बुधवार, 14 दिसंबर 2011

नाथूराम, अहिंसा और इतिहास

लघुकथा


जब तक अंग्रेज भारत में रहे, नाथूराम का आंदोलन पूरी तरह अहिंसक रहा। इतना कि देश में किसी को पता भी नहीं था कि यहा कोई नाथूराम रहता है।
अंग्रेजों के जाते ही और भारत के आज़ाद होते ही नाथूराम मुखर होकर आंदोलित हो गया। उसकी पिस्तौल एकाएक जागरुक हो गयी। गोलियां आज़ादी के गीत गाने लगीं। जिस नाथूराम ने कभी किसी अंग्रेज का बाल भी बांका नहीं किया था उसने बिना किसी सुरक्षा के चलने वाले निहत्थे बूढ़े पर गोलियां दाग़ दीं।
इस तरह नाथूराम इतिहास में शामिल हो गया।
नाथूराम के जीवन से हमें शिक्षा मिलती है कि इतिहास तो कमज़ोर आदमी का मकान है, इसमें कभी भी घुसपैठ की जा सकती है।
यह शिक्षा भी मिलती है कि इतिहास में शामिल होने के लिए हमें कुछ भी कर डालना चाहिए।
नाथूराम का जीवन बहुत शिक्षाप्रद रहा। संभवतः आज भी बहुत-से आंदोलनकारी उसके जीवन से शिक्षा लेते होंगे।

किसी ताज़ा आंदोलन में कोई नाथूराम गांधी टोपी लगाए अहिंसा पर उपदेश देता मिल जाए तो भी कोई हैरानी की बात न होगी।



-संजय ग्रोवर

18 टिप्‍पणियां:

  1. जितना धारदार, उतना ही विचारणीय व्‍यंग्‍य।

    उत्तर देंहटाएं
  2. देश में ऐसे हजारों नाथू राम और भगत सिंह के भक्त रातों रात उग आते हैं....
    अच्छी कहानी सर,..बिलकुल संवाद घर के तेवर वाली..... मारक...

    उत्तर देंहटाएं
  3. well couldn't comprehend, the reason behind was...Gandhiji had said "India will divide on my dead body"...India became two with loss and nothing gain and he survived...well he was not man of his own words......
    sorry, I don't believe in killing but sometimes for further no loss, someone had to do that...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-729:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  5. रसायन कुमार जी, क्या सब कुछ करने का ठेका गांधी जी ने लिया था ? जो लोग भारत को दो नहीं एक रखने की बात करते हैं, उनका कितनी और कैसी एकता में विश्वास है, आपसे ज़्यादा किसे पता होगा। क्या गांधीजी को मारने से भारत एक हो गया ? क्या नाथूराम को पहले से पता था कि गांधी जी ऐसा होने देंगे, इसलिए वह पूरे स्वतंत्रता-संग्राम के दौरान घर बैठा हलवा-पूड़ी खाता रहा ? षड्यंत्रों को शहादत कब तक बताते रहेंगे ?

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैं न गाँधीवादी हूँ, और ना ही विरोधी मगर मैं नाथु राम को बुरा भी नहीं मानती हाँ उसने एक निहाते बुजुर्ग पर गोलियां दागी यह ज़रूर बहुत बुरी बात है मगर यदि विचार धारा को ध्यान में रखा जाये तो मुझे उसमें कोई बुराई नज़र नहीं आती ....समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  7. झटके वाला व्‍यंग्‍य। , बहुत खुबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  8. @पल्लवी, मैं आपकी विचारधारा से सहमत नहीं हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. jis des ke log kud bukhe mar rehe ho wo banda ane dushman deah ko 66 crores Rs. dan de de.......or jis adar par des batta ho........pher une yha rukne de to............koi bhi nathram jasi harkat kar sakta ha..........aaj hum ye baat nahi kar sakte(ye baat galat ho jayege) ki unko nikal do........per us samah ye baat the...........

    or deshbakth ya deskbakti ka matlab ye nahi ha jiska parchar ho raha ha wo ke deshbakh ha.........or jiska parchar nahi ho raha wo kuch nahi kar raha tha ya bajiya kha raha tha phela.....................

    उत्तर देंहटाएं
  10. dushman desh ? us waqt to vah desh ka hissa tha, aapne use pahle hi dushman man liya tha ? yah to saampradayik mansikta ka hi sabut hai. aapke pas koi sabut hai ki paisa diya gaya tha ?
    prachar ? jo log aandolano ke liye pure media ko bhatka sakte hain, sirf afwaho ke bal par duniya bhar ke patthro ko dudh pila sakte hain, ve prachar ki kami ka rona ro rahe hain ?

    उत्तर देंहटाएं
  11. Hum aaj azad hain kyuki Nathuram jaise bohot sare yuvak swatantrata ki ladhayi main shamil the or woh sirf bapu ki wajah se... Nathuram koi ghar me ghus kar nahi baithe the... lekin aaj hindustan-pakistan alag hain sirf ek nirnay ki wajah se aur usi nirnay ki wajah se Nathuram ka janm hua. Woh ek saccha desh bhakt tha... Aur aankh mund kar swatantrata ki ahimsa wadi ladhayi main kud pada tha. Aaj hum ke PC ke samne baith ke uske mann ki duvidha ko nahi samaj sakte... Iss liye dusro ke likhaye itihaas samjho aur apna apna dimag lagao.

    उत्तर देंहटाएं
  12. p.c. ke saamne baithke nahin samajh sakte to kahan baith ke samajh sakte hain? aapne kahaan baithke ya khade ho kar samjha hai ?
    angejo ke hote, gulami me rahte koi duvidha hi nahi huyi, aazad hote hi duvidha shuru ho gayi? aur goli mar di? yah kaun-sa tarika huya duvidha dur karne ka ? aap bhi apni duvidhaye aise hi dur karte hai kya?

    उत्तर देंहटाएं
  13. न नाथूराम, न गाँधी- दोनों ही व्यक्ति नहीं - विचारधारा के नाम हैं, वो भला कब मरा करती है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. सोच की स्‍वतंत्रता का अधिकार सार्वजनिक सोच से भिन्‍न परिणाम दे तो विरोध अवश्‍यंभावी है।
    जिस महात्‍मा गॉंधी से ब्रिटिश हुकूमत पंगा नहीं लेती थी उसे इस प्रकार मार देना एक कायर ही कर सकता था या कोई कान्‍ट्रैक्‍ट किलर। महात्‍मा गॉंधी की हत्‍या के लिये नाथूराम नहीं एक सोच जि़म्‍मेदार थी और अब इस विषय पर चर्चा निर्रथक हो चुकी है।
    इतिहास में तो हिटलर और हलाकू भी दर्ज हैं, नाथूराम भी सही।

    उत्तर देंहटाएं
  15. मुझे यह देखकर आश्चर्य हो रहा है कि जिन्होंने आज तक पीसी के सामने बैठकर हिन्दी लिखना नहीं सीखा है, वे देशभक्ति की परिभाषा गढ़ रहे हैं। हद है ऐसी शर्मपेक्षता की। पता नहीं लोग किस मुगालते में हैं और एक कातिल और बर्बर हैवान की वकालत तक कर रहे हैं। ऐसे ही गंदे लोगों की गंदी मानसिकता के कारण देश में वैमनस्यता फैलती आयी है। मोदीवादियों के अकल के मोतियाबिंद का इलाज कराना होगा, अन्यथा देश अफगानिस्तान बन जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....