सोमवार, 12 जनवरी 2009

‘व्यंग्य-कक्ष’ में ’’’’’’इस तरह मैंने राजेंद्र यादव को सुधारा !’’’’’’

मैंने पर्चा राजेंद्र यादव के हाथ में दे दिया।
‘‘यह क्या है ?’’ वे बोले।
‘‘शुरु हो जाओ।’’ मैंने कहा।
मेरे साथ गए स्व-अर्थी सेवकों ने अपने-अपने हथियार हाथ में ले लिए और विनम्र कोरस में गाने लगेः-
‘‘भेज रहे हैं नेह-निमंत्रण, यादव तुम्हे बुलाने को
हे मानस के राजहंस तुम भूल न जाना आने को''
उसके बाद मैंने राजेंद्र यादव के हाथ जोड़े। तत्पश्चात पैर छुए। फ़िर उन्हें ऐसे घूरा जैसे क़त्ल कर दूंगा।
फिर कहा, ‘‘देखिए, यादवजी, हम आपकी बड़ी इज़्ज़त करते हैं और हम चाहते हैं कि आप कार्यक्रम में आकर यह परचा पढें।’’
‘‘पर यह परचा तो आपका लिखा है, मैं तो अपने विचारों के लिए जाना जाता हूँ !’’ उन्होंने आश्चर्य प्रकटा।
मैंने उन्हें फ़िर घूरा। फ़िर हाथ जोड़कर कहा, ‘‘ देखिए यादवजी, हम इंस बात को जानते हैं मगर फ़िर भी आपकी बड़ी इज़्ज़त करते हैं। देखिए, हमारे यहाँ कोई भी तुम्मन खां आ जाए,उसे यही पर्चा पढ़ना होता है।’’
‘‘तो मुझे क्यों बुला रहे हो ? जिसने लिखा है उसी से पढ़वाओ’’, वे बोले।
‘‘वो कोई यहाँ बैठा हुआ है। पीढ़ियां गुज़र गई। और क्या एक ही आदमी ने लिखा है!’’, मैंने सवाल टाइप का जवाब दिया।
‘‘मौसम आएंगे जाएंगे.......हम उसको भूल न पाएंगे ऽऽऽऽऽ..’’स्व-अर्थी सेवकों ने हथियार हिलाते हुए विनम्र कोरस गाया।
वे सिगार मुंह में डालकर धुंआ छोड़ने लगे।
‘‘देखिए धुंए से हमें मत डराईए, हमारे स्व-अर्थी सेवकों की पहुँच घर-घर में है। किसी भी घर में घुसकर किसी भी तरह की आग लगा या लगवा सकते हैं.....’.मैंने बताया....‘हिंसक आग, अहिंसक आग, घरेलू आग, बाज़ारु आग, प्रकट आग, छुपी आग, सहिष्णु आग, क्रूर आग........’’
‘‘मुझे पता है,‘ वे बोले, ‘देखता आया हूँ।’’
मैंने कई फोटुओं में उन्हें पाइप पीते हुए देखा था।
‘‘ज़रा दिखाईए तो’’ मैंने आज्ञादार आवाज़ में कहा।
उन्होंने चुपचाप पाइप दे दिया।
मैंने एक सूंटा खींचा,‘‘यादवजी भांग-धतूरे वाला मज़ा इसमें नहीं है, फ़िर भी चीज़ बढ़िया है। पर प्रोग्राम में आप इसे नहीं पीएंगे।’’
‘‘क्यों भई, जब पीता हूँ और सबको पता है कि पीता हूँ तो क्यों नहीं पीऊंगा।‘‘
‘‘देखिए यादवजी‘, मैंने समझाया, ‘‘हमारे यहाँ ‘करो सब कुछ, कहो मत कुछ’’ का सिद्धांत चलता है। हमारे यहाँ उन बच्चों को बड़ा संस्कारी माना जाता है जो सिगरेट पीते तो हैं, शराब पीते तो हैं, छेड़खानी करते तो हैं, पर माँ-बाप के सामने नहीं करते ........ करते हैं कि नहीं करते, इसका महत्व नहीं है, महत्व इस बात का है कि किधर करते हैं किधर नहीं करते। समझे कि नहीं। आप सिगार पीकर भी होशो-हवास में रहते हुए मौलिक विचार झाड़ेंगे तो कौन पसंद करेगा। आप भांग खाकर पर्चा पढ़िए, देखिए कित्ती तारीफ़ होती है।’’
‘‘अरे भई सिगार से ज्यादा नुकसान तो मुझे अचार खाने से होता है। अचार क्यों न छोड़ूं !’’
‘‘यादवजी आपकी यही आदत खराब है, आप तर्क पर उतर आते हैं, तर्क-वर्क से कुछ नहीं होता।’’
‘‘फ़िर किससे होता है’’ वे पूछ बैठे।
‘‘अफ़वाहें फैलाओ, मुकदमें लगवाओ, बिज़निस गिरवाओ, आपस में लड़वाओ, तिकड़म करो, साजिश रचो.....पचासियों अंिहसक तरीके हैं...’’
‘‘इतनी शक्ति हमें देना दाता...मन का विश्वास कमज़ोर हो ना....’’स्व-अर्थी सेवकों ने फ़िर विनम्र कोरस गाया।
’’और यह काला चश्मा क्यों लगा रखा है आपने ?’’ उनकी चुप्पी ने मेरा आत्मविश्वास बढ़ाया, ‘‘किसी धर्म, जाति, वर्ण, संप्रदाय, रंग, गुट वगैरह का चश्मा लगाईए जिससे लोगों को छोटा-बड़ा, ऊँच-नीच जैसे भेद-भाव के तहत देखा जा सके। ऐसा चश्मा क्यों लगाते हैं जिससे सब एक जैसे दिखें !?’’ मैंने डपटा।
सच कहूँ तो ‘हम जैसे’ लोगों में आत्मविश्वास अपने विवेक और साहस से नहीं आता। दूसरों के डर और चुप्पी से आता है। तो इसी माहौल में मैंने बात आगे बढ़ाई, ‘‘देखिए जिन बातों को 20-30 साल के जवानों को सोचना-कहना चाहिए, उन्हें कहने के लिए आप क्यों अस्सी साल में मरे जा रहे हैं !’’
‘‘हुम....सोचना पड़ेगा.....अच्छा यह स्व-अर्थी सेवक का अर्थ क्या हुआ ?’’वही तर्क की उनकी गंदी आदत।
‘‘अपनी अर्थी खुद बनो..यह हमने बुद्ध के ‘‘अप्प दीपो भव’’ से लिया है। हमें जो अच्छा लगता है हम कहीं से भी उठा लेते हैं।’’
‘‘अच्छा....ज़रा खुलकर बताईए‘‘ उफ़! कैसा आदमी है!
‘‘पुराने को पकड़े रहो, नए का विरोध करो, फ़िर भी नया आ जाए तो उसे इंस तरह से अपनाओ कि उसकी हालत पुराने से भी बदतर हो जाए यानि अपनी अर्थी खुद बनो यानि दूसरा हमें क्या नुकसान पहुँचाएगा जितना हम खुद पहुँचा लेंगे।’’ मैंने समझाया।
‘‘सारी बातें छोड़ो..’’ मैंने पैंतरा बदला..‘‘ जो आपके यहाँ हुआ उससे कई गुना ज़्यादा दूसरों के यहाँ होता है। मानते हैं कि नहीं मानते ?’’
‘‘मानता हूँ।’’
‘‘लेकिन सारा कीचड़ आप पर उछाला जाता है। उन पर एक बूंद भी नहीं पड़ती। मानते हैं कि नहीं मानते ?’’
‘‘मानता हूँ।‘‘
‘‘तो भाई मेरे, करो कुछ भी पर कहो मत न लेख में न कहानी में, एक नारा पकड़ लो हमारा:-‘‘करो सब कुछ, कहो मत कुछ’’। समझे।’’
‘‘समझा, ‘करो सब कुछ, कहो मत कुछ‘‘
‘‘शाबाश’’, मैंने उनकी पीठ थपथपाई। सिर पर भी थोड़ा हाथ रख दिया।
‘‘इतनी शक्ति हमें देना दाता....मन का विश्वास कमज़ोर हो ना..’’स्व-अर्थी सेवकों ने विनम्र कोरस गाया।
अब यादवजी सुधर गए हैं। वे या तो संस्कृत बोलते हैं या अंग्रेजी। और हिन्दी के प्रकाण्ड विद्वान माने जाते हैं। अब उनके अपने कोई विचार नहीं हैं। वे सभाओं में जाकर आयोजकों के दिए वे पर्चे पढ़ते हैं जो आयोजकों को भी कहीं से मिले होते हैं। जहाँ से मिले होते हैं वहीँ भी पता नहीं कहाँ से आए होते हैं। अब ब्लाॅगर्स और आलोचकस् द्वारा उनके परचा-वक्तव्यों की ‘‘ट्राल’’ कहकर उपेक्षा नहीं की जाती। ऐसे पर्चों की कोई उपेक्षा करे या सम्मान, उससे होना भी क्या है।
-संजय ग्रोवर

एक टिप्पणी जो बहुत ज़रुरी थीः-
Harkirat Haqeer said... संजय जी, आपके व्‍यंग में पैनी धारहै...बहुत बढिया लिखा आने... कुछ कुछ फैन्‍टेसी लिए हुए... पर राजेन्‍द्र जी को क्‍यों व्‍यंग का हिस्‍सा बनाया जा रहा है? क्‍या महज उनका सिगार पीना उनकी तमामसाहित्‍यिक प्रभुत्‍ता को नकार देता है? या किसी के साथ उनके जातिगत संबंधों से उनकीप्रतिभा कम हो जाती है? राजेन्‍द्र जी हिन्‍दी साहित्‍य जगत के एक सशक्‍त हस्‍ताक्षर हैं इसे हमें मानना होगा...January 18, 2009 10:41 PM

हरकीरत जी,

अगर आप व्यंग्य पढ़ती रहती हैं तो आपको पता होगा कि व्यंग्य ज़्यादातर व्यंजना की यानि टेढ़ी भाषा में लिखे जाते हैं। मसलन हमारा कोई पतला-दुबला मित्र हमें काफी समय बाद मिलता है जो कि अब बहुत मोटा हो चुका है, तो हम मज़ाक में कहते हैं कि यार दिन पे दिन सूखते जा रहे हो, क्या बात है ? इसी ढंग से पढ़ेंगी तो आपको इंस व्यंग्य के सही मायने समझ में आने लगेंगे। मैने दरअसल वही कहा है जो आप कहना चाह रही हैं।दिलचस्प लेकिन दुखद यह है कि खुद यादवजी के एक लेख ‘‘होना/सोना एक ख़ूबसूरत दुश्मन के साथ’’ के साथ भी ऐसा किया जा चुका है। उन्होंने जो कहा था उसके विपरीत अर्थ निकाल लिए गए थे। फ़र्क बस यही है कि आप भ्रमवश ऐसा कर रही हैं जबकि यादवजी के लेख के साथ यही सब आलोचकों/विद्वानों द्वारा शरारतन किया गया था।अच्छा किया आपने यह टिप्पणी लिखकर क्योंकि जो दूसरे लोग इंस लेख के ग़लत अर्थ लगा रहे होंगे वे इसे दोबारा, इसके सही अर्थों के साथ, पढ़ेंगे।

-संजय ग्रोवर

22 टिप्‍पणियां:

  1. बिना शरम किये अगर कहूं तो यह कहना चाहूंगा कि उक्त व्यंग्य पढ़ कर मजा तो बहुत आया, पर कुछ कुछ समझ आया, कुछ सिर के ऊपर से निकल गया। दर असल, पृष्ठभूमि का आइडिया न हो तो शायद ऐसा ही होता है।

    सुशान्त सिंहल
    www.sushantsinghal.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप तकनीकि जानकर किन्तु आपका सहयोग चाहूँगा कि मेरे नये ब्लाग के बारे में आपके मित्र भी जाने,

    ब्लागिंग या अंतरजाल तकनीक से सम्बंधित कोई प्रश्न है अवश्य अवगत करायें
    तकनीक दृष्टा/Tech Prevue

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी रचनाधर्मिता का कायल हूँ. कभी हमारे सामूहिक प्रयास 'युवा' को भी देखें और अपनी प्रतिक्रिया देकर हमें प्रोत्साहित करें !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. संजय जी
    सर्व प्रथम आभार इस बात का कि आपने मुझे अपने परिवार में शामिल किया.आपका संवादघर पहली बार पढ़ा अच्छा लगा.
    व्यंग्य "‘व्यंग्य-कक्ष’ में ’’इस तरह मैंने राजेंद्र यादव को सुधारा !’’" पढ़ा. मज़ा आया.
    आभार
    - विजय

    उत्तर देंहटाएं
  5. मकर संक्रान्ति की शुभकामनाएँ
    मेरे तकनीकि ब्लॉग पर आप सादर आमंत्रित हैं

    -----नयी प्रविष्टि
    आपके ब्लॉग का अपना SMS चैनल बनायें
    तकनीक दृष्टा/Tech Prevue

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपको लोहडी और मकर संक्रान्ति की शुभकामनाएँ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या बात है, आपकी धार बहुत पैनी है और सलीका भी अनूठा, आप तो नये प्रयोगो के लिए बने हो।। कुठ ट्राई व्राई किया या नही। टेलीविजन आपके लिए मुफिद जगह है। हाथ, किस्मत और पैसा सब अजमाए यहां। मेरे अपने ख्याल से आपके पास चीजों को देखने का अपना एक नजरिया है। और यही आपकी धरोहर और सम्पत्तिा भी है। अपनी ताकत का इस्तेमाल किजिए। और टेलितिवन के लिए कुठ बनाइये।। बहहुत बहुत इरशाद मुबारकबादों के साथ्र

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छी पोस्ट के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. भई मान गये आपको क्या खूब लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  10. लाजवाब प्रस्तुति ...बधाई !!
    कभी हमारे ब्लॉग "शब्द सृजन की ओर" की ओर भी आयें.

    उत्तर देंहटाएं
  11. LAGE RAHO SANJAY BHAI.
    HAME TO PURI TARAH SAMAJH NA AYEE
    TUM NE PAROSI THI NAV VARSH KI NAYEE MITHAI.PAR MOODH MAN MERA NA PAKAR SAKA TUMRE VICHARON KI GAHRAYEE.

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपको लोहडी और मकर संक्रान्ति की शुभकामनाएँ....

    उत्तर देंहटाएं
  13. संजय जी, आपके व्‍यंग में पैनी धारहै...बहुत बढिया लिखा आने... कुछ कुछ फैन्‍टेसी लिए हुए...
    पर राजेन्‍द्र जी को क्‍यों व्‍यंग का हिस्‍सा बनाया जा रहा है? क्‍या महज उनका सिगार पीना उनकी तमाम
    साहित्‍यिक प्रभुत्‍ता को नकार देता है? या किसी के साथ उनके जातिगत संबंधों से उनकी
    प्रतिभा कम हो जाती है? राजेन्‍द्र जी हिन्‍दी साहित्‍य जगत के एक सशक्‍त हस्‍ताक्षर हैं इसे हमें
    मानना होगा...

    उत्तर देंहटाएं
  14. हरकीरत जी,
    अगर आप व्यंग्य पढ़ती रहती हैं तो आपको पता होगा कि व्यंग्य ज़्यादातर व्यंजना की यानि टेढ़ी भाषा में लिखे जाते हैं। मसलन हमारा कोई पतला-दुबला मित्र हमें काफी समय बाद मिलता है जो कि अब बहुत मोटा हो चुका है, तो हम मज़ाक में कहते हैं कि यार दिन पे दिन सूखते जा रहे हो, क्या बात है ? इसी ढंग से पढ़ेंगी तो आपको इंस व्यंग्य के सही मायने समझ में आने लगेंगे। मैने दरअसल वही कहा है जो आप कहना चाह रही हैं।
    दिलचस्प लेकिन दुखद यह है कि खुद यादवजी के एक लेख ‘‘होना/सोना एक ख़ूबसूरत दुश्मन के साथ’’ के साथ भी ऐसा किया जा चुका है। उन्होंने जो कहा था उसके विपरीत अर्थ निकाल लिए गए थे। फ़र्क बस यही है कि आप भ्रमवश ऐसा कर रही हैं जबकि यादवजी के लेख के साथ यही सब आलोचकों/विद्वानों द्वारा शरारतन किया गया था।
    अच्छा किया आपने यह टिप्पणी लिखकर क्योंकि जो दूसरे लोग इंस लेख के ग़लत अर्थ लगा रहे होंगे वे इसे दोबारा, इसके सही अर्थों के साथ, पढ़ेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  15. व्यग्य बहुत अच्छा लगा।... पढ कर मजा आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  16. भाई ऐसे ही कुछ पर्चे हमें भी पढ़ने को मिल जाएँ तो मज़ा आ जाए। कुछ जुगाड़ कीजिये न।

    उत्तर देंहटाएं
  17. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  18. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....