गुरुवार, 1 जनवरी 2009

ए नए साल बता

ai naye Saal Bataa, Tujh Mein Naya-Pan Kya Hai
Har Taraf Khalq Ne Kyun Shoor Macha Rakha Hai

Roshni Dinn Ki Wohi, Taroo Bhari Raat Wohi
Aaj Hum Ko Nazar Aati Hai Har Baat Wohi

Aasmaan Badla Hai Afsoos, Na Badli Hai Zamein
Ek Hindsey Ka Badalna Koi Jiddat Tou Nahien

Agley Barsoun Ki Tarha Houn Ge Qareeney Tere
Kisey Maloom Nahien Barah Maheeney Tere

January, Faburary Aur March Mein ParDey Sardi
Aur April, May, June Mein Ho Gi Garmi

Tera Mann Dahar Mein Kuch Khoye Ga Kuch Paye Ga
Apni Maiyaad Bassar Kar Kay Chalaa Jaaye Ga

Tu Naya Hai Tou Dikha Subha Nayi, Shaam Nayi
Warna Inn Aankhoun Ney Dekhey Hein Naye Saal Kayi

Be-Sabbab Daytey Hein Kyun Loog Mubaaraqbaadein
Ghaliban Bhool Gaye Waqt Ki KarDwi Yaadein

Teri Aamad Se Ghatti Ummar, Jahaan Mein Sab Ki
Faiz Ney Likhi Hai Yeh Nazam Niraaley Dhabb Ki

Poet: Faiz Ahmed Faiz-------------------------------------------------------------------------

20 टिप्‍पणियां:

  1. आपको एवं आपके समस्त मित्र/अमित्र इत्यादी सबको नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाऎं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. 2009 का स्वागत अपनी आन्तरिक मुस्कान के साथ करे। कलैण्डर के पन्ने पलटने के साथ साथ हम अपने मन के पन्नो को भी पलटते जाये। प्रायःहमारी डायरी स्मृतियो से भरी हुई होति है। आपदेख कि आपके भविष्य के पन्ने बीती हुई घटनाओ से न भर जाये। बीते हुये समय से कुछ सिखे, कुछ भुले, और आगे बढे।
    हे प्रभु यह तेरापथ के परिवार कि ओर से नये वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये।

    कल जहॉ थे वहॉ से कुछ आगे बढे,
    अतीत को ही नही भविष्य को भी पढे,
    गढा हैहमारे धर्म गुरुओ ने सुनहरा इतिहास ,
    आओ हम उससे आगे का इतिहास गढे

    उत्तर देंहटाएं
  3. Hi there,

    Nothing has change in the new year but still alot has changed for a lot of people all aorund the world and they all must be wondering, why this change?

    Good poem and Happy New Year!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. Teri Aamad Se Ghatti Ummar, Jahaan Mein Sab Ki
    Faiz Ney Likhi Hai Yeh Nazam Niraaley Dhabb Ki


    beshak ye gazal to nirale hi dhang ki hai ,kis tarh dard simta sa pada hai yahan ...........
    bahut khoob .

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut acche, excellent poem dear naye saal me naye vichaaro ke saath aap naye aayam banaye. inhi kamnao ke saath

    jack
    view my blog www.yadokasafar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. naya nazria tha neye sal ko dekne ka. achha laga. galib ne theek hi kaha tha ki dil ko bahlane ka yeh khayal( new year celebration) achha hai.meri hardik shubh kamnain. guru bas date raho

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपको नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाऎं.


    hindi mein likhne ke liye yahan type karen roman mein likhen hindi mein type ho jaata hai--phir copy-kar ke paste kar len--
    -word verification ko hata dijeeye-- blogs ki settings mein comments mein jaa kar set kar saktey hain.
    -word verification comments likhne walon ko discourage karta hai--
    Thanks :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. http://www.google.com/transliterate/indic

    yah us iste ka address hai jahan aap online roman mein likh kar devnagari[hinid] fonts mein badal saktey hain-

    उत्तर देंहटाएं
  9. bhaut acchi kavita , gazhal hai...
    kaafi accha laga padh kar...

    naya saal mubaark ho

    उत्तर देंहटाएं
  10. kamaal hai na...aisi post par bhi comment me log naye saal ki mubarakbaad dete hain!
    accha raha faiz ko padhna.shukriya.kripya word verification hata dein, comment dene me asuvidha hoti hai.

    उत्तर देंहटाएं
  11. naye saal ko shayad aapne hi achche se jana hai varna duniya mein sabhi shubhkamnayein hi dete hain yeh jante huye ki ab umra ka ek sal kam ho gaya hai.......aapka nazariya achcha laga

    उत्तर देंहटाएं
  12. नए साल में नया क्‍या है
    अपने खुश होने का बहाना क्‍या है
    हकीकत को रुबरू कैसे करें
    इस जिंदगी में नया क्‍या है
    मेरे होने में नया क्‍या है
    मेरे मिटने में नया क्‍या है

    कुछ भी लिखने में नया क्‍या है
    हर नये में नया क्‍या है

    सुबहो शाम में नया क्‍या है
    सोने जगने में नया क्‍या है

    हुस्‍न ए उल्‍फत में नया क्‍या है
    एक चमडी की हकीकत क्‍या है
    अपने इल्‍म का फायदा क्‍या है
    काम यह कहीं आता क्‍या है

    मत पूछो नया साल लाता क्‍या है
    कहिए इंसा नया करता क्‍या है

    सच नए साल में नया क्‍या है
    नई नजर में कुछ नया क्‍या है ?

    किसी ने पूछा जिंदगी क्‍या है
    हमने पूछा जीने का बहाना क्‍या है

    नई नजर हो तो सब कुछ नया है
    नया साल भी नया है
    पुराना यार भी नया है
    करोडों साल का बूढा सूरज
    रोज सबेरे नया नया है
    रात में करते झिलमिल तारे
    खरबों साल से नए नए हैं
    इक बूढे की बूढी प्रियतम
    प्रेम नयन से नई नई है

    बच्‍चे की निश्‍छल ऑंखों में
    बूढी दुनिया नई नई है

    नई ऑंखें हों हर दिन नया है
    नया साल को भी इंसा ही बनाता नया है
    जीने के लिए कुछ झूठ भी चाहिए
    इस काम में चहिए सिर्फ हकीकत कहॉ है


    नया वर्ष के लिए हार्दिक शुभकामनाऍं ।
    नई सूझ नित आपके जेहन में आऍं :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. नज्‍म को देवनागरी में कर दें तो पढने में ज्‍यादा आनंद आयेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. अरे इसे ट्रांसलिट्रेट क्यों नहीं किया?

    उत्तर देंहटाएं
  15. हिन्दी में कर देते तो आनन्द दुगुना हो जाता ।
    प्रस्तुति का आभार ।
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....