शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2009

अंधेरों का कोरस यानि कि एक लीचड़ पैरोडी यानिकि डों‘ट टेक सीरियसली......



यारों सब धुंआं करो



मिलकर धुआं करो


बचे-ख़ुचे पर्यावरण को


धकेलो, दफ़ा करो


यारों सब धुंआं करो......






लोगों को दमा करो


चाहे अस्थमा करो


कानों को फ़ाड़ो बम से


अमन प दावा करो


यारों सब धुंआं करो....






पार्क को तबाह करो


तिसपे वाह-वाह करो


रोशनी को आग़ में डालो


नाचो, स्वाह-स्वाह करो


यारों सब धुंआं करो....






ओज़ोन पे आह करो


मौजों पे वाह करो


शांति को तलाक दे दो


शोर से निकाह करो


यारों सब धुंआं करो....






मिठाई जमा करो


ठूंसो-ठांसो, ठां करो


सुबह फ़िर हवा करो


और फ़िर दवा करो


यारों सब धुंआं करो....






(बतर्ज़: यारों सब दुआ करो....)

30 टिप्‍पणियां:

  1. आपने बिलकुल सही लिखा है. माआजा अ गया पढ़कर. जरुरत है आज के युवा इसे पढें और सिख लें.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. लोगों को दमा करो
    चाहे अस्थमा करो
    कानों को फ़ाड़ो बम से
    अमन प दावा करो
    यारों सब धुंआं करो....


    बहुत खूब ... क्या बात है
    दीपावली पर्व का बहुत अच्छा खाका खींचा है
    बस गुरुदेव कुछ कमी सी है
    'तीन पत्ती' या 'कट पत्ती' के साथ मदिरा की भी
    झलक होती तो रौशनी का पर्व कम्प्लीट हो जाता

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. दीपावली, गोवर्धन-पूजा और भइया-दूज पर आपको ढेरों शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर फिक्र को धुएं में उड़ाने की अदा....समय पर चोट करती कविता...बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज खुशियों से धरा को जगमगाएँ!
    दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सब धुंआ ही किये जा रहे हैं लोग!!

    सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    -समीर लाल ’समीर’

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढिया पैरोडी की है । यही तो हो रहा है ।
    सब धुआं करो ।

    अब असली कविता भी पढने को मन करता है ।

    हमारी तरफ़ से बिना धुआं की शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  8. दीपावली में आपके दीपों की पंक्तिया
    खूब जगमगाए ..बुराइयों को नष्ट करे ,
    अज्ञान के अँधेरे दूर करे !
    दीपावली की असंख्य शुभ कामनाये !!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. लोगों को दमा करो
    चाहे अस्थमा करो
    कानों को फ़ाड़ो बम से
    अमन प दावा करो


    हमारी तरफ़ से बिना धुआं की शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  10. बात आपने ठीक ही लिखी है, प्रकाश भाई पर यह पैरोडी मैंने कोई बहुत गंभीर मूड में नहीं लिखी। ‘तीन पत्ती’ या ‘कट पत्ती’ तो ठीक है पर मदिरा शायद इस त्यौहार पर सीधे-सीधे अलाउ नहीं है जैसे होली पर है। वो बात अलग कि है कि अपने यहां परंपरा के हाथीदांत-प्रबंधन में ‘घुसघुसाकर’-छुपछुपाकर’ सब कुछ अलाउ रहता है। व्यवहार में तो ‘दरी के नीचे’ वाली परंपरा ही मान्य और कामयाब है, आपको भी पता है और मुझे भी।
    आप आते हैं तो अच्छा लगता है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. "...ठूंसो-ठांसो, ठां करो


    सुबह फ़िर हवा करो


    और फ़िर दवा करो

    ..."


    क्या बात है. जबरदस्त.

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह बहुत सही. मज़ा आ गया.
    दीपावली की शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  13. यह दिया है ज्ञान का, जलता रहेगा।
    युग सदा विज्ञान का, चलता रहेगा।।
    रोशनी से इस धरा को जगमगाएँ!
    दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. दीप-उत्सव पर शुभ-कामनाएँ!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस दिवाली में बहुत करार व्यंग लिखा है ...... पर सच लिखा है ........ मुझे तो लगता है इस बात को सीरियसली लेना चाहिए

    आपको और आपके परिवार को दिवाली की शुभकामनाएं ........

    उत्तर देंहटाएं
  16. शुभकामनाओं सहित
    देवी नांगरानी

    उत्तर देंहटाएं
  17. bhai sahab hum aap mil ke dua kare kee yee sab ab kabhi na dhua kare.umda hai
    www.jungkalamki.blogspot.com
    vivek mishra

    उत्तर देंहटाएं
  18. wakayi kuchh dhuaan dhuaan sa ho gaya....achchha katksh hai.....badhai

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत अच्‍छी पैरोडी है. बधाई.
    साथ ही दीप पर्व की अनेक शुभकामनाएं ..

    उत्तर देंहटाएं
  20. Ati sundar...

    कोई पुकार रहा था खुली फ़िज़ाओं से
    नज़र उठाई तो चारो तरफ़ हिसार मिला
    ये शहर है कि नुमाइश लगी हुई है कोई
    जो आदमी भी मिला बनके इश्तहार मिला

    उत्तर देंहटाएं
  21. aapka salaam mila mujhe. laga anek salaamo me se ek salam yah bhi hae kintu jab aapka blog dekha aur aapka lekhan padha to pata chala ki vo salam jo aapne bheja tha vo ek payam tha mere liye. mujhe mahsoos ho raha hai ki blog ki is mahanadi me mai abhi ek boond bhi nahi . kripya mera margdarshan karte rahe .aapki kavita "yaaron sab dhuaan karo vyangya ki parakastha hai. paryavaran par isse achha, sateek aur asardaar kavita maine aaj tak nahi padhi thi. yaad rakhiye duniya ki mahantam rachnaaen halke mood me hi likhi gayee thi. bhartendu ko andher nagari likhne me sirf ek raat ka samay laga tha.

    उत्तर देंहटाएं
  22. Sanjay bhai kavita bahut achhi ban padi hai badhaayi sweekaar karein...

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....