाएं
  19. माथा चकरघिन्नी कर दिए ! आपको क्या परेशानी है !चलिए जो भी किया तसलीमा ने,वे तो मशहूर होंगी ही ! जाने मर्दों को कब अकल आएगी !

    उत्तर देंहटाएं
  20. ये संजय ग्रोवर का व्यंग्यबाण है जो अन्दर तक भेदता है. बहुत सशक्त

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही करारा व्यंग्य. बधाई हो आपको.

    उत्तर देंहटाएं
  22. Waaqayi Tasleema gazab ka saral likhtee hain..aapke lekhanme utnahi gazab vyang hai!

    उत्तर देंहटाएं
  23. जूते भिंगोकर रशिदे गये है, कमाल का व्यंग !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. सबसे पहले तो बधाई इतना सॉलिड मारने की !

    समझने वाले सब समझ गए होंगे और जो नहीं समझने का दिखावा कर रहे हैं वे भी समझ गए हैं, केवल दूसरों को न समझने देने के लिए खुद न समझने का ढोंग कर रहे हैं । क्‍योंकि आप भी इतना आसान समझने लायक लिखते हैं कि हमारे जैसों के भी समझ में आ जाता है ।

    मोहल्‍ला लाइव पर पढा था तस्‍लीमा नसरीन और हुसैन की तुलना । जनतंत्र पर तसलीमा जी ने जो कहा उससे उनकी लडाई और हुसैन की फजीहत की असुविधा की बात साफ हो जाती है ।

    जैसा कि आपने कहा कि तस्‍लीमा का केंन्‍द्रीय पक्ष क्रांति और बदलाव है । उन्‍होंने जीवन में जो भोगा है अपने समाज में जो चल रहा है । उसे लिखा है । वह कोई लफ्फाजी या विलासिता की वस्‍तु नहीं था ।

    आपने हुसैन और तस्‍लीमा में अंतर भी स्‍पष्‍ट कर दिया है ।
    "कहतीं हैं सब धर्मों से समान दूरी। बताईए ! आप जिस घेरे में पैदा हुए उसमें और दूसरों में समान दूरी कैसे हो जाएगी ? अपने घेरे को एक हाथ तो ऊँचा रखना पड़ेगा न "

    फिर आता हूँ ....

    उत्तर देंहटाएं
  25. वाह कहने को बरबस जी चाहा!
    सो, वाह! वाह!!
    सार्थक और सर्जनात्मक!

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत अच्छा लिखा है। सही वक्त पर लिखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  27. बता दो ना हे संजय ग्रोवर !
    कैसे लिखा ये व्यंग्य महान ?

    उत्तर देंहटाएं
  28. फ़ौज़िया जी और मटुकजूली, आपके सवाल तो एक-एक पंक्ति के हैं पर जब उनके उत्तर सोचने बैठा तो लगा कि इसके लिए तो अपना और दूसरों का काफ़ी कुछ खंगालना पड़ेगा। मुझे लगता है इसका जवाब फुरसत से एक पोस्ट लिखकर ही देना होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  29. संजय जी आपने बात तो मुद्दे की उठाई है। मैंने भी तस्‍लीमा को पढ़ा है और मैं भी उनका प्रशंसक हूं। बहरहाल आपके इस व्‍यंग्‍य को पढ़कर लोग बस वाह वाह करके निपटा रहे हैं। उसका क्‍या अर्थ है। मुझे लगता है इस पर सोचने की जरूरत है। अन्‍यथा आपका यह लेखन या ऐसा लेखन अकारथ ही जाएगा। या मैं यह भी कहूं कि वाह वाह करने वाले जरा गौर से लेख को पढ़ें और वाह वाह के साथ आह भी भरें। यानी मुद्दे पर चिंतन भी करें। दूसरी बात जो लेख पर प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं, उन्‍हें आपको छोड़ना नहीं चाहिए। मुझे लगता है एक व्‍यंग्‍यकार का असली काम यही है कि वह छोड़े नहीं बल्कि निचोड़ दे। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  30. कुछ कहने की आपने गुंजाइश ही नहीं छोड़ी है. बेजोड!
    काफी अरसे बाद ऐसा करारा व्यंग्य पढ़ने को मिला.
    आपने अपने पाठकों की उम्मीदें काफी बढ़ा दीं हैं.

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....