शुक्रवार, 31 दिसंबर 2010

लाफ्टर चेलेंज

मैं हिंदू के घर गया
कहा दीवाली की बधाई
दोनों ने मुस्कान बिखेरी

मैं मुसलमान के घर गया
कहा नया साल मुबारक़
दोनों हंसे

मैं ईसाई के घर गया
कहा मैरी क्रिसमस
दोनों ने स्माइल दी

मैं इंसान के पास गया
काफ़ी देर ढूंढना पड़ा मुझको

वह बेघर था
त्यौहार तो छोड़िए
तारीख़ तक याद न थी उसे

दोनों काफ़ी देर तक
रोते रहे

-संजय ग्रोवर

27 टिप्‍पणियां:

  1. ufff!! sacg ne sanjay jee insaniyat marr chuki hai...:)

    nav varsh ki shubkamnayen..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेचारा आज कल कहां मिलता हे जी?बहुत सुंदर कविता धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. मैं इंसान के पास गया
    काफ़ी देर ढूंढना पड़ा मुझको

    वह बेघर था
    त्यौहार तो छोड़िए
    तारीख़ तक याद न थी उसे

    दोनों काफ़ी देर तक
    रोते रहे..
    वाकई दिल को छु जाने वाली लाइने ........

    उत्तर देंहटाएं
  4. नहीं बोल रहा जी मैं हैप्पी न्यू ईअर :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. सबको एक साथ इकट्ठा कर लीजिए, मुस्‍कान बनी रहेगी, हमेशा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. साहब जी मैनू तो बस इन्ना दस दयो की ये इन्सान अपना घर बनाता क्यों नहीं है. एक छोटी सी चिड़िया भी इस सर्दी के मौसम में अपना घोसला बनाकर उसमे रहती है तो ये इन्सान क्यों अभी तक बन्दर बन कर रह रहा है? कुछ मकान सकान बनाये वर्ना इस ठण्ड में तो हर किसी को खुले में रोना ही पड़ेगा. और अगर मकान नहीं है तो दिल्ली सरकार के रेन बसेरे हैं. वहीँ चला जाय.

    उत्तर देंहटाएं
  7. विचारशून्य जी, बंदर में संवेदना बढ़ी और विचार पैदा हुआ तो इंसान बना। जब वह वापस विचारशून्यता की ओर बढ़ा तो इंसान बनने का विकल्प शायद सामने रहा नहीं या दिखा नहीं तो पता नहीं वह क्या-क्या बना ;-)
    बहरहाल, ओशोप्रिय गोपालदास नीरज जी का शेर है:
    चांद को छूके चले आए हैं विज्ञान के पंख,
    देखना ये है कि इंसान कहां तक पहंुचे !
    अभिषेक जी, मत बोलिए आप, पर हमने तो सुन लिया :-)
    राहुलसिंह जी, देखिए यहां तो सबका आना-जाना लगा ही रहता है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. नये वर्ष की असीम-अनन्त शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी प्रतिटिप्पणी से उदयप्रकाश की यह कविता याद हो आई...

    आदमी
    मरने के बाद
    कुछ नहीं सोचता।

    आदमी
    मरने के बाद
    कुछ नहीं बोलता।

    कुछ नहीं सोचने
    और कुछ नहीं बोलने पर
    आदमी
    मर जाता है।


    उदयप्रकाश

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैं इंसान के पास गया
    काफ़ी देर ढूंढना पड़ा मुझको

    वह बेघर था
    त्यौहार तो छोड़िए
    तारीख़ तक याद न थी उसे

    दोनों काफ़ी देर तक
    रोते रहे..एक कसेला सच पर सच्चा. दिल और रूह तक जा कर घर कर गया और दो के साथ तीसरा यानि मैं भी रोने लगा .रफत

    उत्तर देंहटाएं
  11. सार्थक अभिव्यक्ति के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. संजय जी, बहुत गहरी बात कह दी आपने। दिल को छू गयी।

    ---------
    मिल गया खुशियों का ठिकाना।

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाकई दिल को छु जाने वाली लाइने ........

    उत्तर देंहटाएं
  14. umda prastuti sanjay jee..ye bhi baat sach hai ki ham aaj ye bhool gaye hai ki ham asliyat me ek insan hi hai....baki sab moh maya

    उत्तर देंहटाएं
  15. kya likh diya aapne.. starting mein padh raha tha main toh soch raha tha kya hai ye.. jab End padha toh rongte khade hogaye.. wahi baithay-baithay maine aapke liye taali bajayi.. Lajawaab thi.. Plz aisi aur likhein..

    उत्तर देंहटाएं
  16. संजयजी. बहुत अच्छी कविता. टिपण्णी करने के लिए मजबूर होना पड़ा.

    उत्तर देंहटाएं
  17. हृदय स्पर्शी रचना प्रस्तुत करने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर रचना...बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  19. इंसानियत लापता हो रही है ...कितनी गहरी बात कितने कम शब्दों में ..
    लाजवाब !

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह...क्या बात कही दी आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  21. ek insan ki talash..... anvaran prakriya hai shayad. sundar abhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपकि रचना ने सच मे ही मुझे रुल दिया

    उत्तर देंहटाएं
  23. आप्कि रचना ने सच मे मुझे रुल हि दिया

    उत्तर देंहटाएं

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते....

पुराने पोस्ट पढने के लिए इस पोस्ट के नीचे दाएं ‘पुराने पोस्ट’ पर क्लिक करें-

ख़ुद फंसोगे हमें भी फंसाओगे!

Protected by Copyscape plagiarism checker - duplicate content and unique article detection software.

ढूंढो-ढूंढो रे साजना अपने काम का मलबा.........

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (1) अंधविश्वास (1) अनुसरण (1) अफवाहें (1) असमंजस (2) अस्पताल (1) अहिंसा (2) आंदोलन (4) आतंकवाद (2) आत्म-कथा (3) आत्मविश्वास (2) आत्मविश्वास की कमी (1) आध्यात्मिकता (1) आरक्षण (3) आवारग़ी (1) इंटरनेट की नयी नैतिकता (1) इंटरनेट पर साहित्य की चोरी (2) इंसान (1) इतिहास (1) इमेज (1) ईमानदार (1) ईमानदारी (1) ईमेल (1) ईश्वर (5) उत्कंठा (2) उत्तर भारतीय (1) उदयप्रकाश (1) उपाय (1) उल्टा चोर कोतवाल को डांटे (1) ऊंचाई (1) ऊब (1) एक गेंद करोड़ों पागल (1) एकतरफ़ा रिश्ते (1) ऐंवेई (2) ऐण्टी का प्रो (1) औरत (1) औरत क्या करे (3) औरत क्या करे ? (3) कचरा (1) कट्टरपंथ (2) कट्टरमुल्लापंथी (1) कठपुतली (1) कम्युनिज़्म (1) कविता (57) क़ाग़ज़ (1) कार्टून (3) कुंठा (1) कुण्ठा (1) क्रांति (1) क्रिकेट (2) ख़ज़ाना (1) खामख्वाह (2) खीज (1) खेल (1) गज़ल (4) ग़जल (1) ग़ज़ल (26) गाना (2) गाय (2) ग़ायब (1) गीत (2) ग़ुलामी (1) गौ दूध (1) चमत्कार (2) चरित्र (3) चलती-फिरती लाशें (1) चालू (1) चिंतन (1) चिंता (1) चिकित्सा-व्यवस्था (1) चुनाव (1) चुहल (2) चोरी और सीनाज़ोरी (1) छप्पर फाड़ के (1) छोटा कमरा बड़ी खिड़कियां (3) जड़बुद्धि (1) ज़बरदस्ती के रिश्ते (1) जागरण (1) जाति (1) जातिवाद (2) जानवर (1) ज़िंदगी (1) जीवन (1) ज्ञान (1) टॉफ़ी (1) डर (3) डायरी (3) डीसैक्सुअलाइजेशन (1) ढिठाई (2) ढोंगी (1) तंज़ (10) तन्हाई (1) तर्क (2) तसलीमा नसरीन (1) ताज़ा-बासी (2) तोते (1) दबाव (1) दमन (1) दयनीय (1) दर्शक (1) दलित (1) दिमाग़ (1) दिमाग़ का इस्तेमाल (1) दिल की बात (1) दिल से (1) दिल से जीनेवाले (1) दिल-दिमाग़ (1) दिलवाले (1) दुनियादारी (1) दूसरा पहलू (1) देश (1) देह और नैतिकता (6) दोबारा (1) दोमुंहापन (1) दोस्त (1) दोहरे मानदंड (3) दोहरे मानदण्ड (14) दोहा (1) दोहे (1) धर्म (1) धर्मग्रंथ (1) धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री (1) धर्मनिरपेक्षता (4) धारणा (1) धार्मिक वर्चस्ववादी (1) नकारात्मकता (1) नक्कारखाने में तूती (1) नज़्म (4) नज़्मनुमा (1) नज़्मनुमां (1) नफरत की राजनीति (1) नया (2) नाथूराम (1) नाथूराम गोडसे (1) नाम (1) नास्तिक (6) नास्तिकता (2) निरपेक्षता (1) निराकार (2) निष्पक्षता (1) पक्ष (1) परंपरा (3) परतंत्र आदमी (1) परिवर्तन (4) पशु (1) पहेली (3) पाखंड (7) पाखंडी (1) पाखण्ड (6) पागलपन (1) पिताजी (1) पुरस्कार (2) पैंतरेबाज़ी (1) प्रगतिशीलता (2) प्रतिष्ठा (1) प्रयोग (1) प्रायोजित (1) प्रेम (2) प्रेरणा (2) प्रोत्साहन (2) फ़क्कड़ी (1) फालतू (1) फ़िल्मी गाना (1) फ़ेसबुक-प्रेम (1) फैज़ अहमद फैज़्ा (1) फ़ैन (1) बंद करो पुरस्कार (2) बच्चन (1) बजरंगी (1) बड़ा (1) बदमाशी (1) बदलाव (4) बहस (15) बहुरुपिए (1) बासी (1) बिजूके (1) बिहारी (1) बेईमान (1) बेशर्मी (2) बेशर्मी मोर्चा (1) बेहोश (1) ब्लाॅग का थोड़ा-सा और लोकतंत्रीकरण (3) ब्लैकमेल (1) भक्त (1) भगवान (2) भारत का चरित्र (1) भारत का भविष्य (1) भावनाएं और ठेस (1) भीड़ (1) भ्रष्टाचार (7) मंज़िल (1) मनोरोग (1) मनोविज्ञान (6) मर्दानगी (1) महात्मा गांधी (3) महानता (1) मां (1) माता (1) मानवता (1) मान्यता (1) मूर्खता (3) मूल्य (1) मेरिट (2) मौक़ापरस्त (2) मौक़ापरस्ती (1) मौलिकता (1) युवा (1) योग्यता (1) रंगबदलू (1) रचनात्मकता (1) रद्दी (1) रहस्य (2) राज़ (1) राजनीति (4) राजेंद्र यादव (1) राजेश लाखोरकर (1) राष्ट्र-प्रेम (3) राष्ट्रप्रेम (1) रास्ता (1) रिश्ता और राजनीति (1) रुढ़ि (1) रुढ़िवाद (1) रुढ़िवादी (1) रोज़गार (1) लघु कथा (1) लघु व्यंग्य (1) लघुकथा (7) लघुव्यंग्य (2) लालच (1) लोग क्या कहेंगे (1) वामपंथ (1) विचार की चोरी (1) विज्ञापन (1) विवेक (1) विश्वगुरु (1) वेलेंटाइन डे (1) वैलेंटाइन डे (1) व्यंग्य (80) व्यंग्य कथा (1) व्यंग्यकथा (1) व्यंग्यचित्र (1) शब्द और शोषण (1) शरद जोशी (1) शराब (1) शातिर (2) शायद कोई समझे (1) शायरी (45) शायरी ग़ज़ल (1) शेरनी का दूध (1) संगीत (2) संघर्ष (1) संजय ग्रोवर (3) संदिग्ध (1) संस्मरण (3) सकारात्मकता (1) सच (1) सड़क (1) सपना (1) सफ़र (1) समझ (2) समाज (6) समाज की मसाज (39) सर्वे (1) सवाल (3) सवालचंद के चंद सवाल (9) सांप्रदायिकता (5) साकार (1) साभार (3) साहित्य (1) साहित्य की दुर्दशा (5) साहित्य में आतंकवाद (17) स्त्री-विमर्श के आस-पास (19) स्लट वॉक (1) हमारे डॉक्टर (1) हल (1) हास्य (2) हास्यास्पद (1) हिंदी दिवस (1) हिंदी साहित्य में भीड/भेड़वाद (2) हिंदी साहित्य में भीड़/भेड़वाद (5) हिंसा (1) हिन्दुस्तानी चुनाव (1) होलियाना हरकतें (2) active deadbodies (1) animal (1) atheism (1) audience (1) awards (1) Blackmail (1) chameleon (1) character (1) communism (1) cow (1) cricket (1) cunning (1) devotee (1) dishonest (1) Doha (1) dreams (1) employment (1) experiment (1) fan (1) fear (1) forced relationships (1) formless god (1) friends (1) funny (1) funny relationship (1) ghazal (12) god (1) gods of atheists (1) greatness (1) hindi literature (3) Hindi Satire (8) history (1) humanity (1) Humour (3) hypocrisy (3) hypocritical (2) innovation (1) IPL (1) life (1) literature (1) logic (1) Loneliness (1) lyrics (3) mob (1) movements (1) music (2) name (1) one-way relationships (1) opportunist (1) opportunistic (1) oppressed (1) paper (1) parrots (1) pathetic (1) pawns (1) plagiarism (1) poem (1) poetry (19) pressure (1) prestige (1) puppets (1) radicalism (1) Rajesh Lakhorkar (1) rationality (1) royalty (1) sanctimonious (1) Sanjay Grover (1) satire (22) secret (1) senseless (1) short story (4) slavery (1) song (2) sponsored (1) spoon (1) stature (1) The father (1) The gurus of world (1) tradition (1) trash (1) travel (1) ultra-calculative (1) values (1) verse (3) vicious (1) woman (1) world cup (1)

देयर वॉज़ अ स्टोर रुम या कि दरवाज़ा-ए-स्टोर रुम....