सोमवार, 21 दिसंबर 2009

उदारता क्या है ?


लगभग सभी धर्मों के मानने वाले यह दावा करते हैं कि धर्म इंसान को उदार, सहिष्णु और मानवीय बनाता है। मेरे मन में अकसर कुछ सवाल उठते हैं। चूंकि मैंने इन सवालों को आज तक किसी दूसरी जगह नहीं पढ़ा, इसलिए मन हुआ कि इन्हें आपके सामने रखूं। यह मेरी एकतरफा सोच हो सकती है कि ये सवाल भी व्यक्ति को उदार बनाने की दिशा में ही एक छोटा-मोटा क़दम हो सकते हैं। इसलिए आपकी राय भी इन सवालों को प्रासंगिक या अप्रासंगिक बनाएगी। बचपन से लेकर आज तक कई तरह के आस्तिकों और नास्तिकों से वास्ता रहा है। मुझ एक भी उदाहरण याद नहीं आता जब किसी नास्तिक ने किसी आस्तिक पड़ोसी पर एतराज़ किया हो, झगड़ा किया हो कि जागरन, कीर्तन या नमाज मेरे विश्वासों के खि़लाफ है इसलिए आप इसे करना बंद कर दें। हालांकि बारीकी से अध्ययन करें तो कोई दो नास्तिक या दो आस्तिक भी बिलकुल एक जैसे नहीं होते। मैंने कभी अखबार में नहीं पढ़ा या रेडियो-टी.वी. पर नहीं देखा-सुना कि नास्तिकों का कोई गुट क्रोधित होकर भागा गया हो और उसने आस्तिकों के किसी आयोजन में जाकर तोड़-फोड़ की हो। मेरे सुनने में आज तक नहीं आया कि ‘लिव इन’ करने वाले युवाओं या विवाह संस्था में विश्वास न करने वाले लोगों ने शादीशुदा लोगों पर जाकर दबाव डाला हो कि आप अपनी शादी तोड़ दें नहीं तो हम आपको पीटेंगे, आपका मुंह काला करेंगे। वेलेंटाइन मनाने वाले या प्यार करने वाले लोगों ने कभी किसी को धमकाया हो कि आप सब भी ये सब करो नहीं तो आप पागल हो, हास्यास्पद हो, समाज विरोधी हो और आप फलां मोहल्ला, शहर, देश, प्रदेश छोड़ कर चले जाओ। क्या आपने कभी सुना है कि किसी स्कर्ट या नेकर पहनने वाले ने कहा है कि कुर्त्ता-पायजामा, धोती-बंडी जैसे कपड़े अश्लील हैं, हमारे जैसे कपड़े पहनो नहीं तो हम तुम्हारे कपड़े फाड़ डालेंगे, ये-वो कर देंगे ! क्या आपने कभी सुना कि वस्त्र-विहीन आकृतियां बनाने वाले किसी पेण्टर ने या उसके समर्थकों ने वस्त्रदार पेंटिंग बनाने वालों पर आपत्ति की हो, उनकी पेंटिंग फाड़ डालीं हों ! पक्ष-विपक्ष में कई उदाहरण रखे जा सकते हैं। पर मुझे लगता है कि मेरी बात स्पष्ट हो गयी है और ज़्यादा शब्द या जगह ख़र्च करने का कोई अर्थ नहीं है।
इस लेखक की ज़िंदगी का अधिकांश हिस्सा कुर्त्ता-पायजामा/जींस, हवाई चप्पल और साइकिल के साथ बीता है पर इसे किसी के भी कुछ और पहनने-ओढ़ने-चलाने पर कोई आपत्ति नहीं है।

उम्मीद है उदारता को लेकर दृष्टि विकसित करने में आप मेरी मदद करेंगे।



-संजय ग्रोवर

49 टिप्‍पणियां:

  1. आपके उधाहरण सटीक हैं...और उदारता का असली चेहरा दिखाते हैं...बहुत अच्छी पोस्ट...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा , सार्थक संदेश देता लेख

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर आलेख! बात को बहुत ही शालीनता और सुंदरता के साथ रखा गया है।
    एक बात मुझे समझ नहीं आई कि कौन नास्तिक है और कौन आस्तिक? इन दोनों शब्दों के मानक अर्थ क्या हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपके लेख ने खुली आंखों में रोशनी डाल दी। वास्तव में ये सवाल पूरी सृष्टि की समस्याओं के निराकरण की मार्गदर्शिका है, बल्कि इसी आलेख को समस्या निवारण शब्दकोश की तरह अपना लिया जाये, तो हर देश अपनी वर्तमान गति से कम से कम 20000 गुना ज्यादा तेजी से विकास करेगा। उत्पादकता को पंख लग जायेंगे और सारी वर्जनाएं टूट कर धाराशायी हो जायेंगी। हर तरह की जड़ता एकाएक समाप्त हो जायेगी। बशर्ते इस सिद्धांत का प्रतिपादन भी उसी अनुपात में सिखाया जाये।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Aapne thik kaha,Dwivediji,gahrai meN jaayeN to MANAK ARTH dhundhna kafi mushqil hai aur iske liye alag se shayad 10-5 posts likhni padeNgi.

    Is post meN aam prachalit arthoN ke sandarbh meN hi bat ki gayi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहद उम्दा व सार्थक लेख ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. यदि आप किसी एकको उदार और दूसरे को अनुदार कहना चाहते हैं, तो मामला फ़िर उलझ जायेगा. सारा मामला समझ का है.... फ़िर कभी. साधक-उम्मेद

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बडिया आलेख है । आजकल का धर्म मानव को उदार नहीं बना रहा हम धर्म के मर्म से कुछ भटक से गये हैं शायद इस लिये धर्म के नाम पर ही अधिक झगडे जो रहे हैं। आपकी पोस्ट विचार्णीय ह धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  10. " क्या आपने कभी सुना कि वस्त्र-विहीन आकृतियां बनाने वाले किसी पेण्टर ने या उसके समर्थकों ने वस्त्रदार पेण्टिग बनाने वालों पर आपत्ति की हो, उनकी पेण्टिग फाड़ डालीं हों "
    इसका उल्टा जरूर हुआ है .

    उत्तर देंहटाएं
  11. .... नजरिया प्रभावशाली जान पडता है !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत उदार कहाने वाले हिन्दुत्व का भी उदाहरण देखिये, तुलसी बाबा कहते हैं-
    जाके प्रिय न राम वैदेही
    तजिये ताहि कोटि बैरी सम
    जद्यपि प्रम सनेही
    तज्यो पिता प्रह्लाद, विभीषण बन्धु, भरत महतारी
    बलि गुरू तज्यो, कंत ब्रज बालन, भय मृदुमंगलकारी
    अर्थात जिसके प्रिय राम और वैदेही नहीं हैं उसे करोडों दुश्मनों के बराबर समझ कर त्याग दो भले ही वह परम स्नेही ही क्यों न हो। जिस तरह कि प्रह्लाद ने पिता को विभीषण ने भाई को, भरत ने माँ को, बलि ने गुरु को और बृज बालाओं ने अपने पतियों को त्याग दिया था। इस्लाम ने तो बहुत सारी हदें ही पार कर दीं हैं। जैनों में भी पहला शब्द अरि हंत ही सिखाया जाता है जिसका मतलब होता है अपने शत्रुओं को मारने वाला जबकि लोकायत में कहा गया है "यावत जीवेत सुखम जीवेत" और सुख से जीने की कल्पना करंर वाला शांति पसन्द करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपने बिल्कुल सही लिखा है. वस्तुतः सामान्य जनमानस कभी भी अनुदार नहीं होता. भारत में विभिन्न धर्म, संप्रदाय, वर्ण और जाति के लोग मिलकर एक साथ रहते आये हैं. अब भी हम उदार और सहिष्णु हैं. बस, इस बात को स्वीकार करने की ज़रूरत है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही बढिया प्रस्‍तुति है संजय भाई टिप्‍पणियों में भी विषय का अच्‍छा विमर्श हुआ है. धन्‍यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  15. अत्यंत ही सार्थक और गंभीर विषय पर आपने दृष्टिपात किया है....
    वस्तुतः धर्म शब्द साधारनतया जिस अर्थ और प्रयोजन में प्रयुक्त होता है,वह धर्म है ही नहीं...वह तो एक उन्माद ,मानसिक संकीर्णता और धर्म के नाम पर अहिंसक प्रवृत्ति में निवृत्त होना ,अपनी कुत्सित कुंठाओं का निराकरण करना है...
    धर्म और मानवीयता ही एक दूसरे के पर्यायवाची शब्द हैं...बल्कि यदि यह कहें कि मानवीयता की उच्चतम पराकाष्ठा धर्म है तो अधिक सही होगा...धर्म तो एक ही है पूरे संसार में...बाकी तो सब पंथ हैं...

    shree neeraj goswami ji ke blog par aapke pustak aur usme ullikhit rachnaon ko padh aapke lekhni ke prati man natmastak ho gaya...

    उत्तर देंहटाएं
  16. उदारता जो भी हो , वांछनीय है । आपने जो कहना चाहा , झलक रहा है । उदार मनुष्‍य कटटर नहीं हो सकता । उदार मनुष्‍य किसी सिद्धांत से इतना नहीं चिपकेगा कि मरने मारने पर उतारु हो जाय । उदार मनुष्‍य आपको खडा देखकर , खिसककर बैठने की जगह दे देगा । उदार मनुष्‍य आपके विचारों से सहमत न होते हुए भी आपका सम्‍मान करेगा । उदार पडोसी आपके ऐतराज करने पर अपने पार्टी म्‍यूजिक की आवाज कम कर देगा ।

    यह सब समझने के लिए कोई बडे सिद्धांतों की जरुरत ही नहीं है ।
    यह सबको पता है । बस तथाकथति रक्षार्थ संगठन बिचौलियों ने सब चौपट कर रखा है ।

    उदार मनष्‍य समझदार होगा और अक्‍ल के पीछे लटठ वगैरह लेकर नहीं दौडेगा । कुल मिलाकर उदार मनुष्‍य अपने कमतर प्रदर्शन स्‍तर पर भी जियो और जीने दो की भावना रखता है ।

    किसी भी ब्रांड का आदमी हो यदि वह इंसानियत को सर्वोपरि मानता है तो वह उदार है ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपने बहुत अच्छी और सच्ची बात कही। काश! आपसे ज़्यादातर लोग
    सहमत होते। तो यह दुनिया और सुन्दर होती।

    उत्तर देंहटाएं
  18. ये सवाल सवाल करने पर विवश तो करते ही हैं ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. क्‍या ब्‍लॉग जगत में उपस्थित कट्टरपंथी संजय भाई की बात सुन रहे हैं!!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. आजकल हर परिभाषा, हर वस्तु स्वार्थ के चश्मे से देखी जाती है, यही सारी गडबडियों की जड़ है।

    --------
    मानवता के नाम एक पत्र।
    इतनी सी है पहेली, आप तो पहचान ही लेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सलीके से और सुंदरता से बात रखी आपने. बहुत धन्यवाद.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  22. अरे वाह ग्रोवर जी! आप को आज पहली बार पढ़ा... नीरज जी का शुक्रिया... आप तक पहुंचाने के लिये...
    चलिये आज से हम आप और आप हमारी जमात में जुड़ गये... पागल पागल से टकरा गया...

    उत्तर देंहटाएं
  23. अरे वाह ग्रोवर जी! आप को आज पहली बार पढ़ा... नीरज जी का शुक्रिया... आप तक पहुंचाने के लिये...
    चलिये आज से हम आप और आप हमारी जमात में जुड़ गये... पागल पागल से टकरा गया...

    उत्तर देंहटाएं
  24. अरे वाह ग्रोवर जी! आप को आज पहली बार पढ़ा... नीरज जी का शुक्रिया... आप तक पहुंचाने के लिये...
    चलिये आज से हम आप और आप हमारी जमात में जुड़ गये... पागल पागल से टकरा गया...

    उत्तर देंहटाएं
  25. यही है उदारता की अपनी बात सलीके से कहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  26. संजय जी,

    आपका लेख पढ़ा....कोई धर्म नहीं सिखाता कि दूसरों के प्रति उदार मत हो...पर धर्म के नाम पर ही लोग एक दूसरे के प्रति अनुदार हो कर झगड़ते हैं या यूँ कहें कि लोग अपना उल्लू साधते हैं.. आम लोग ऐसे लोगों के प्रभाव में आ जाते हैं. और रही वेलेटाइन मनाने वालों कि बात तो जो नहीं मनाता वो ज़रूर जा कर उपद्रव करता है कि ये नहीं होना चाहिए. असल में उदार और अनुदार होने का प्रश्न बहुत पेचीदा है...बस कामना यही करनी चाहिए कि हम अनुदार ना हों....
    शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  27. आज की सामाजिक परिस्थिति में बहुत ही स्पष्ट और अच्छा विचार है ............ उदारता इंसान को इंसान के करीब ले कर आएगी ...... सार्थक लेख ..........

    उत्तर देंहटाएं
  28. उदारता क्या है ?

    मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर करना. ये तो हमने और आपने अपने - अपने लिए धर्म का निर्माण कर लिया है.

    बहुत बढ़िया आलेख.

    बधाई...!

    उत्तर देंहटाएं
  29. संजय भाई

    हालाँकि आलेख अच्छा है पर उदारता का यह मामला बहुत गम्भीरता का विषय है। यह बात सही है किसी नास्तिक ने किसी आस्तिक को नास्तिकता अपनाने पर ज़ोर नहीं दिया होगा (उल्टा भी सही है)। किंतु एक प्रकार के आस्तिकों का एक गुट तो दूसरे प्रकार के आस्तिकों के गुट की ऎसी तैसी करने मे तो लगा ही रहता है। वहाँ हमारी सारी उदारता की ऎसी तैसी हो जाती है। मतलब आप समझ ही गये होंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  30. bahut hi sundar aalekh likha hai..
    samaj ki vastvikta dikhate hue...

    उत्तर देंहटाएं
  31. bahut hi acchi post ..aapki soch ko salam sir


    ------ eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  32. आपने बड़ी सार्थक बात कही . टिप्पणियों में देखा इस विचार को चार चाँद लगते .हम सब उदार ही होते हैं , तथाकथित धर्म ,मजहब की दहलीज़ पर खड़े होने के पहले .आस्तिकों के धर्म मजहब को बाँटते देखता हूँ . नास्तिकों को जोड़ते ,इंसानों को .बस

    उत्तर देंहटाएं
  33. नीरज जी के ब्लौग से आपकी ग़ज़लों के जादू में डूबा खिंचा चला आया संजय जी और यहाँ आकर देखता हूँ कि आपकी कलम का तिलिस्म तो कातिलाना है।
    अब मार्क कर लिया है आपको। ग़ज़लों का दीवाना हूँ और आपकी किताब "खुदाओं के शहर.." मँगवाना चाहता हूँ। कितनी राशि भेजनी होगी और किस पते पर और कैसे। दूसरी बात कि मैं सेना में हूँ तो मेरा पता कुछ अजीब सा है जिस पर कुरियर नहीं आता।

    उत्तर देंहटाएं
  34. ग्रोवर जी बात आपकी ठीक है पर कुछ उदाहरण जँचे नही । मसलन नग्न तसवीर बनाने वाले किसी को कहते नही कि तुम भी ऐसी ही तसवीरें बनाओ पर दूसरे के श्रध्देय की नग्न तसवीरें बनायेंगे तो आपत्ती तो होगी ही ऐसे तो भ्रष्टाचारी भी आम आदमी को नही कहते कि तुम भी भ्रष्ट हो तो क्या भ्रष्ट आचार सही हो जायेगा । अति सर्वत्र वर्जयेत । आज ही आपकी किताब के लिये ऑर्डर किया है ।

    उत्तर देंहटाएं
  35. आशाजी, यहां मैंने श्रद्धेय की तस्वीरों की तो बात ही नहीं की।
    भ्रष्टाचारी सीधे-सीधे भले न कहता हो मगर भ्रष्टों के समाज में ईमानदार उपहास, उपेक्षा, अपमान, मानसिक प्रताड़ना और अकेलेपन का शिकार अकसर होता है। दूसरे जब आप किसी दफ्तर में काम के लिए जाते हैं तो भ्र्रष्टाचारी यह नहीं देखता-पूछता कि आप ईमानदार हैं या बेईमान, उसे आपकी ईमानदारी का पता लग भी जाए तो भी वह आपको बिना कुछ लिए नहीं छोड़ देने वाला। अपरोक्ष रुप से कर वह वही रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  36. agar ye sirf behes ya apne vicharrakhne wali baat hai to theek hi hai par is sab ke karan men jana ho to behes lambi ho sakti hai halan ki main bhi koi bahoot dharmik ya bahoot satvik naheen hoon aou mere andar tamam vahi av gun hain jo kisi sadharan insan men hote hain par kabhi kabhi vichar karne se esa lagta hai ki jab hum jaise sadharan insan ka jina haram ho sakta hai to in logoon ne samaj ke reformation ki baat sonchi aour kuch karne ka bida uthaya un logoon ko kin kin paristithiyoon ka samna karna pada hoga ram buddh mahaveer muhommed nanak kabeer osho sukrat nutan ainstine ese tamam log hain jinhone manav matr ke kalyan ke bare men soncha shayed aap aur hum unke muqabile men kuch bhi na kar parahe hain par is samaj ko kiya kaha jaye jo bas ek dookan bhar ban kar karobar fhailane men lag jata hai kal shayed aap ke peeche aap ke naam ki bhi koi dukan khul jaye par is men aap ke pryas ka kiya dosh aap ke vicharoon ka kiya dosh jub bhi aap ke man men koi naya vichar aata hai aap kisi na kisi maddhyam se use dosroon tak pahuchana chahete hain shayed humare pehle waloon ne bhi yahi kiya ho baad men hum ne apni apni dukan to banani hi thi

    उत्तर देंहटाएं
  37. संजय भाई आप नें बहुत सटीक टिप्पणी की है.धर्म क्या है यह सचमुच एक यक्ष सवाल है जो मुझे भी अक्सर झकझोरता रहता है।यदि आजकल के धर्माधिकारियों की दृष्टी से सोचें तो शायद धर्म उदारता,सहिष्णुता,और मानवियता के आस-पास भी नहीं फटकता।हां अगर आपका धर्म देश सेवा या समाज सेवा है तब यह संभव हो सकता है...लेकिन ये चीज़ें तो उन के सेलेबस का हिस्सा ही नहीं फिर ?????

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....