शनिवार, 2 मई 2009

आईए, मिलकर लिखें एक व्यंग्य.....


थोडी देर को मान लीजिए कि सरकार लालवाणी जी की बन गई है।

मगर इसबार विदेशी बहू की तरह कुर्बानी लालवाणी जी ने ही दे डाली है।

उनका कहना क़ाबिले-ग़ौर है कि पड़ोस में जींस रोकने वाले और जज़िया लगाने वाले कट्टरपंथी आ गए हैं और हमारा तो जीना-मरना सब पड़ोस की वजह से है तो ज़ाहिर है कि प्रधान भी कोई उन्हीं के टाइप का होना चाहिए। लालवाणी जी ने बाबा बयानदेव जी को प्रधान-संत्री और बाबा धांसूराम पोपू को राष्ट्राचार्य बना दिया है। बाक़ी कैबिनेट पर आप अंदाज़े मारिए।

मेरी दूर-दृष्टि अनुसार देश का भावी दृश्य कुछ इस प्रकार बनता है:-
मनोचिकित्सकों को पकड़कर ओझाओं और बाबाओं के हवाले कर दिया गया है। बाबा उन्हें पेड़ो से लटकाकर, नीचे से लाल मिर्चों की धूनी देकर इन पश्चिम-परस्तों का ‘इलाज’ कर रहे हैं।
सभ्यता और संस्कृति को शीघ्र पतन से बचाने के लिए स्त्रिओं के लिए एक बोरानुमा पोशाक का निर्माण किया गया है। माना गया है कि चूंकि इस का रंग काला नहीं है इसलिए इसकी तुलना दूसरी पोशाकों से करना अपने देश और धर्म से गद्दारी करना होगा।

अभी-अभी पता चला है कि युद्ध-स्थल पर दुश्मन देश ने हमारी सेनाओं के सामने बिल्ली छोड़ दी है। बिल्ली द्वारा रास्ता काट जाने के चलते हमारी सेनाएं हाथ पर हाथ धरे बैठी हैं। पुरोहितजन इस अनोखी रणनीति की काट ढंूढ रहे हैं। इस बीच दुश्मन हमारी ज़मीन कब्जाता चला जा रहा है।
इससे आगे का व्यंग्य आप पूरा करें---------
(संजय ग्रोवर)

73 टिप्‍पणियां:

  1. अपने दिमाक का तुरंत इलाज कराओ

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरेरे संजू भईया, कब आये आगरे ते छूटिकैं लला, अलाज तो पूरौ करबाय लेते!

    जेई कई हती कै दबाई टैम पे खाते रैते तो एसी हाल्त नांय होती, जा खोपड़ी के प्याले ते जादा ही परेसान है गये दीखौ!

    अबई जादा देर नांय भई, दबाई खाय लेउ, नांय तो एसेई आंय बांय पैंकते रहोगे

    अगली बार जब आगरे जाउ तो पूरमपट्ट अलाज करबाय कैं बापिस अईयो

    जै क्रिशन मुरारी की
    जै राधा प्यारी की

    उत्तर देंहटाएं
  3. पुरोहितजन इस अनोखी रणनीति की काट ढंूढ रहे हैं। kaat to woh dundh lete magar kisee ne chheenk diya shayad...

    उत्तर देंहटाएं
  4. जी हां, कुछ ओझाओं से ‘कंसल्ट’ कर रहा हूं। इस दौरान आप मेरी पिछली पोस्ट की ग़ज़ल का पहला शेर पढ़ें। व्यंग्य को आगे बढ़ाने के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. raj said...
    पुरोहितजन इस अनोखी रणनीति की काट ढंूढ रहे हैं। kaat to woh dundh lete magar kisee ne chheenk diya shayad...
    और छींकने का इलाज करवाने जाते इससे पहले ही किसी ‘ऊपरी हवा’ ने धावा बोल दिया......

    उत्तर देंहटाएं
  6. भारत में स्त्रियों ने कभी बोरानुमा कपड़े नहीं पहने। लाख बुराई हों हममें किन्तु यह बुराई तो आयातित है। इसे भारतीय सस्कृति तो न कहिए।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  7. फिलहाल हम किससे होड़ कर रहे हैं और किस ओर अग्रसर हैं, व्यंग्य उसपर है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. और बोरे से यहां मतलब उस स्त्री शरीर को सिर से पांव तक ढंक देने से है जिसे कथित राष्ट्रवादी पूरा का पूरा ही अश्लील मानते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. भइये हमारे मध्य प्रदेश का मुख्य मंत्री तो अभी भी यग्य करा के वर्षा करने का दावा कर रहा है अब ये बात अलग है की पूरेप्रदेश के मुख्य मंत्री के पूरे प्रदेश में वर्षा नहीं हुयी और जहां जहां हुयी वहां से उसकी पार्टी हारने वाली है
    virendra jain

    उत्तर देंहटाएं
  10. ना-ना! गड़बड़ा गए आप! इस पूरी प्रक्रिया की कल्पना आपने वैसे ही कर डाली जैसे नेहरू परिवार करता है. अरे भाई इस देश पर मालिकाना भाव से राज सिर्फ़ नेहरू परिवार ही कर सकता है. वह जब सत्ता से बाह्र हो तो भिंडरावाले को संत घोषित कर सक्ता है. आरक्षण के ख़िलाफ़ युवाओं से आत्मदाह करवा सकता है. ढांचा ढहना गुनाह है, और ताला खुलवाना पुण्यकर्म हो सकता है. चन्द्रास्वामी से लेकर बाबा बाकरदास तक से तांत्रिक पूजाएं करवाई जा सकती हैं. लेकिन यह सब सिर्फ़ एक परिवार के लिए है. अडवाणी कुछ दूसरे ढंग से करेंगे. उस बारे में अपनी कल्पना शक्ति को थोड़ा और मांजिए.

    उत्तर देंहटाएं
  11. मैंने तो आपकी कल्पना शक्ति पर छोड़ा था.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. टिप्पणियों से लग रहा है कि आपका व्यंग्य किसी को समझ में ही नहीं आया।

    वैसे याद होगा कि पहले भी कुछ लोग दिल्ली विश्वविद्यालय (Delhi University) में ज्योतिष-हस्तरेखा का कोर्स शुरू करने की असफल कोशिश कर चुके हैं। फैकल्टी का कहना था कि उन्हें ज्योतिष या हस्तरेखा-विज्ञान पर कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन इस कोर्स के सिलेबस और पठन-सामग्री आपत्तिजनक थी।

    हमारे भारत देश में सभी लोग सैद्धांतिक तौर पर अपने आप को देशप्रेमी घोषित करते हैं, लेकिन देशप्रेम से ज्यादा प्रेम उन्हें राजनैतिक पार्टियों से होता है, फिर चाहे उनके कुछ भी सिद्धांत हों (या कुछ भी सिद्धांत न हों)।

    उत्तर देंहटाएं
  13. हुज़ूर आपका भी एहतिराम करता चलूं ...........
    इधर से गुज़रा था, सोचा, सलाम करता चलूं ऽऽऽऽऽऽ

    उत्तर देंहटाएं
  14. एक भयावह सम्भावना की ओर संकेत करता है आपका आलेख जो पूरी तरह हवाई भी नहीं है।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  15. गुरुवर इसमें व्यंग्य कहाँ है? इसमें कल्पना भी नहीं है. आपने जो लिखा है वही होनेवाला है. भारत को आदिम काल में ले जाने की सोच ही जिनकी हो वे और कर भी क्या सकते हैं! अडवाणी जी आयेंगे तो यही सब होगा. याद है जब पिछली बार एनडीए की सरकार बनी थी तो बाबा लोगों की चांदी हो गयी थी. विकास कार्यों की जगह देश के कोने-कोने में यज्ञ हो रहे थे. उन्हीं यज्ञों ने भाजपा की लुटिया डुबो दी.

    उत्तर देंहटाएं
  16. अभी-अभी पता चला है कि जमादार से लड़ने वाले एक व्यक्ति को इस वर्ष का ‘देशरत्न’ सम्मान देने की घोषणा की गई है। एक अन्य व्यक्ति जो भ्रष्टाचार से लड़ता-फिरता था, को पागलखाने में दाखिल करा दिया गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. भई वाह आपका अंदाज़ भी अ ल ग है.... शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपका लेख प्रशंशा योग्य है!
    अच्चा.. क्या आप मुझे ये बता सकते हैं कि मै अपने द्वारा बनाये गए animation और videos किस प्रकार से चिठ्ठाजगत के माध्यम से लोगो तक पंहुचा सकता हूँ?

    उत्तर देंहटाएं
  19. RAJEEV THEPRA>bhootnath said...

    इक सवाल हूँ मैं....मैं कौन हूँ....!!
    इक सवाल है तू....तू कौन है .....!!
    छोड़ ना सवालों की यह झड़ी....
    मैं और तू मिल ही क्यूँ ना जाएँ.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. VYANGA achha laga . aap aise hi vyanga - vaan chalate rahiye .
    prabandha
    maniachi

    उत्तर देंहटाएं
  21. इधर संकटमोचन मंत्री बाबा नाम नैनसुख जी ने चिंता प्रकट की है कि गरीब बच्चों में कुपोषण की समस्या अति गंभीर है। इसके चक्कर में भारी मात्रा में यज्ञ-हवनादि कराने पड़ेंगे। जिसके चक्कर में देसी घी के पीपे पे पीपे बहाने पड़ेंगे। वक्तव्य देते वक्त बाबाजी के चेहरे से घी पसीने की तरह टपक रहा था।

    उत्तर देंहटाएं
  22. BILLI K RASTA KAAT JANE K BAAD SAADH PITA JI KO AAGE KARKE YUDH SURU HUA LEKIN BHASMASHUR JI PATA NAHI KAHAN GAYAB HO GAYE NAHI TO UNKO SAMJHA BUJHAKAR MANSIK APAHIJ LOG JA KAR BHASMASHUR JI KO SAMJHA BUJHAKAR YUDH JEET LIYE HOTE . HAMARE OJHA JI AISA MANTR PADHTE KI SAARI PAKISTANI SENA AMERICA PAHUNCH JAATI .
    HAMARI SAARI TAKAT NAKLI DESH PREM RASHTRVADITA BHASHAYI PREM MEIN HI LAGI REHTI HAI PAKISTAN VIRODH ,JAMMU AUR KASHMIR HAMARA HAI,AKHAND BHARAT KI PARIKALPANA HUM SOTE JAGTE KARTE REHTE HAI KABHI HUMNE MILAVATKHOR JAMAKHOR ,NAKLI DAVA BECHNE VALE ,NAKLI NOTE CHALANE VALE LOGO K KHILAF KOI BAAT HUM NAHI SOCHTE HAI .DESH KA NABBE PRATISHAT ADHIKARI KARAMCHAARI GHOOSH LENA APNA PARAM KARTAVY SAMAJHTA HAI .HONESTY IS THE BEST POLICY .KABHI HAMARA AGENDA NAHI HO SAKTI HAI .HUM HINDUVATV HINDUSTAAN ,HINDI KA MUKHUTA LAGA KAR RASHTR PREM KARTE RAHENGE .DESH K KHILAAF VIDESHO K LIYE JASOOSHI KARNE VALE LOG BHYI ISI TARAH K LOG HAI .DESH MEIN PEHLA VIDESHI JASOOSH MOHAN LAL KAPOOR THA INKI EK LAMBI JAMAT MUKHAUTA LAGAYE IS DESH MEIN UPDESH DENE KA KARY KAR RAHI HAI ,UPDESH AUR UPDESHAK MEIN AKASH AUR PATAL KI GEHRAI KA ANTAR HAI . YAHI DUNIYA KA SABSE BADA VYANG HAI .

    BHARAT BHUSAN KI YAH KAVITA KA ARTH IS VYANG KO POORA KARTA HAI :
    SABHI ADHAR YADI NISHABD HOTE
    NA PYASS ITNI JAVA NA HOTI
    NA JANM LETA AGAR KAHI MAIN
    DHARA BANI YADI MASAAN HOTI .
    NA MANDIRO MEIN MRADANG BAJTE
    NA MASJIDO MEIN AJAAN HOTI .

    AGAR PASAND AAYE TO APNE BLOG PAR PRAKASHIT KAR DIJIYEGA .

    SUMAN
    loksangharsha.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  23. सबसे बढिया बात राज जी ने कही है.जब बिल्ली के रास्ता काटने से रुकी सेना बढने को हुई तो किसी ने छींक दिया. वाह.... वैसे व्यंग्य बहुत बढिया जा रहा है, इसे आप ही पूरा करें न!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. मुझे भी राज का कमेंट काफी जंचा।
    इधर बज़रिए ईमेल kishore choudhary का कहना है:-
    संजय जी,
    एक बार सोचा क्या बला है फिर मेरा खाना भी ख़राब निकला कि एक साथ सरसरी तौर पे बीस एक ग़ज़लें पढ़ गया . कमाल हैं आप तो
    और व्यंग्य का तो कहना ही क्या अभी अभी सम्पूर्ण आदमी पढा ... ओह ओ बस इस बार की छुट्टी में आपकी ब्लॉग किताब पढूंगा.
    किशोर

    उत्तर देंहटाएं
  25. इधर प्रदेश-प्रधान ओझा चक्कू गोदमगोदी जी भी आजकल विकास पर उतारु हैं। उनका कहना है कि राज्य के सभी सती-मंदिरों का निर्माण अब अमेरिकी कंपनी के कोलाबोरेशन से होगा। रॉ मॅटीरियल इंग्लैण्ड से आएगा। हाँ, जलने वाली औरतें यहीं की होंगी। हो सकता है बाद में कोई देश इस पर भी राजी हो जाए।

    उत्तर देंहटाएं
  26. जासूस जोशी9 मई 2009 को 11:03 am

    श्री चक्कू गोदमगोदी ने यह भी बताया कि हमारी तानाशाही एकदम लोकतंत्र के माफिक होगी। छवि हमें प्रगतिशील वाली बनाए रखनी है।

    उत्तर देंहटाएं
  27. इसी क्रम में श्री ओझा चक्कू ने कहा कि लड़के और उसके घर-परिवार की हैसियत और जात-बिरादरी के अनुसार दहेज की गणना कैसे की जाए, इसके लिए भी एक विदेशी कंपनी से फाॅर्मूला विकसित करने का करार हुआ है। साथ ही, हमारी इस सांस्कृतिक धरोहर का पेटेंट कोई दूसरा देश अपने नाम से न करा ले, इस पर भी एक गुप्त समझौते की बात दोनों देशों के मध्य चल रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  28. ये चौके छ्क्के अच्छे मारे हैं बाकी सर्कार के बारे मे क्या कहें राम भरोसे ही चलेगी

    उत्तर देंहटाएं
  29. चक्कू जी ने यह भी तो कहा होगा गुरुवर कि जो ‘भगवा-न’ हैं वो या तो हमारे कहे अनुसार चलें नही ंतो उन्हें गैस-चैम्बर में डाल दिया जाएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  30. wow!wayang still continue.....par kya satee ourte hi hongee???woh janamo tak rishte nibhana chahtee hai???or marad.....??unke mandir ka collaboration kon se desh se hoga??oujha jee mardo pe bhi koee jhaadh foonk kare....

    उत्तर देंहटाएं
  31. दानव संसाधन विकास मंत्री के मन में आया कि क्यों ना देश के सभी नागरिक एक ही रंग के कपड़े पहनें। उन्होने दिमाग लगाया कि केसरिया या भगवा रंग- नहीं वह तो कौमवादी लोग पहनते हैं तो फिर हरा रंग? नहीं जबरन यह रंग पहनाने से तो दूसरे रंग के लोग नाराज होंगे! वे किसी को नाराज नहीं करना चाहते थे। तो फिर पीला रंग, नहीं उसे तेलुगुदेशम वाले बाबू पहनते हैं, गुलाबी- उसे तैलंगाना वाले पहनते हैं।
    काफी माथापच्ची करने और कपड़ा संत्री कंकरसिंह से सलाह मशविरा कर दानव संसाधन विकास मंत्री दुर्जनसिंह ने अद्यादेश जारी किया कि भारत के सभी कपड़ा कारखाने बिना किसी रंग के यानि पारदर्शक कपड़े ही बुनें जिससे किसी भी धर्म के लोगों की भावनाओं को ठेस नहीं लगेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  32. भई, आपके कमेंट को पढ़कर अकेले बैठे-बैठे भी हंसी छूट गयी ! बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  33. सुमन नेगी माताहारी10 मई 2009 को 11:58 am

    एक महिला पत्रकार ने स्त्री-पुरुष के मध्य सामाजिक, धार्मिक भेदभाव का सवाल उठाया है। महीमहिमा प्रचण्ड राष्ट्रदेविका झूलते-झूलते एकाएक स्थिर हो गयी हैं। गरिमामय माहौल में उन्होंने तीव्र सहिष्णुता के साथ, डांटती-डराती आंखों से पत्रकारिन को घूरा है। तत्पश्चात अगेन मौन में चली गयीं हैं। पत्रकारिन इस पवित्र ‘घूरन’ में निहित जवाब को समझ गयी है कि ‘अगर सवाल करना था तो फिर हमें क्यों चुना ? संदेह करना था तो श्रद्धा क्यों रखी ?’ पत्रकारिन ने पैरामृत वगैरह सिरोधार किया और करवाचैथ का सामान खरीदने को प्रोग्रेसिव-ऑर्थोडॉक्स स्टोर्स की तरफ निकल गयी है।

    उत्तर देंहटाएं
  34. रतिदेवी व्यथित हैं कि मरीज़ चंगा नहीं हो रहा।
    ‘कोई उपाय बताओ, महाचेली !’
    महाचेली:-
    ‘आ रति, गा। आ रति गा।’
    ‘आ रती, गा। आ रती गा।’
    ‘आरती, गा। आरती गा।’
    आ ! आहा ! मरीज कुनमुना रहा है ! सिर पर दोहत्थड़ मार रहा है। समझिए कि ठीक हो रहा है ! चमत्कार हो रहा है !
    डॉक्टरों को झोलों में भर-भर समुद्र में फेंका जा रहा है। बहते-बहते अमेरिका पहुंच जाएंगे। अमेरिका इन्हें लपक लेगा। फायदा उठाएगा। जिसका वर्णन अगले ग्रंथों में होगा। अमेरिका को कुछ नहीं आता ! हम फेंकते हैं वो लपक लेता है, बस !
    ‘आ रति, गा। आ रति गा।’

    उत्तर देंहटाएं
  35. यह अधूरा व्यंग्य नहीं, एक भयावह सम्भावना का संकेत है.

    उत्तर देंहटाएं
  36. लीजिए मित्रो, हमारे लिए एक खुशखबरी है। बजरिए ईमेल पंजाबी कलमकार श्री MohinderPal Bedi का कहना है:-
    Grover Bhai,
    Aap log mil kar is Viang ko pura kar lain ...main isay Punjabi main anuwad kadun ga.
    Bedi at mereanuwad.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  37. main vang likhne aur padhne ke mamle main thodi kacchi hoon....isliye maaf kijiyega.mere blog main aane ke liye dhanyawaad

    उत्तर देंहटाएं
  38. main apke vayang ko poora karne main apki madad nahi kar sakti..kyunki main is mamle main kacchi hoon.....mere blog main aane ke liye dhanyawaad

    उत्तर देंहटाएं
  39. एक बार मुझे घुसने दो, फिर निकालता हूं तुम्हारा सारा व्यंग्य-पंग।

    उत्तर देंहटाएं
  40. तुम तो आॅलरेडी ज़र्रे-ज़र्रे में विद्यमान हो महा गुरु। ध्यान रखना, हमें भी पता है तुम सब बिन-प्रोफाइल लोगों का प्रोफाइल एक सा होता है। बिन-प्रोफाइल-महिमा से ही तो यह व्यंग्य आगे बढ़ रहा है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  41. जासूस जोशी12 मई 2009 को 1:21 pm

    श्री श्री सरकार 2009 ने घोषणा फूंकी है कि जो संपादक तंत्र-मंत्र, भूत-प्रेत, नाग-नागिन, भाग्य-दुर्भाग्य-सौभाग्य, ज्योतिष-हस्तरेखा, हाहाकारी-पुनर्जन्म-भूतनी, आदि-इत्यादि पर विशेषांक निकालेंगे उन्हें मोटा-मोटा अनुदान दिया जाएगा। इस पर कई लघुपत्रिकाचारियों की प्रतिक्रियाएं हैं कि अगर यादवजी सिर हिला दे ंतो हम भी फाॅलोकरण कर लेंगे। क्या है कि वे कह दे ंतो सब जायज़ हो जाता है। नही ंतो उनके विरोध के नाम पर जायज़ हो जाता है। सो वे मना कर दे ंतो और भी बढ़िया रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  42. अभी कल ही पता चला है कि जया प्रदा ने
    पंडित के कहने पर गौ दान किया है !

    अब जीत पक्की है !

    है कोई काट आजम खान के पास ?

    उत्तर देंहटाएं
  43. दोस्तो, 16 मई से पहले-पहले व्यंग्य पूरा कर लो। उसके बाद किसी तांत्रिक ने मेरा कम्प्यूअर हैंग करके मुझे हंग कर दिया तो मुझसे मत कहना।

    उत्तर देंहटाएं
  44. संजू भईया गयेन तो रहें अलाज करबाय ....
    पर का किया जाए .... उहाँ कै बड़का डाक्टर कहे हैं एई तनिके अलाज न हुयी पायी ..... अलाज करवावै का है तो मरीज का साथै मां लेके आवौ !! तौ कित्तै खन चलिहो साथै मां !

    उत्तर देंहटाएं
  45. पता चला है कि बाबाओं, ओझाओं, तांत्रिकों, विज्ञान-विरोधियों और इण्अरनेट के सनातन दुश्मनों आदि सबने अपने-अपने ब्लाॅग खोल लिए हैं। एक संयुक्त बयान में उक्त सभी विद्वानों ने कहा है कि ब्लाग कोई नयी चीज़ नहीं है। हमारे ग्रन्थों में इसका भरपूर वर्णन है। जिस पीपर-पात पर हम लिखा करे थे और जो उड़ि-उड़ि कर छन-भर में इधर से उधर पहंुच जाया करते थे, वही बिलाग थे। इसका पूरा विवरण हम बाद में बनाकर देंगे, ऐसा उन्होने संयुक्त वक्तव्य में कहा है।
    मित्रों, अगर लालवानी जी आ गए तो मैं आपसे अगले जन्म में मिलूंगा (हां, हां, पुनर्जन्म को मैं भी नहीं मानता पर उनके आने के बाद तो मानना पड़ेगा न।)। और अगर कोई दूसरी सरकार आयी तो इसी जन्म में अगले जन्म की कामना करता मिलूंगा।
    इति-फिति।
    (यानि कि इतना ही आता है मुझे)।

    उत्तर देंहटाएं
  46. अगले शुक्रवार को पड़ौसी मुल्क का नया नाम तालिबानिस्तान रखा जायेगा। इस मुल्क का नाम पहले ओसामाबाद रखा जाना था, परन्तु हजरत ओसामा ने अपने पड़ौसी मुल्क भारत की त्याग परंपरा को अपनाते हुए अपने नाम से मुल्क का नाम रखने की बजाय तालिबानिस्तान रकने का निश्चय किया, और उनके इस कदम से चहुं ओर से उनकी प्रशंसा हो रही है, कई मुल्कों ने उन्हें प्रशंसा पत्र भेजे हैं जो AK 250 पर छपे हुए हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  47. भारतीय दानव विकास सम्साधन मंत्री दुर्जन सिंह ने ने हजरत ओसामा के इस महान त्याग को; भारतीय छात्रों को त्याग की महिमा समझाने हेतु पढ़ाने का निश्चय किया है और सभी स्कूलों को आदेश दिया है कि चालू वर्ष से पुआरी सभी किताबों को हटा कर नई किताबें पाठयक्रम में शामिल की जाये जिनमें हजरत ओसामा के त्याग पर एक विस्तृत लेख हो।

    उत्तर देंहटाएं
  48. नामकरण समारोह में हजरत ओसामा ने भारत सरकार को और लालवाणी जी को विशेष रुप से आमंत्रित किया है, क्यों कि पिछले दिनों लालवाणी जी ने अपनी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ओसामाजी को बिन साम्प्रदायिक कहा था।
    भारत में यह समाचार पहुंचते ही पक्श- विपक्ष के दलों में इस समारोह में शामिल होने की होड़ सी मच गई है। तांगारेस के जिन नेताओं को इस समारोह में जाने का मौका नहीं मिल पा रहा वे अमृतसर से तांगे में बैठ इस समारोह में शामिल होंगे।
    भारत में शुभ प्रसम्गों में दी जाने वाली पशुओं की बलि से प्रभावित होकर तालिबानी सरकार के प्रणेताओं ने इस शुब अवसर पर २१ अमरीकन पत्रकारों की बलि देने का निश्चय किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  49. जल्दबाजी में हुई गलतियों के क्षमा चाहता हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  50. मेरे ब्लॉग "हमसफ़र यादों का......." पर पधारने तथा मेरा उत्साहवर्धन करने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद, चलिए इसी बहाने आपके ब्लॉग से परिचय हो गया। जहाँ तक बात रही व्यंग्य पूरा करने की तो बताना चाहूंगा कि इस मामले में थोड़ा कच्चा हूँ। वैसे मुझे आपका यह प्रयोग काफ़ी पसंद आया। पधारते रहिएगा। पुनःश्च धन्यवाद!!!

    साभार
    "हमसफ़र यादों का......."

    उत्तर देंहटाएं
  51. भाई सागर जी, आपने जिस निरपेक्ष ढंग से इस व्यंग्य को संतुलित किया है, प्रशंसनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  52. चीन से कुछ इलैक्ट्राॅनिक तोते मंगाए गए हैं जो फ्रांस से आए रंगीन पिंजरों में बैठकर लोगों का भविष्य बांचेंगे। कंप्यूटर से कुण्डलियां तो हम कब से निकाल ही रहे हैं।
    और भी कई योजनाएं हैं।
    अगर आप भी इस तरह की प्रगतिशीलता में विश्वास रखते हैं तो अपने सुझाव आगामी-अतीत-मंत्री को भेज सकते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  53. घर-बाहर की औरतों, काॅलेजों के प्रिंसीपलों और लेखकों-चिंतकों-चित्रकारों-पत्रकारों को पीटने के लिए अब विद्यार्थियों की सेनाएं नहीं जाएंगी। इसके लिए जापान से रोबोट मंगाए जाएंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  54. बदरंग-दाल के काले-दिल-सेवक पार्क में घेरा बनाए हैं। पता चला है कि एक लड़का-लड़की को सुधार रहे हैं। लड़का-लड़की गुहार लगा रहे हैं कि सर, अब तो प्रेम हमारे समाज में स्वीकृत हो गया है, आपके बच्चा-बच्ची भी करते दिख जाते हैं। फिर हमें क्यों रोक रहे हैं !? काले-दिल प्रश्नोत्तर दे रहे हैं कि चलो स्वीकृत हो गया तो करलो पर अर्जेंटाइन डे क्यों मना रहे हो, अपना वाला पसंतोत्सव क्यों नहीं मनाते ? बच्चा-बच्ची का जुबान जरा और हिला तो बोल दिए कि सरजी प्यार कोई फिल्म या राजनीति है जो किसी बैनर के नीचे मनाना जरुरी है ? अब देखो बदरंग-दाल का गुस्सा ! कह रहे हैं कि या तो लगाओ हमारा झण्डा या बताओ कि कहां लगाएं तुम्हे डण्डा ?

    अब बताईए तो लड़का-लड़की क्या करेंगे ?

    उत्तर देंहटाएं
  55. दहेज के लिये बहुओं को जलाने के लिये आज विश्व के सभी बड़े अखबारों में टेंडर दिया जा रहा है, लेकिन भारत को इस व्यवसाय से बाहर रखा गया है, क्यों कि भारतीय इस मामले में अनाड़ी है बहू को जलाते जलाते अपने हाथ (और दामन भी) जला बैठते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  56. और खबर बाहर विदेश में चली जाती है। अतीत-पकड़ मंत्री श्री भयानक दलदल जी ने कहा है कि अंदर कुछ भी हो, खबर बाहर नहीं जानी चाहिए। यही हमारी संस्कृति भी है और कुछ-कुछ विदेश-नीति भी। उन्होने बात को और खोलते हुए कहा कि दरअसल दामन जलने से मतलब खबर बाहर जाने से ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  57. ab to UPA kee sarkaar bananee taya hai. behtar hai ki isa vyangya ko pooraa maana kar nayaa vyangya prarambha kiyaa jaay:

    (1) Sonia manio apana REMOTE kahaan rakhengg. apane paas yaa Raul ke paas?
    (2) dubaaraa counting men jeet kar aaye Chdambaram public kee Zeb kaise katarenge.
    (3) Kasab aur Afzal ke khaane ka menu kya hoga?
    (4) Bahan jee aur Raul bhaiya milengen to kya baate hongee?
    (5) Jaya Prada, Amar Singh aur Azam Khan ke Tirkone men Mulayam kona kaun sa hoga?
    (6) Lalu ab kise loliyaenge?
    ----
    List lambee ho rahi hai. filhal viraam detaa hoon. fir milenge. {Mera Linux system reinstall aur update ho raha hai isliye Devnagari men naheen likh paaya. Kshamaa karen}

    उत्तर देंहटाएं
  58. ब्लॉग पर कमेन्ट कर उत्साहवर्धन करने के लिए आभार.
    दिशा निर्देशित करते रहें.

    सादर
    आर्यावर्त

    उत्तर देंहटाएं
  59. सुना है सभी ‘कुड बी’ पी. एम. इन वेटिंग अत्यंत हताश हैं। हताशा की स्थिति में वे कुछ कर न बैठें, इसलिए सभी दलों ने अपने-अपने यहां एक-एक स्थायी ‘‘पी.एम.इन वेटिंग’’ पद का निर्माण करने की घोषणा की है। लालवानी जी ने गोदमगोदीजी को उपदेश भेजा है कि पूरी सतर्कता और चालाकी के साथ छवि बदलो वरना मेरी तरह मारे जाओगे। सुना है चक्कू जी अब सीस्ता तीतरयार के साथ दंगों पर बनी फिल्में देखेंगे और ज़ार-ज़ार रोएंगे। जिसका कि लाइव टेलिकास्ट किया जाएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  60. www.anubhuti-hindi.org पर पढ़िए संजय ग्रोवर की ग़ज़लें।
    (http://www.anubhuti-hindi.org/anjuman/s/sanjay_grover/index.htm)

    उत्तर देंहटाएं
  61. बेचारे लालवाणी जी,
    हमारे व्यंग्य को पुरा होने से पहले ही खतम कर दिये। सब मूड का सत्यानाश हो गया। अभी बहुत सी टिप्पणियां मन में थी।
    खैर,... गिरिजेश राव जी की बात से सहमत हूं, कोई नया विषय दीजिये।

    उत्तर देंहटाएं
  62. aaj hi aapkaa vyangya padaa, magar aub tak ka pari-drishya palat gayaa, kiyaa kyaa jaaye, vyagya adhoora chhora jaaye, yaa fir nayi sattaa ka jashan dekh kar fir koee turra jora jaaye.
    RENU.:- KAVYAGAGAN.BLOGSPOT.COM

    उत्तर देंहटाएं
  63. बज़रिए ईमेल somadri का कहना है:-

    आपकी मगजमारी तारीफे काबिल है..आपको एक दिन इसके लिए ऑस्कर जरुर मिलेगा, मेरी शुभकामनायें आपके साथ है - som-ras.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  64. बदले हुए परिद्Rश्य पर मैंने एक व्यंग्य लिखा है. आप .मेरे ब्लॊग पर आएं:

    http://girijeshrao.blogspot.com

    स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  65. Blog par protsahit karne ke liye dhanyavad.
    aapka vyang samaj ke katu satya ko dikhata
    hai .
    likhte rahiye .Best of luck.

    उत्तर देंहटाएं
  66. bhai,
    ab itne logo ne kaafi kuch kah diya hai , mujhe kahne ke liye kuch bach nahi .. phir bhi aapke lekhan ki tareef karunga aur jis tarah se dusare blogger bhai -bahano ne ise poora karne ka prayaas kiya hai , wo bhi sarahneey hai ..
    aapko badhai ..

    meri nayi kavita " tera chale jaana " aapke pyaar aur aashirwad bhare comment ki raah dekh rahi hai .. aapse nivedan hai ki padhkar mera hausala badhayen..

    http://poemsofvijay.blogspot.com/2009/05/blog-post_18.html

    aapka

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  67. Grover ji, Lalwaani to in dinon gusalkhaane men lal-peele ho rahe hain. Ab to aapki manmohini sarkaar hai. Billi ke peeche kutta chhor diya jaayega. Billi ko vaapas lakar muhurt bana liya jaayega.

    उत्तर देंहटाएं
  68. युवा जी, अगर वो कुत्ता भी अंधविश्वासी निकला तो उसके पीछे क्या छोड़िएगा !? कुत्ते में कोई इंसान से ज़्यादा ‘‘बुद्धि’’ थोड़े ही होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  69. aap ko jab jab padha hai kuchh na kuchh naya hi hota hai. badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  70. आपका प्रयोग मुझे तो लगता है सफल रहा है। बधाई। इस तरह के प्रयोग जारी रहने चाहिए। प्रयोग जो आपके योग में पहले आया, मेरे योग में आज। पर इसको शुरू करने के पहले प्रवर्तक हुए आप।

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....